Covid-19 Update

21,149
मामले (हिमाचल)
18,179
मरीज ठीक हुए
295
मौत
8,041,051
मामले (भारत)
44,850,798
मामले (दुनिया)

केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का 74 वर्ष की उम्र में हुआ निधन; चिराग बोले- Miss you Papa…

रामविलास पासवान बीते कुछ दिनों से बीमार चल रहे थे

केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का 74 वर्ष की उम्र में हुआ निधन; चिराग बोले- Miss you Papa…

- Advertisement -

नई दिल्ली। राजनीतिक माहौल को भांप लेने की काबिलियत रखने वाले लोकजनशक्ति पार्टी के संस्थापक और केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान (Ram Vilas Paswan) का गुरुवार को 74 वर्ष की आयु में निधन हो गया है। रामविलास पासवान बीते कुछ दिनों से बीमार चल रहे थे। उनके निधन के बारे में जानकारी देते हुए उनके बेटे और लोकजनशक्ति पार्टी के प्रमुख चिराग पासवान ने ट्विटर पर लिखा, ‘पापा अब आप इस दुनिया में नहीं हैं लेकिन मुझे पता है आप जहां भी हैं हमेशा मेरे साथ हैं। Miss you Papa…’

बता दें कि शनिवार देर रात उनका दिल का ऑपरेशन किया गया था। यह बात भी चिराग पासवान ने ही ट्वीट कर शेयर की थी। चिराग पासवान ने अपने उस ट्वीट में इस बात का भी जिक्र किया था कि आने वाले दिनों में उनके पिता का एक और ऑपरेशन किया जाना था। उनका इलाज दिल्ली स्थित एक अस्पताल में चल रहा था।

सरकार किसी की हो पर मंत्री बनते थे पासवान; पढ़ें राजनीतिक सफर

पासवान (72) के राजनीतिक सफर की शुरूआत 1960 के दशक में बिहार विधानसभा के सदस्य के तौर पर हुई और आपातकाल के बाद 1977 के लोकसभा चुनावों से वह तब सुर्खियों में आए, जब उन्होंने हाजीपुर सीट पर चार लाख मतों के रिकॉर्ड अंतर से जीत हासिल की। 1989 में जीत के बाद वह वीपी सिंह की कैबिनेट में पहली बार शामिल किए गए और उन्हें श्रम मंत्री बनाया गया। एक दशक के भीतर ही वह एच डी देवगौडा और आई के गुजराल की सरकारों में रेल मंत्री बने। 1990 के दशक में जिस ‘जनता दल’ धड़े से पासवान जुड़े थे, उसने बीजेपी की अगुवाई वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन : राजग : का साथ दिया और वह संचार मंत्री बनाए गए और बाद में अटल बिहारी बाजपेयी के नेतृत्व वाली सरकार में वह कोयला मंत्री बने।

बाबू जगजीवन राम के बाद बिहार में दलित नेता के तौर पर पहचान बनाने के लिए उन्होंने आगे चलकर अपनी लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) की स्थापना की। वह 2002 में गुजरात दंगे के बाद विरोध में राजग से बाहर निकल गए और कांग्रेस नीत संप्रग की ओर गए। दो साल बाद ही सत्ता में संप्रग के आने पर वह मनमोहन सिंह की सरकार में रसायन एवं उर्वरक मंत्री नियुक्त किए गए। संप्रग-दो के कार्यकाल में कांग्रेस के साथ उनके रिश्तों में तब दूरी आ गयी जब 2009 के लोकसभा चुनाव में अपनी पार्टी की हार के बाद उन्हें मंत्री पद नहीं मिला। पासवान अपने गढ़ हाजीपुर में ही हार गए थे।

यह भी पढ़ें: कोरोना काल में भी आयोजित की जाएंगी चुनावी रैलियां; केंद्र ने #Guidelines में बदलाव कर दी अनुमति

2014 के लोकसभा चुनाव के पहले बीजेपी ने सीएम नीतीश कुमार के जदयू के अपने पाले में नहीं रहने पर पासवान का खुले दिल से स्वागत किया और बिहार में उन्हें लड़ने के लिए सात सीटें दी। लोजपा छह सीटों पर जीत गयी। पासवान, उनके बेटे चिराग और भाई रामचंद्र को भी जीत मिली थी। नरेंद्र मोदी के कार्यकाल में खाद्य, जनवितरण और उपभोक्ता मामलों के मंत्री के रूप में पासवान ने सरकार का तब भी खुलकर साथ दिया जब उसे सामाजिक मुद्दों पर आलोचना का सामना करना पड़ा। जन वितरण प्रणाली में सुधार लाने के अलावा दाल और चीनी क्षेत्र में संकट का भी प्रभावी तरीके से उन्होंने समाधान किया। वह हालिया लोकसभा चुनाव नहीं लड़े थे। उनके छोटे भाई और बिहार के मंत्री पशुपति कुमार पारस हाजीपुर से जीते। इसके बाद साल 2019 में उन्हें राज्यसभा के लिए निर्विरोध निर्वाचित किया गया था। केंद्र सरकार द्वारा उन्हें केन्द्रीय मंत्री का भी दर्जा दिया गया था।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whatsapp Group 

- Advertisement -

loading...
Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

CM Jai Ram ने सभी फोरलेन परियोजनाओं को तय सीमा में पूरा करने के दिए निर्देश

#Highcourt के आदेशः मृतक कर्मचारी की विवाहित पुत्री को अनुकंपा के आधार पर नियुक्ति प्रदान करे सरकार

#Shimla: हिमाचल कांग्रेस ने IGMC अस्पताल में डोनेट किए स्वास्थ्य उपकरण, मरीजों को मिलेगा लाभ

बड़ी खबरः #HPPSC ने घोषित किया इस प्रारंभिक परीक्षा का Results, 546 अभ्यर्थी सफल

'लक्ष्मी बॉम्ब' के नाम पर हुआ विवाद: अक्षय कुमार ने बदल दिया अपनी #Movie का नाम

Himachal में लीडरशिप चेंज के सवाल पर बोले Bali, कांग्रेस वर्कर हताश- पढ़ें पूरी खबर

हिमाचल में सेवारत इन कर्मचारियों के लिए 3 नवंबर को Special Leave

मुंगेर गोलीकांड पर भीड़ का तांडव: फूंक दिया थाना, चुनाव आयोग ने DM-SP को हटाया

#HPSSC: जूनियर लेबोरेटरी टेक्नीशियन पोस्ट कोड 806 के अभ्यर्थी जरूर पढ़ें यह खबर

स्पीति वैली के गांव में एक साथ 41 लोग पाए गए Covid-19 पॉज़िटिव, 7% आबादी संक्रमित

नहीं रहे #HP_Central_University के रजिस्ट्रार संजीव शर्मा, Heart Attack से हुआ निधन

France में बढ़ा कोरोना का प्रकोप, राष्ट्रपति ने किया दोबारा #Lockdown लगाने का ऐलान

#Shimla : कैपिटल होटल के Top Floor में लगी भयंकर आग, तीन कमरे जलकर राख

ब्रिटिश रॉयल फैमिली को है #Housekeeper की तलाश, सैलरी सुनकर उड़ जाएंगे होश

Chamba: पुखरी में बनेगा भव्य खेल Stadium, अव्वल खिलाड़ियों को मिलेगी निशुल्क Hostel सुविधा

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board

Big Breaking: शिक्षा बोर्ड ने जमा दो अनुपूरक परीक्षा का Result किया आउट

अब कभी भी-कहीं भी पढ़ाई कर सकेंगे Himachal के छात्र, शिक्षा मंत्री ने किया #Jio_TV का शुभारंभ

#Himachal के इन स्कूलों में सर्दियों की छुट्टियों पर चलेगी कैंची, प्रस्ताव तैयार

जवाहर नवोदय विद्यालय कक्षा 6 का #Entrance_Exam अब 7 नवंबर को

स्कूलों के बाद अब Colleges खोलने की तैयारी, नवंबर से आएंगे Practical विषयों के छात्र

TET Exam में इन अभ्यर्थियों को मिली छूट, बिना आवेदन दे सकेंगे परीक्षा, बस करना होगा ये काम

#Himachal में School खोलने की तैयारी में सरकार, क्या रहेगा प्लान पढ़े यहां

Big Breaking: हिमाचल शिक्षा बोर्ड ने टैट परीक्षा का शेड्यूल किया जारी- जानिए

#HPBose: 9वीं, 10वीं, 11वीं और 12वीं कक्षाओं के छात्रों को बड़ी राहत- पढ़ें खबर

हिमाचल में 100% मास्टर जी लौट आए #School, बनने लगा स्टूडेंट्स के लिए माइक्रो प्लान

SMC शिक्षकों को बड़ी राहत, #Supreme_Court ने हिमाचल हाईकोर्ट के फैसले पर लगाई रोक

गोविंद ठाकुर बोले- #Himachal में स्कूल खोलने हैं या नहीं, 9 को होगा फैसला

शिक्षा विभाग ने तैयार किया #Himachal में स्कूल खोलने का प्रस्ताव; जानें क्या है योजना

D.El.Ed CET 2020: 12 से 23 अक्टूबर तक होगी स्क्रीनिंग, अभ्यर्थी करें ऐसा

Himachal में 530 हेड मास्टर और लेक्चरर बने प्रिंसिपल, पर वेतन बढ़ोतरी को करना होगा इंतजार



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है