Covid-19 Update

41,860
मामले (हिमाचल)
33,336
मरीज ठीक हुए
667
मौत
9,525,668
मामले (भारत)
64,510,773
मामले (दुनिया)

#Covid-19 ने धरा घातक रूप: बच्चे के दिमाग की नस को नुकसान पहुंचने का पहला केस मिला

कोरोना के कारण बच्ची की दृष्टि कमज़ोर हुई है

#Covid-19 ने धरा घातक रूप: बच्चे के दिमाग की नस को नुकसान पहुंचने का पहला केस मिला

- Advertisement -

नई दिल्ली। देश भर में जारी कोरोना वायरस (Coronavirus) के कहर के बीच राजधानी दिल्ली में स्थित देश के सबसे बड़े अस्पताल एम्स (AIIMS) से कोविड-19 (Covid-19) संक्रमण का एक बड़ा ही विचित्र मामला सामने आया है। बतौर रिपोर्ट्स, कोविड-19 के कारण बच्चे के मस्तिष्क की नस को नुकसान पहुंचाने का पहला मामला यहां रिपोर्ट किया गया है। चाइल्ड न्यूरोलॉजी विभाग की प्रमुख डॉ. शेफाली गुलाटी ने बताया, ‘हमें एक 11-वर्षीय लड़की में कोविड-19 के कारण एक्यूट डिमाइलिनेटिंग सिंड्रोम मिला है केस की रिपोर्ट पब्लिश करेंगे।’ बतौर रिपोर्ट, इससे बच्ची की दृष्टि कमज़ोर हुई है। बता दें कि डॉ. गुलाटी की देखरेख में लड़की का इलाज चल रहा था। इम्यूनोथेरेपी के साथ उसकी स्थिति में सुधार हुआ और लगभग 50 प्रतिशक दृष्टि बहाल होने के बाद उसे अस्पताल से छुट्टी दे दी गई।

दिमाग में आई सूजन से खो गई मरीज की याददाश्‍त

इससे पहले महाराष्‍ट्र के पालघर से भी कुछ इसी तरह का मामला करीब हफ्ते भर पहले रिपोर्ट किया गया था, जिसमें मरीज की ना केवल याददाश्‍त पर असर पड़ा बल्कि उसे अपनी बीमारी के दिनों की भी याद नहीं था। मरीज के पेट और सिर में दर्द था लेकिन कोरोना का कोई लक्षण नहीं द‍िखाई दे रहा था। कोरोना के न्‍यूरोलॉजिकल या नर्वस सिस्‍टम से जुड़ी समस्‍या बहुत दुर्लभ किस्‍म की हैं। अब इन पर ध्‍यान दिया जा रहा है। अमेरिका में भी कई मरीजों ने कोरोना से उबरने के बाद मेमरी लॉस और भूलने की शिकायत की है।

यह भी पढ़ें: आज शाम 6 बजे राष्‍ट्र के नाम संदेश देंगे PM मोदी; ट्वीट कर लिखा- जरूर जुड़ें

पालघर से सामने आए मामले में आज से करीब 2 माह पहले शाइस्‍ता नाम की पीड़िता महिला को पेटदर्द और सिरदर्द की शिकायत के बाद अस्‍पताल ले जाया गया। उस समय उनकी हालत ऐसी थी कि कई नर्सों और डॉक्‍टरों की कोशिश के बावजूद उनका सैंपल नहीं लिया जा सका। फिलहाल, शाइस्‍ता ठीक हैं और बताती हैं कि उन्‍हें अपनी बीमारी के आठ दिनों की जरा भी याद नहीं है। डॉक्‍टरों की मेहनत के बाद जब शाइस्‍ता शांत हुईं तो उनका सैंपल लिया गया। इसमें पता चला कि उन्‍हें वायरल मैनेंजाइटिस हुआ है। यह कोरोना से होने वाली एक जटिलता है। डॉक्‍टर कहते हैं कि शाइस्‍ता भाग्‍यशाली हैं कि उन्‍हें सही समय पर इलाज मिल गया। शाइस्‍ता के ही एक रिश्‍तेदार को भी इसी तरह का इन्‍फेक्‍शन हुआ था और वह अभी तक कोमा में है।

हिमाचल की ताजा अपडेट Live देखने के लिए Subscribe करें आपका अपना हिमाचल अभी अभी Youtube Channel 

- Advertisement -

loading...
Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है