Covid-19 Update

1033
मामले (हिमाचल)
675
मरीज ठीक हुए
09
मौत
6,49,889
मामले (भारत)
11,197,281
मामले (दुनिया)

Dalai Lama की उपस्थिति में उनके निवास स्थान में Buddha Purnima पर बोधिचित्त समारोह आयोजित

बोधिसत्व प्राप्ति के सात अभ्यास के बारे में विस्तारपूर्वक अनुयायियों को दी जानकारी

Dalai Lama की उपस्थिति में उनके निवास स्थान में Buddha Purnima पर बोधिचित्त समारोह आयोजित

- Advertisement -

मैक्लोडगंज। तिब्बतियों के धार्मिक गुरु दलाई लामा (Dalai Lama) की उपस्थिति में मैक्लोडगंज स्थित उनके अस्थायी निवास स्थान में बुद्ध पूर्णिमा पर बोधिचित्त समारोह (Bodhichitta ceremony) आयोजित किया गया। कोरोना वायरस की फैली महामारी के चलते दलाई लामा ने अपने निवास से पूर्णिमा के दिन बोधिचित्त समारोह के अवसर पर गौतम बुद्ध की शिक्षाएं दीं। उन्होंने बोधिसत्व प्राप्ति के 7 अभ्यास के बारे में विस्तारपूर्वक अनुयायियों को जानकारी दी। उन्होंने कहा कि धार्मिक बनने के लिए मन को शुद्ध करने की आवश्यकता है। मन तभी शुद्ध होगा, जब हम अपने अंदर के गलत विचारों को नष्ट कर बोधित्व को प्राप्त कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि भौतिक विकास से शारीरक सुख मिलता है। लेकिन मानसिक सुख करुणा, प्रेम और मैत्री से प्राप्त होता है। दलाई लामा ने कहा कि मनुष्य को दुखी बनाने का मूल कारक अविद्या है। शून्यता का ज्ञान होने से अविद्या का क्षय होता है।


बोधिचित्त की विस्तार से व्याख्या की

दलाई लामा ने प्रवचन (Preaching) में शून्यता का सिद्धांत, परहित, क्लेश, बोधिचित्त की विस्तार से व्याख्या की। सिर्फ शांति (Peace) की स्थापना और बोधिचित्त की प्राप्ति के लिए शून्यता का सिद्धांत जरूरी है। स्वयं ही बोधिचित्त का उत्पादन करें। अपने पराए सभी के हितों के लिए बुद्धत्व प्राप्त करना चाहिए। शून्यता के दर्शन से बुद्धत्व की प्राप्ति हो सकती है। परहित के लिए दयाए करुणा ज़रूरी है। यह बुद्धत्व से प्राप्त होता है। भगवान बुद्ध (Lord Buddha) ने कहा है कि धन से नहीं, बोधिचित्त का पाठ करने से लाभ मिलता है। धर्म का अभ्यास जरूरी है। जो लोग दुखी हैं, उनका दुख हाथों से नहीं हटाया जा सकता। इसलिए बुद्ध ने बोधि ज्ञान को समझा। आप खुद उनके मार्ग पर चलकर दुखों को दूर कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: बुद्धं शरणं गच्छामि…धम्मं शरणं गच्छामि…

स्वार्थी चित्त एक तरह की बुराई

दलाई लामा ने कहा चित्त में उत्साह रहने पर ही बोधिचित्त को प्राप्त कर सकते हैं। यह परहित से ही संभव है। क्लेश और अज्ञानता के कारण हम बुराइयों को जान नहीं पाते। स्वार्थी चित्त एक तरह की बुराई है। इससे क्लेश पैदा होती है। हमारे अंदर की बुराइयों को दूर करने के लिए चित्त में परिवर्तन लाना होगा। स्वार्थ की भावना का त्याग किए बिना सुख नहीं मिल सकता। द्वेष से बढ़कर कोई पाप नहीं है। क्रोध करने वाला सुखी नहीं रहता है। दुनिया में ज्यादा समस्याएं ईर्ष्या व बैर की वजह से हैं। इन्हें शून्यता के सिद्धांत से नष्ट किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि क्षमा से बढ़कर कोई पुण्य नहीं। हृदय में क्षमा का गुण होना चाहिए। धैर्य के अभ्यास का अवसर दुश्मन से ही मिलता है।

https://www.youtube.com/watch?v=PWAYVLq2hn4&t=284s

- Advertisement -

loading...
loading...
Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

बड़ी खबरः पर्यटकों को Covid-19 टेस्ट की शर्त से मिल सकती है छूट

हिमाचल की पंचायतों में स्थापित होंगे Display Panels, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए CM को देख सकेंगे

Jammu Kashmir के कुलगाम में सुरक्षा बलों ने मार गिराया एक Terrorist, मुठभेड़ जारी

CM Jai Ram की सुरक्षा करने वाले अधिकारी को भी बदल डाला, 35 एएसपी-डीएसपी बदले

हिमाचल Electricity Board कर्मचारी को लाइन ठीक करते लगा करंट,मौत

सुंदरनगरः दुष्कर्म का आरोपी बद्दी से गिरफ्तार,पांच दिन के Police Remand पर भेजा

Job Alert: हिमाचल में निकल आई नौकरियां, आवेदन करने के लिए यहां करना होगा क्लिक

भारत-चीन विवाद के बीच Manali-Leh Road पर भारी वाहनों की आवाजाही पर रोक

Fourlane का ये कैसा कामः पहाड़ पर चल रही कटिंग, Highwayसे गुजारी जाती हैं गाड़ियां

धर्म चक्र दिवस: आज की चुनौतियों से लड़ने का समाधान Lord Buddha के आदर्शों से ही मिलेगा

Covid-19 प्रकोप के बीच Himachal Pradesh के एक BJP MLA की बिगड़ी तबीयत

Himachal में कोरोना से 9 वीं Death, हमीरपुर के बुजुर्ग ने नेरचौक में तोड़ा दम

Corona Update: डीएसपी के ड्राइवर सहित हिमाचल में आज 19 पॉजिटिव, 39 लोग हुए ठीक

बड़ी खबरः हिमाचल में एंट्री को E-Pass की नहीं जरूरत, अब करना होगा ऐसा

जल जीवन मिशन के तहत 2022 तक Himachal के हर घर में लगेगा घरेलू कनेक्शन

loading...
Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

HP : Board

SOS अगस्त व सितंबर की परीक्षाओं के ऑनलाइन पंजीकरण की तिथियां घोषित

CBSE ने टीचर्स के लिए शुरू किए Online कोर्स: यहां देखें डीटेल्स

Himachal में अध्यापकों को 12 तक छुट्टियां; 13 से होगी Online पढ़ाई शुरू

HPU सहित प्रदेश के 17 Colleges को मिलेगा कुल 27 करोड़ का ग्रांट; जानें किसके हिस्से में कितना

HPBOSE: SOS का 10वीं व 8वीं कक्षा का Result Out, दसवीं में  32.07 फीसदी हुए पास

15 जुलाई तक जारी होंगे CBSE- ICSE के नतीजे, असेसमेंट स्कीम को Supreme Court की मंजूरी

NCERT: स्कूलों के लिए अब आएगा नया सिलेबस; 15 साल बाद सरकार ने दिया ये आदेश

CBSE 10वीं की परीक्षा रद्द, 12वीं को दो ऑप्शन!, ICSE बोर्ड भी बोला- रद्द करने के लिए सहमत

Himachal में पहली जुलाई से नहीं खुलेंगे School, शिक्षा मंत्री बोले - केंद्र की गाइडलाइन का करेंगे इंतजार

हिमाचल शिक्षा बोर्ड ने D.EL.ED CET- 2020 की आवेदन तिथि बढ़ाई

HPBOSE 12th Result: दो दृष्टिबाधित बेटियों ने लहराया कामयाबी का परचम; पढ़ें पूरी खबर

Commerce की टॉपर मेघा गुप्ता का सपना भी IAS बनना, सिरमौर के 8 छात्रों ने मेरिट में बनाया स्थान

HPBOSE 12th Class Result : साइंस संकाय में Auto चालक का बेटा Prakash बना Topper, बनना चाहता है IAS

HPBOSE: जमा दो कक्षा का पूरा रिजल्ट देखने के लिए यहां क्लिक करें

HPBOSE 12th Class Result: यहां देखें साइंस, कामर्स व आर्ट्स के टॉपर्स की लिस्ट


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है
naman