Covid-19 Update

36,659
मामले (हिमाचल)
28,754
मरीज ठीक हुए
579
मौत
9,266,697
मामले (भारत)
60,719,949
मामले (दुनिया)

CM Yogi के शहर में कपड़े भी किए जा रहे Quarantine, जानिए क्या है माजरा

CM Yogi के शहर में कपड़े भी किए जा रहे Quarantine, जानिए क्या है माजरा

- Advertisement -

गोरखपुर। कोरोना संकट में अभी तक सिर्फ लोग ही क्वारंटाइन (Quarantine) होते रहे हैं पर अब सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) के शहर में तो कुछ अजब ही मामला सामने आया है। गोरखपुर (Gorakhpur) में जींस, शर्ट के साथ कपड़ों को भी क्वारंटाइन किया जाने लगा है। यहां कपड़ों को 48 घंटे यानी दो दिनों के लिए क्वारंटाइन किया जाता है। दुकानदार कपड़ों को अलग कर उन्हें क्वारंटाइन करने से पहले स्टीम प्रेस भी करता है फिर उसे कपड़ों से अलग करके रख देता है।

यह भी पढ़ें: गजब ! Himachal में पानी के नल से जलने लगा बिजली का बल्ब

कपड़े को सबसे पहले स्टीम प्रेस कर रखा जाता है अलग

गोलघर में कपड़े का शो रूम चलाने वाले मदन मोहन अग्रवाल कहते हैं कि कपड़ों को क्वारंटाइन करना पड़ रहा है क्योंकि जब कोई ग्राहक (Customer) किसी कपड़े को लेकर जाता है और फिर उसे किसी कारणवश वापस करने आता है तब उस कपड़े को सबसे पहले स्टीम प्रेस किया जाता है, फिर उसे 48 घंटे के लिए क्वारंटाइन कर दिया जाता है। यह इसलिए किया जाता है कि, वह कपड़ा अन्य कपड़ों से न मिल पाए, इसके लिए उसे अलग रखा जाता है। मदन मोहन अग्रवाल ने इसका कारण भी बताया। उन्होंने बताया कि जो ग्राहक कपड़े वापस करने ला रहा है, वह कहां से ला रहा है हमें पता नहीं है, इसलिए उन कपड़ों को 48 घंटों के लिए क्वारंटाइन कर दिया जा रहा है।

यह भी पढ़ें: Cabinet: कोरोना संकट के बीच जल रक्षक, पैरा फिटर और पैरा पंप ऑपरेटरों को तोहफा

दुकानदारों का मानना कपड़े पर 36 घंटे तक जिंदा रहता है वायरस  

मोहन अग्रवाल की दुकान पर जींस और टीशर्ट वापस करने आए राजदीप नाम के शख्स ने बताया कि वे कपड़ा खरीद कर घर लेकर गए थे, पर वहां पर छोटा पड़ गया, इसलिए वापस करने आए हैं। पर यहां पर पता चल रहा है कि कपड़ों को क्वारंटाइन करना पड़ेगा। उन्होंने बताया कि पहली बार देख रहा हूं कि कपड़े भी क्वारंटाइन हो रहे हैं। दुकानदारों का कहना है कि कपड़ों पर 24 से 36 घंटे तक कोरोना वायरस जिन्दा रह सकता है, इसलिए कपड़ों को स्टीम प्रेस कर उसे दो दिन के लिए अलग रखा जा रहा है। हालांकि सेफ्टी के लिहाज से देखा जाए तो अच्छा ही है कम से कम लोग खतरे में लापरवाही तो नहीं बरत रहे हैं।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group… 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है