Covid-19 Update

38,327
मामले (हिमाचल)
28,993
मरीज ठीक हुए
602
मौत
9,325,786
मामले (भारत)
61,598,991
मामले (दुनिया)

भारत ने चीन की दुखती रग पर रखा हाथ; UN में पहली बार उठाया Hong Kong का मुद्दा

भारत ने चीन की दुखती रग पर रखा हाथ; UN में पहली बार उठाया Hong Kong का मुद्दा

- Advertisement -

जिनेवा। भारत-चीन सीमा (India-China border) पर जारी तनाव के बीच दोनों देश एक दूसरे को सैन्य और आर्थिक मोर्चे के अलावा कूटनीतिक मोर्चे पर भी घेरने में जुटे हुए हैं। एक तरफ चीन (China) जहां भारत के पड़ोसी देशों को भड़ककर भारत के खिलाफ बयानबाजी करवाने में जुटा हुआ है। वहीं अब भारत (India) ने भी चीन की इस चाल का जवाब उसे उसी की भाषा में दिया है। भारत ने चीन की दुखती रग पर हाथ रखते हुए बुधवार को यूएन मानवाधिकार परिषद (UN Human Rights Council) में चीन के नए सुरक्षा कानून का मुद्दा उठाया। हॉन्ग कॉन्ग में 2019 से शुरू हुए विरोध प्रदर्शनों के बाद भारत ने पहली बार इस मसले पर अपना पक्ष रखते हुए कहा कि हालिया घटनाक्रमों पर उसकी नज़र है और संबंधित पक्षों को चिंता का निष्पक्षता से समाधान करना चाहिए। यह कानून हॉन्ग कॉन्ग (Hong Kong) पर चीन को ज़्यादा अधिकार देता है।

यह भी पढ़ें: भारत-नेपाल विवाद के बीच पंचेश्वर के पास APF ने शुरू की चौथी बॉर्डर ऑब्जर्वेशन पोस्ट

अमेरिका भी चाहता है कि इस मुद्दे पर अपनी बात रखे भारत

जिनेवा में संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि राजीव चंदर ने कहा, ‘हम हाल की इन घटनाओं पर चिंता जताने वाले कई बयान सुन चुके हैं। हमें उम्मीद है कि संबंधित पक्ष इन बातों का ध्यान रखेंगे और इसका उचित, गंभीर और निष्पक्ष समाधान करेंगे।’ भारत का यह बयान अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो के बयान वाले दिन ही आया है जिसमें उन्होंने भारत में चीनी ऐप्स पर बैन का समर्थन किया था। पोम्पियो ने कहा था कि कि भारत का क्लीन ऐप नजरिये से उसकी संप्रभुता, अखंडता और राष्ट्रीय सुरक्षा मजबूत होगी। सूत्रों के अनुसार, अमेरिका चाहता है कि भारत हॉन्ग कॉन्ग के मुद्दे पर चीन पर बोले। हॉन्ग कॉन्ग में चीन के नए कानून में वहां के लोगों के मानवाधिकार उल्लंघन की बात कही जा रही है। UNHRC में 27 देशों ने चीन से हॉन्ग कॉन्ग में लागू किए गए नए कानून पर फिर से विचार करने को कहा है। Quad (भारत, अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया का समूह) राष्ट्रों में केवल भारत ही एक ऐसा देश है जिसने हॉन्ग कॉन्ग के मुद्दे पर अभीतक कुछ नहीं बोला है। ऑस्ट्रेलिया, अमेरिका, ब्रिटेन और कनाडा ने चीन के नए कानून की आलोचना की है। जापान ने भी फ्री और खुले हॉन्ग कॉन्ग का समर्थन किया है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है