Covid-19 Update

39,406
मामले (हिमाचल)
30,470
मरीज ठीक हुए
632
मौत
9,393,039
मामले (भारत)
62,573,188
मामले (दुनिया)

इस ग्रह पर ताबड़तोड़ गिर रही बिजली, उमड़ रहा भारी तूफान, #NASA ने शेयर की तस्वीरें

सामान्य कैमरे के अलावा इंफ्रारेड, अल्ट्रावॉयलेट कैमरे से भी ली गई तस्वीरें

इस ग्रह पर ताबड़तोड़ गिर रही बिजली, उमड़ रहा भारी तूफान, #NASA ने शेयर की तस्वीरें

- Advertisement -

हमारे सौर मंडल में सिर्फ धरती ही ऐसा ग्रह नहीं है जिस पर बिजलियां गिरती हैं, तूफान आते हैं ऐसे कई अन्य ग्रह भी हैं जहां पर ऐसी गतिविधियां देखने को मिलती हैं। हमारे सौर मंडल के सबसे बड़े ग्रह बृहस्पति (Jupiter) पर भयानक तूफान आया हुआ है। यहां पर बादलों के चक्रवात बन रहे हैं और ताबड़तोड़ बिजलियां गिर रही हैं। ये बिजलियां भी दो प्रकार की हैं। इनकी बेहद हैरान करने वाली तस्वीरें सामने आईं हैं। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा (NASA) के जूनो स्पेसक्राफ्ट (Juno Spacecraft) ने इन तूफानों, कड़कती हुई बिजलियों और उमड़ते हुए बादलों की तस्वीरें ली हैं। तस्वीरें सामान्य कैमरे के अलावा इंफ्रारेड, अल्ट्रावॉयलेट कैमरे से भी ली गई हैं। जूनो से प्राप्त तस्वीरों का अध्ययन करने पर पता चला कि यहां पर दो तरह की बिजलियां कड़क रही हैं। नासा के वैज्ञानिकों ने एक का नाम स्प्राइट (Sprite) दिया है। दूसरे का नाम एल्व्स (Eleves) दिया है।

 

 

हैरानी की बात ये है कि ये बिजलियां ग्रह की सतह पर नहीं बल्कि वायुमंडल (Atmosphere) से ऊपर कड़क रही हैं जिसकी वजह से अंतरिक्ष में रोशनी दिख रही है। स्प्राइट (Sprite) इतनी तेज कड़कती है जो सैकड़ों किलोमीटर दूर अंतरिक्ष में एक स्पॉट पर दिखाई देती है। जबकि, एल्व्स (Eleves) वायुमंडल के ऊपर सैकड़ों किलोमीटर में फैला हुआ दिखाई देता है। इसमें छोटे-छोटे स्पार्क दिखाई देते हैं। यानी इसके अंदर एकसाथ कई बिजलियां कड़कती रहती हैं। बादलों के नीचे और ऊपर की तरफ तेज रोशनी दिखाई देती है। नासा के वैज्ञानिकों ने अध्ययन किया तो पता चला कि वायुमंडल के ऊपर मौजूद नाइट्रोजन कण दूसरे गैसों से टकरा कर इस तरह की क्रिया कर रहे हैं। साल 2016 से लेकर 2020 के बीच जूनो स्पेसक्राफ्ट ने बृहस्पति ग्रह पर 11 तेज और बेहद बड़ी बिजलियां गिरते हुए रिकॉर्ड किया। ये बिजलियां तीव्रता और क्षेत्रफल में काफी बड़ी थीं।

इन तूफानों, बिजलियों और बादलों पर अध्ययन की रिपोर्ट जर्नल ऑफ जियोफिजिकल रिसर्चः प्लैनेट्स में छपी है। इसे लिखने वाली लेखिका और वैज्ञानिक रोहिणी जिल्स ने कहा कि हमारे पास इन बिजलियों के कई तरह के दस्तावेज और प्रमाण हैं। ये अद्भुत हैं। ये बिजलियां बृहस्पति ग्रह के सतह और वायुमंडल के सैकड़ों किलोमीटर ऊपर दिखाई दे रहे हैं। रोहिणी ने कहा कि जूनो स्पेसक्राफ्ट ने फिलहाल ये तस्वीरें बृहस्पति ग्रह से काफी दूर से ली हैं। जब ये और नजदीक जाएगा तो हमें ज्यादा बेहतर तस्वीरें मिलेंगी। हमे ज्यादा गहन अध्ययन करने का मौका मिलेगा साथ ही बृहस्पति के वायुमंडल का अध्ययन करने में और मदद मिलेगी।

हिमाचल की ताजा अपडेट Live देखने के लिए Subscribe करें आपका अपना हिमाचल अभी अभी Youtube Channel 

- Advertisement -

loading...
Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

loading...
Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है