नगर निगम धर्मशाला में मार सकेंगे बंदर, शिमला में नहीं

प्रदेश की 91 ऐसी तहसीलों में बंदरों को मारने की अनुमति

नगर निगम धर्मशाला में मार सकेंगे बंदर, शिमला में नहीं

- Advertisement -

लेखराज धरटा/शिमला। नगर निगम धर्मशाला (Municipal Corporation Dharamshala) में अब खुंखार बंदरों (Monkeys) को मार सकेंगे, जबकि नगर निगम शिमला (Municipal Corporation Shimla) को इस बार बाहर किया गया। हालांकि बीते 14 फरवरी को वन एवं पर्यावरण मंत्रालय भारत सरकार ने प्रदेश की 91 ऐसी तहसीलों में बंदरों को मारने की अनुमति दी है, जहां किसान एवं बागवानों को सबसे अधिक खतरा बना हुआ है। नगर निगम शिमला में बंदरों को मारने के लिए 2016 से दिसंबर 2017 तक मौका दिया गया था। इस अवधि के दौान मात्र पांच के करीब बंदर मारे गए थे। पुराने रिकॉर्ड को देखते हुए वन एवं पर्यावरण मंत्रालय भारत सरकार ने नगर निगम शिमला में फिलहाल बंदरों को मारने की मंजूरी नहीं दी है।


यह भी पढ़ेंः हाईकोर्ट ने नगर निगम धर्मशाला से मांगी अवैध निर्माण पर कार्रवाई की स्टेटस रिपोर्ट

जारी अधिसूचना के मुताबिक जिला चंबा की चुराह, भरमौर, डलहौजी, भटियात, सिंहुता और चंबा तहसील शामिल हैं। जिला कांगड़ा की कस्बा कोटला, जसवां, देहरा गोपीपुर, खुंडियां, जयसिंहपुर, बैजनाथ, धर्मशाला, शाहपुर, नूरपुर, इंदौरा, फतहपुर, जवाली, कांगड़ा, पालमपुर और बड़ोह तहसील शामिल हैं। जिला बिलासपुर की झंडूता, भराड़ी, घुमारवीं, नैनादेवी, बिलासपुर सदर और नम्होल तहसील। जिला ऊना की भरवाईं, अंब, ऊना , हरोली और बंगाणा तहसील शामिल है। जिला शिमला की सुन्नी, ठियोग, कोटखाई, कुमारसैन, चौपाल, रोहडू़, जुब्बल, चिड़गांव, कुपवी, ननखड़ी, टिक्कर, जुन्गा, शिमला ग्रामीण, रामपुर और नेरवा तहसील शामिल हैं।

यह भी पढ़ेंः केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी के संज्ञान के बाद रुका बंदरों को मारने का क्रम

जिला सिरमौर की पांवटा साहिब, ददाहू, पंजौता, नौहरा, पच्छाद, राजगढ़, रेणुका, शिलाई और कमराऊ तहसील शामिल हैं। जिला सोलन की अर्की, कंडाघाट, रामशहर, कृष्णगढ़, नालागढ़, कसौली, सोलन और दाड़लाघाट तहसील शामिल हैं। जिला मंडी की मंडी, चच्योट, थुनाग, करसोग, जोगिंद्रनगर, पद्दर, लडभड़ोल, सरकाघाट, धर्मपुर और सुंदरनगर तहसील शामिल हैं। जिला कुल्लू में निरमंड, बंजार, आनी, मनाली, कुल्लू और सैंज तहसील में बंदर मार सकेंगे। जिला हमीरपुर में हमीरपुर, भोरंज, नादौन, सुजानपुर, बड़सर और बिझड़ी तहसील शामिल हैं। जिला किन्नौर में भी पहली बार बंदरों को मारने की अनुमित मिली है, जिनमें निचार, पूह, कल्पा सांगला और मूरंग तहसील में खुंखार बंदरों को मार सकेंगे।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

दस दिन बाद मिला मलबे में दबे पोकलेन ऑपरेटर का शव

बिग ब्रेकिंगः खाई में गिरी निजी संस्थान के प्रशिक्षुओं से भरी बस, 40 थे सवार

बीजेपी पहली बार 300 पार, कांग्रेस के 50 सीटों पर सिमटने के आसार!

हिमाचल में कांग्रेस क्लीन बोल्ड, चारों सीटों पर बीजेपी की बंपर जीत के साथ कब्जा बरकरार

जयराम ने सभी सांसद शिमला बुलाए, होगी अहम बैठक

सोलनः चलती कार में लगी आग, समय रहते गाड़ी से निकला चालक

दादा ने बनाया था जीत का रिकार्ड, पोते ने बना डाला हार का रिकार्ड

बीजेपी की जीत पर भी शांता चिंतित, उन्हें कहां लगा लोकतंत्र हार गया-जाने

उम्मीद से ज्यादा लीड मिलने के बाद बोले अनुराग-अन्याय करने वाले कैसे न्याय करेंगे

हरोली में मुकेश नहीं दिखा पाए जलवा, बूथ वाइज देखें रिजल्ट

धर्मशाला-पच्छाद में होंगे विस उप चुनाव, किसे मिल सकती है बीजेपी की टिकट, जानें

अब तक किस विधानसभा क्षेत्र से बीजेपी को कितनी लीड, जानिए

जयराम मतगणना के रूझानों से गदगद,बोले- इतिहास बनने वाली है ये जीत

कांग्रेस हिमाचल में चारों खाने चित्त, सभी 68 विधानसभा क्षेत्रों में पिटने चली

कांगड़ा में कोई ओबीसी कार्ड नहीं, कपूर प्रदेश भर में सर्वाधिक मतों से आगे

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है