live: धारा 370 पर अमित शाह का जवाब, गिना रहे अनुच्छेद खत्म करने के फायदे

बोले- देश को 2 पीएम पाकिस्तान से आए शरणार्थियों ने दिए हैं

live: धारा 370 पर अमित शाह का जवाब, गिना रहे अनुच्छेद खत्म करने के फायदे

- Advertisement -

नई दिल्ली। राज्यसभा (Rajya Sabha) में गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने अनुच्छेद 370 को खत्म करने पर जवाब देते हुए कहा कि आज में एक ऐतिहासिक संकल्प और बिल लेकर आया हूं जिस पर कई सदस्यों ने शंकाएं जताई हैं। उन्होंने कहा कि आज में एक ऐतिहासिक संकल्प और बिल लेकर आया हूं जिस पर कई सदस्यों ने शंकाएं जताई हैं। उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर (Jammu and Kashmir) में लंबे रक्तपात का अंत धारा 370 के खत्म करने से होगा। शाह ने कहा कि इस मौके पर आज मैं हमारे पहले राष्ट्रीय अध्यक्ष श्यामा प्रसाद मुखर्जी को भी याद करना चाहता हूं। शाह ने कहा कि 41800 लोगों ने जान गंवाई है, अगर धारा 370 न होती तो इन लोगों की जान न जाती। ज्यादतर पर बातें तकनीक पर हुईं जबकि धारा 360 की उपयोगिता पर कोई बात नहीं हुई। इससे क्या हासिल होने वाला है इस पर कुछ बात नहीं हुई। इसकी वजह से घाटी, लद्दाख और जम्मू कश्मीर के लोगों का नुकसान हुआ है।


यह भी पढ़ें :-मिशन कश्मीर : जम्मू-कश्मीर बना केंद्र शासित प्रदेश, लद्दाख को इससे किया गया अलग

गृहमंत्री ने आगे कहा कि जम्मू कश्मीर में जो पाकिस्तान के शरणार्थी गए उन्हें आज तक नागरिकता नहीं मिल पाई है। देश को 2 पीएम पाकिस्तान से आए शरणार्थियों ने दिए हैं। मनमोहन सिंह और गुजराल जी। 370 ने जम्मू कश्मीर और लद्दाख से लोकतंत्र वहां मजबूत नहीं हो पाया और भ्रष्टाचार बढ़ता चला गया। घाटी के गांव आज भी गरीबी में जीने को मजूबर हैं क्योंकि वहां बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं इसी 370 की वजह से नहीं मिल पाई। साथ ही यह महिला विरोध, दलित विरोध और आतंकवाद की जड़ यही 370 है। उन्होंने आगे कहा कि 370 की वजह से जम्मू कश्मीर और लद्दाख में लोकतंत्र मजबूत नहीं हो पाया।जम्मू कश्मीर में बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं 370 की वजह से नहीं मिल पाईं।


अमित शाह
ने कहा कि जम्मू कश्मीर के बच्ची ने ओडियावासी से शादी कर दी तो क्या उसे और उसके बच्चों को वहां कोई अधिकार मिलने वाला है। खुला होने पर जम्मू कश्मीर साफ अर्थों में हिन्दुस्तान के साथ मिल जाएगा। उन्होंने कहा कि वहां ओबीसी को आरक्षण नहीं मिलता, दलितों, आदिवासियों को राजनीतिक आरक्षण नहीं मिलता है, यही वजह से मायावतीजी की पार्टी ने इस बिल का समर्थन किया है। गृह मंत्री ने कहा कि कुछ पार्टियां NGO ब्रिगेड से इस बिल को कोर्ट में चुनौती देंगे, लेकिन कोई भी लीगल जांच से इस बिल को कुछ नहीं होने वाला है।

शाह ने कहा कि धारा 370 की वकालत करने वाले बताएं कि घाटी के बच्चों को शिक्षा का अधिकार क्यों नहीं मिलना चाहिए। उन्हें संविधान संशोधन करने के बाद भी वहां के बच्चों को RTE का लाभ नहीं मिला, लेकिन कल जब लोकसभा इसे पास करेगी तो कल रात से हर बच्चे को शिक्षा का अधिकार मिलेगा। वहां प्राइवेट संस्थान नहीं है, कौन निवेश करेगा, क्योंकि उसके नाम पर संपत्ति तो हो ही नहीं सकती। अमित शाह ने कहा कि हम राष्ट्रहित का बिल लेकर आए थे आप तो इंदिरा जी के इलाहाबाद कोर्ट के फैसले से बचाने का संवैधानिक सुधार तो उसी दिन लेकर आए और पारित कराया था, आप हमें उपदेश देते हैं कि सुबह ही क्यों बिल लेकर आए। 370 हटाने से घाटी का भला होने वाला है और सही अर्थों में जम्मू कश्मीर भारत का अभिन्न अंग बनने वाला है।


हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें …. 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

पुलिस हिरासत से भागा चिट्टा तस्कर दबोचा, दो पुलिस कर्मी सस्पेंड

शिक्षा बोर्ड भरेगा जेओए (आईटी) के यह तीन पद, कल से करें ऑनलाइन आवेदन

सत्ती का बड़ा आरोपः खनन के काम में लगे मुकेश के पीए, बहस की दी चुनौती

हिमाचल विधानसभा में अब सवालों के प्रतिवेदनों के कागजी दस्तावेज नहीं मिलेंगे !

मानसून सत्रः ग्रामीण विद्या उपासक व पैट वेतन विसंगति पर यह बोले शिक्षा मंत्री

डीसी से मिलीं पंचायत प्रधानः बोलीं-क्वार्टर आने को कह रहा अधिकारी, नहीं होने दे रहा काम

मानसून सत्रः एनपीएस और पेंशन बढ़ोतरी को लेकर सदन में क्या बोले जयराम-जानिए

राठौर बोले, चिदंबरम की गिरफ्तारी सोची-समझी राजनीतिक रणनीति

तीन घंटे की पूछताछ में चिदंबरम ने नहीं किया सहयोग, कोर्ट में पेशी कुछ देर में

लोगों ने भूखे-प्यासे रहकर बिताई रात, शाम तक बहाल हो पाएगा मनाली-लेह मार्ग

मानसून सत्र : पी चिदंबरम की गिरफ्तारी पर कांग्रेस ने किया वॉकआउट

जंगली मशरूम खाने से महिला की मौत, तीन पहुंचे अस्पताल

मणिमहेश यात्रा के रास्ते में भूस्खलन, कुरांह के पास यातायात ठप

ई-विधान की जानकारी लेने शिमला पहुंचे उड़ीसा के विधायक

कोहिनूर इमारत मामला : पूछताछ के लिए ईडी कार्यालय रवाना हुए राज ठाकरे

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है