Covid-19 Update

41,229
मामले (हिमाचल)
32,309
मरीज ठीक हुए
656
मौत
9,484,506
मामले (भारत)
63,870,336
मामले (दुनिया)

केंद्र के कृषि कानूनों को लेकर जंतर-मंतर पर धरने पर बैठे #Punjab_CM व कई विधायक

 अमरिंदर इस मसले पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मिलना चाहते थे

केंद्र के कृषि कानूनों को लेकर जंतर-मंतर पर धरने पर बैठे #Punjab_CM व कई विधायक

- Advertisement -

नई दिल्ली। पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amarinder Singh) बुधवार को दिल्ली में जंतर-मंतर पर अपने विधायकों और मंत्रियों के साथ केंद्र सरकार के खिलाफ धरने पर बैठे। बतौर रिपोर्ट्स, कृषि कानूनों के विरोध में हो रहे प्रदर्शनों को लेकर पंजाब के सीएम अमरिंदर सिंह ने बुधवार को कांग्रेस विधायकों के साथ दिल्ली के जंतर-मंतर पर धरना दिया। कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) भी धरने पर बैठे हैं। इस धरने के दौरान पंजाब सीएम ने कहा कि कृषि राज्य का विषय है। हमने अपने अधिकारों का प्रयोग करते हुए नए कृषि कानून (Farm Laws) बनाए लेकिन ये बिल अभी राज्यपाल के पास पड़े है। हम 20 तारीख़ को उन्हें बिल दे आए थे लेकिन उन्होंने अभी तक उसे राष्ट्रपति के पास नहीं भेजा है।

यह भी पढ़ें: केंद्र ने #Himachal को दिया बड़ा तोहफा: लूहरी हाइड्रो प्रोजेक्ट मंजूर, मिलेगी 775 करोड़ यूनिट बिजली

बता दें कि अमरिंदर इस मसले पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मिलना चाहते थे। लेकिन मंगलवार को राष्ट्रपति ने उन्हें मिलने का समय नहीं दिया था। पंजाब सीएम का कहना है कि मैं राष्ट्रपति से मिलकर पंजाब की स्थिति से अवगत कराना चाहता था। उम्मीद करता हूं कि राष्ट्रपति इस बिल को स्वीकार करेंगे। इस मौके पर अमरिंदर ने यह भी कहा, ‘शांति बनाए रखना मेरी ज़िम्मेदारी है। हमने अपने देश के लिए बहुत बार अपना ख़ून दिया और आगे भी देने को तैयार हैं। हम कोई झगड़ा नहीं चाहते।पंजाब में शांतिपूर्ण प्रदर्शन चल रहा है।’ कैप्टन अमरिंदर ने कहा कि हम जंतर-मंतर पर धरना दे रहे हैं। गांधी जी 1909 में कहा था कि भारत का मतलब लाखों किसान होता है। हमारा इरादा राष्ट्रपति से मिलने का था। इसमें राज्यपाल की कोई भूमिका नहीं थी।

मार्च से पंजाब को नहीं मिला जीएसटी का कोई भी पैसा

कैप्टन अमरिंदर सिंह ने दिल्ली में कहा कि हमारा बिल राष्ट्रपति तक नहीं पहुंचा है। मैंने एक सप्ताह पहले केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल से बात की थी। किसान संगठन साफ कर चुके हैं कि वो रेल सेवाओं को नुकसान नहीं पहुंचाएंगे। मैं स्टेशनों पर पुलिस तैनात करने के लिए तैयार हूं। रेल सेवा बंद होने से राज्य में कोयला की कमी हो गई है। इसकी वजह से बिजली की किल्लत हो गई है। सीएम ने कहा कि हम स्टॉक से खरीद रहे हैं। मार्च से कोई GST का पैसा नहीं मिला है। 10,000 करोड़ रुपए सरकार के पास बकाया है। हमारे साथ सौतेला बर्ताव किया जा रहा है।

हिमाचल की ताजा अपडेट Live देखने के लिए Subscribe करें आपका अपना हिमाचल अभी अभी Youtube Channel 

- Advertisement -

loading...
Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है