Covid-19 Update

34,781
मामले (हिमाचल)
27,518
मरीज ठीक हुए
550
मौत
9,170,900
मामले (भारत)
59,245,882
मामले (दुनिया)

अब Army Canteen में नहीं मिलेगी Imported शराब, चार हजार चीजों पर लगा बैन

अब Army Canteen में नहीं मिलेगी Imported शराब, चार हजार चीजों पर लगा बैन

- Advertisement -

नई दिल्ली। सेना की कैंटीन ( Army Canteen) में विदेश से आयात को लेकर केंद्र सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। इस फैसले के अनुसार सेना की कैंटीन में विदेश से आयात किए गए सामान (Imported Goods) की बिक्री पर रोक लगा दी है। जो सेना की कैंटीन से विदेशी सामान खरीदते थे उनको सरकार के इस फैसले से झटका लगा है। सरकार का यह आदेश देश की चार हजार से अधिक सैन्य कैंटीन पर लागू होगा। स्वदेशी उत्पादों के उत्थान की दिशा में यह एक बेहतरीन कदम हो सकता है।

अभी तक सेना की कैंटीन से आयातित शराब, इलेक्ट्रानिक उपकरण और अन्य वस्तुओं की बिक्री हो रही थी। सेना के अधिकारियों, जवानों और पूर्व सैनिकों को रियायती दर पर यह सामान उपलब्ध कराया जा रहा था। इस फैसले का सीधा सीधा मकसद भारतीय उत्पादों को बढ़ाना देना व विदेशों के बने सामान के उपयोग को कम करना है। अगर इसे देश हित के नज़रिए से देखा जाए तो यह सराहनीय कदम होगा। जानकारी के अनुसार 19 अक्टूबर को सरकार ने एक आदेश जारी कर सेना की कैंटीन से विदेशी सामान की बिक्री पर रोक लगा दी।

सरकार ने अपनी 4000 सेना कैंटीनों को विदेशी सामान का आयात रोकने को कहा है। रक्षा मंत्रालय द्वारा 19 अक्टूबर को जारी आंतरिक आदेश में कहा गया है कि भविष्य में प्रत्यक्ष आयातित वस्तुएं नहीं खरीदी जाएंगी। मनोहर पर्रिकर इंस्टीट्यूट फॉर डिफेंस स्टडीज़ ऐंड एनालिसिस के अनुसार, यह आयात इन कैंटीनों की कुल बिक्री मूल्य का लगभग 6-7% होता है।

ये भी पढ़ेः बढ़ती कीमतों के बीच सरकार ने तय की प्याज़ की भंडारण सीमा, आज से हुई लागू

आदेश के अनुसार कि इस मुद्दे पर सेना, नौसेना और वायुसेना के साथ मई से जुलाई के बीच बातचीत की गई है। पीएम नरेंद्र मोदी के स्वदेशी वस्तुओं को बढ़ावा देने के उद्देश्य से शुरू किए गए अभियान के तहत सेना की कैंटीन से विदेशी सामान की बिक्री रोकने का निर्णय लिया गया। हालांकि,इस आदेश में किसी खास उत्पाद का उल्लेख नहीं है लेकिन समझा जाता है कि विदेशी शराब की बिक्री पर रोक लग सकती है। इंस्टीट्यूट फार डिफेंस स्टडीज एंड एनालिसिस के अनुसार सेना की कैंटीन से बिकने वाले कुल सामान में आयातित सामान औसतन छह से सात फीसद तक होता है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है