Covid-19 Update

44,405
मामले (हिमाचल)
35,403
मरीज ठीक हुए
711
मौत
9,608,418
मामले (भारत)
66,501,425
मामले (दुनिया)

#Jharkhand का ये गांव कहलाता है शिव की नगरी, यहां खेत-खलिहानों में भी मिलते हैं शिवलिंग

यहां सदियों से होती आई है शिव की पूजा

#Jharkhand का ये गांव कहलाता है शिव की नगरी, यहां खेत-खलिहानों में भी मिलते हैं शिवलिंग

- Advertisement -

लोहरदगा। झारखंड जंगलों और पहाड़ों का राज्य है। झारखंड साधु-संतों की तपोभूमि रही है। इस क्षेत्र में शिव और शक्ति की अराधना के प्रमाण मिलते रहे हैं। दक्षिणी छोटानागपुर क्षेत्र के लोहरदगा में शिव साधना के कई ऐतिहासिक प्रमाण मिलते रहे हैं। मुंडा, खेरवार जैसी जातियां शिव की साधक रही हैं। यही कारण है कि इस क्षेत्र में शिव साधना यहां की पहचान रही है। शिव साधना के प्रमाण का आलम यह रहा है कि यहां शिवलिंग (Shivling) सिर्फ मंदिरों में नहीं, बल्कि खेत और खलिहान में भी मिलते रहे हैं। इतिहास के जानकार बताते हैं कि इस क्षेत्र में पाए जाने वाले शिवलिंग छठी शताब्दी से लेकर 14 शताब्दी तक के रहे हैं। लोहरदगा जिले के भंडरा, कुडू, लोहरदगा, सेन्हा, किस्को आदि क्षेत्र में कई ऐतिहासिक शिव साधना स्थल रहे हैं।

लोहरदगा (Lohardaga) के सदर प्रखंड के खखपरता, भंडरा के अखिलेश्वर धाम, कसपुर, बेलडिप्पा, कारुमठ व भंडरा लाल बहादुर शास्त्री परिसर, सेन्हा के महादेव मंडा, कुडू के महादेव मंडा, किस्को के कई स्थानों में शिवलिंग बिखरे पड़े हैं। लोहरदगा जिले के भंडरा प्रखंड के कसपुर गांव में खेत खलिहान, पहाड़ों में शिवलिंग मिल जाते हैं। इस क्षेत्र को शिव की नगरी कहा जाता है। जाने कब कहां से शिवलिंग मिल जाए, यह कोई नहीं जानता। सदियों से यहां शिव की पूजा होती आई है। लोगों का मानना है कि कण-कण में यहां शिव का वास है। इस क्षेत्र को लोग शिव की नगरी कहते हैं। यह कभी शिव साधकों की प्रमुख स्थली रही होगी। आज भी यहां पर शिव नाम का ही जाप होता है। भंडरा गांव के कसपुर, भंडरा के खेत, खलिहान और पहाड़ों में भी शिवलिंग बिखरे पड़े हैं।

इतिहास के जानकार, खोजकर्ता और चतरा महाविद्यालय चतरा के सेवानिवृत प्राचार्य डा. इफ्तिखार आलम कहते हैं कि यह क्षेत्र शिव और शक्ति साधना का केंद्र रहा है। यहां प्राचीन काल से ही शिव की आराधना होती आई है। क्षेत्र भगवान हनुमान का ननिहाल भी है। यहां पाए जाने वाले शिवलिंग छठी और सातवीं शताब्दी के हैं। यहां का वातावरण साधना के लिए बहुत ही अनुकूल था। यही कारण था कि यहां पर शिव की साधना के प्रमाण हर स्थान पर मिलते हैं। इतिहास के जानकारों का कहना है कि लोहरदगा जिले के भंडरा प्रखंड में भगवान राम की माता कौशल्या के राज्य की राजधानी थी। भंडरा के कसपुर गांव में आज भी पुराने जमाने के किले के अवशेष व खेतों की जुताई में पुराने जमाने के सिक्के व बर्तनों के अवशेष मिलते हैं। कसपुर गांव में भगवान शिव के साथ-साथ भगवान विष्णु के हिरण्यकश्यप अवतार की पत्थर में उकेरी प्रतिमा देखने को मिलती है। साथ ही भंडरा के ऐतिहासिक अखिलेश्वर धाम का तीन फीट व नीले रंग के शिवलिंग शेष स्थानों पाए जाने वाले शिवलिंग से अलग है।

हिमाचल की ताजा अपडेट Live देखने के लिए Subscribe करें आपका अपना हिमाचल अभी अभी Youtube Channel 

 

- Advertisement -

loading...
Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है