Covid-19 Update

1101
मामले (हिमाचल)
825
मरीज ठीक हुए
09
मौत
7,69,574
मामले (भारत)
12,190,196
मामले (दुनिया)

रिकार्ड मतों से जीतकर संसद पहुंचने वाले Kishan Kapoor बीजेपी की नजरों में क्यों हुए बागी, सिलसिलेवार पढ़े

बेटे की चाहत में कपूर पार्टी से अलग-थलग पढते गए, उपचुनाव में भी नहीं हुई पूछ

रिकार्ड मतों से जीतकर संसद पहुंचने वाले Kishan Kapoor बीजेपी की नजरों में क्यों हुए बागी, सिलसिलेवार पढ़े

- Advertisement -

धर्मशाला। ठीक एक साल पहले किशन कपूर (Kishan Kapoor) रिकार्ड मतों से जीत दर्ज कर लोकसभा (Loksabha) में पहुंचे। बीजेपी (BJP) में चर्चा का केंद्र बने और फिर यकायक ही पार्टी प्लेटफार्म से गायब होने लगे। आज जिस वक्त केंद्र की मोदी सरकार अपने सत्ताकाल के एक साल का कार्यकाल पूरा करने जा रही है,ठीक उसी वक्त हिमाचल के बीजेपी विधायकों व पार्टी पदाधिकारियों ने कपूर को बागी (Rebel)का दर्जा दे डाला।


यह भी पढ़ें: कांगड़ा में पकी BJP की खिचड़ी, Dhumal समर्थकों के बीच Kishan Kapoor भी जा बैठे

ये वही,कपूर हैं जो किसी वक्त हिमाचल (Himachal) में बीजेपी के पितामह कहलाने वाले शांता कुमार के बेहद करीबी हुआ करते थे। आज वह पार्टी में असंतुष्ट चल रहे नेताओं के टोले का हिस्सा बन चुके हैं। यही कपूर कभी शांता कुमार (Shanta Kumar) के करीबी रहते हुए धूमल शासनकाल में भी बागी कहलाए थे। बाद में मुख्यधारा में लौटे तो राजनीतिक सफर पटरी पर आने लगा था, धूमल (Dhumal) से भी कुछ-कुछ नजदीकीयां बनने लगी थी। लेकिन धूमल गुट के हाशिए पर जाने से कपूर अलग-थलग नजर आने लगे थे।

जमकर बहाए थे आंसू

हिमाचल में विधानसभा चुनाव (Vidhansabha Election) से पहले किशन कपूर का धर्मशाला से पार्टी ने टिकट काट दिया तो,उन्होंने जमकर आंसू बहाए, निर्दलीय लड़ने का मन बना लिया, पार्टी ने निर्णय बदला और कपूर को टिकट थमा दिया। विधानसभा चुनाव में जीत दर्ज करवाई,तो जयराम कैबिनेट (Jai Ram Cabinet) में बड़ी मुश्किल से अंत समय में जगह मिल पाई। उसके बाद विभाग मिलने की बारी आई तो कपूर का पसंदीदा परिवहन ना देकर उन्हें खाद्य आपूर्ति विभाग (Food and civil supply department) थमा दिया गया।

यह भी पढ़ें: कर्फ़्यू के बीच कांगड़ा रेस्ट हाउस में BJP असंतुष्टों की बैठक पर Congress ने किया बखेड़ा खड़ा

मन-मसोस कर कपूर चुपचाप बैठ गए। अभी कुछ ही समय निकला था कि कपूर को संसदीय चुनाव लड़वाए जाने की चर्चाएं शुरू हो गई। ना चाहते हुए भी कपूर को कांगड़ा-चंबा संसदीय सीट (Kangra-Chamba Parliamentary Seat) से बीजेपी ने प्रत्याशी बना डाला। कपूर ने पार्टी के समक्ष अपने बेटे को राजनीति में उतारने की बात रख डाली। उन्होंने बार-बार पार्टी से इस बात का आश्वासन लेना चाहा कि लोकसभा चुनाव जीतने के बाद धर्मशाला विधानसभा क्षेत्र से उनके बेटे को उपचुनाव (By election) में प्रत्याशी बनाया जाना चाहिए। पार्टी ने उन्हें पुचकार कर संसदीय चुनाव में उतार दिया तो कपूर ने मोदी (Modi) लहर में 477623 मतों से अपने प्रतिद्वंद्वी को पटकनी दे डाली।

झटके पर झटके मिलते गए

कपूर संसद में पहुंच गए, सोचते रहे कि इतने भारी मतों से जीत दर्ज कर आए हैं ,हो सकता है कि मोदी मंत्रिमंडल में राज्य मंत्री के तौर पर शपथ दिलवा दी जाए। वहां भी अनुराग ठाकुर (Anurag Thakur) का नंबर लग गया। कपूर को यहां भी हाथ कुछ लगता नहीं दिखा तो उन्होंने बेटे के लिए धर्मशाला (Dharmshala) उपचुनाव में पैरवी करनी शुरू कर दी। पार्टी ने कपूर को दरकिनार कर यहां से युवा को प्रत्याशी बना दिया।

यह भी पढ़ें: First Hand: असंतुष्टों की Kangra बैठक पर BJP में घमासान, बागी करार देते हुए MLAs ने Nadda को लिखा पत्र.

कपूर की नाराजगी बढ़ती चली गई। उपचुनाव में उन्हें प्रभारी तक नहीं बनाया गया, वह प्रचार से ही गायब हो गए। सीएम जयराम ठाकुर ने खुद मोर्चा संभाल लिया,पार्टी का नया चेहरा भारी मतों से जीत ही नहीं बल्कि कांग्रेस प्रत्याशी का जमानत जब्त करवाकर विधानसभा में पहुंच गया। कपूर के लिए तो ये झटके पर झटके वाली ही बात दिखी। वह पार्टी के कार्यक्रमों से दूर होने लगे,बीजेपी मंडल के गठन में भी उनकी अनदेखी ही नहीं बल्कि उनकी पूछ तक नहीं हुई। उनके समर्थक बाहर कर दिए गए।

पार्टी प्लेटफार्म से गायब होते चले गए

पार्टी से मुखर होते जा रहे कपूर के लिए एक मौका और दिखा कि सतपाल सत्ती (Satpal Satti) का बतौर पार्टी प्रदेशाध्यक्ष कार्यकाल पूरा हो रहा है, उसी पद के लिए कुछ हाथ-पैर मार लिए जाएं। पार्टी ने प्रदेशाध्यक्ष पद पर डॉ. राजीव बिंदल (Dr. Rajeev Bindal) का नाम तय कर दिया। कपूर फिर से खाली हाथ हो गए,पार्टी प्लेटफार्म पर हिमाचल में कपूर ना दिखने वाला चेहरा बनने लगे। हालत ये हो गई कि धर्मशाला में भी वह पार्टी कार्यक्रमों से बाहर हो चले। करते-करते कुछ माह में ही  डॉ. बिंदल को इस्तीफा देना पड़ा तो कांगड़ा में धूमल समर्थकों की जुगलबंदी में कपूर भी शामिल हो गए।

यह भी पढ़ें: हिमाचल में Curfew में 14 घंटे की मिल सकती है ढील, Buses के संचालन का भी बदल सकता है टाइम

मकसद यही था कि इस मर्तबा किसी तरह पार्टी प्रदेशाध्यक्ष का पद हासिल कर लिया जाए। कांगड़ा के पीडल्ब्यूडी रेस्ट हाउस  (PWD Rest House Kangra) में बैठे अभी कुछ घंटे भी नहीं बीते थे कि कांगड़ा-चंबा संसदीय क्षेत्र के पार्टी विधायकों (Party MLAs of Kangra-Chamba parliamentary) ने उन्हें बागी का दर्जा दे डाला। षडंयत्रकारी की संज्ञा दे दी। यानी साल भर में ही कपूर बीजेपी के अंदर कहां से कहां पहुंचा दिए गए। अब उन्हीं कपूर के खिलाफ कार्रवाई की आवाज उठनी शुरू हो गई है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

loading...
loading...
Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

शिमला ग्रामीण से भेदभाव का आरोप लगाने वालों को शिलान्यास-उद्घाटन करारा जवाब

Himachal का नादौन पुलिस थाना देश भर में शीर्ष स्थान पर, गृह मंत्रालय ने जारी की रैंकिंग

Jio का टावर लगाने के नाम पर Sirmour निवासी से 1.53 लाख की ठगी

Una में बाइक पर जा रहे थे दो युवक, Police ने तलाशी ली तो मिली Charas

विक्रमादित्य सहित तीन पंचायत प्रधानों, एक BDC सदस्य और कांग्रेस पदाधिकारियों पर FIR

Indu Goswami को हिमाचल BJP President बनने का ये कैसा ट्वीट

Vikramaditya बोले - Virbhadra की देन के उद्घाटन कर गए CM जयराम

हिमाचल शिक्षा बोर्ड ने TET के लिए आवेदन तिथि बढ़ाई, कल तक कर सकते हैं आवेदन

कोविड-19 के प्रकोप के बीच शहरी निकायों के Election की तैयारी,आरक्षित सीटों का मांगा ब्यौरा

कोरोना संकट के बीच kangra पहुंच गया Chinese Tourist, मचा हड़कंप, इंस्टीट्यूशनल क्वारंटाइन किया

Breaking : कानपुर मुठभेड़ का मास्टरमाइंड Vikas Dubey गिरफ्तार, उज्जैन में किया Surrender

Vikas Dubey के दो और साथी Encounter में ढेर, प्रभात मिश्रा कानपुर, बउआ दुबे इटावा में मारा

हिमाचल में Tourists की एंट्री पर HC ने सरकार से मांगा जवाब; जारी किया नोटिस

Covid-19 Update: हिमाचल में संक्रमितों का आंकड़ा 1100 पार, 18 नए केस; 43 हुए ठीक

सांसद किशन कपूर की पत्नी के लिए बदले नियम, डिप्टी डायरेक्टर कांगड़ा लगाईं

loading...
Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

HP : Board

हिमाचल शिक्षा बोर्ड ने TET के लिए आवेदन तिथि बढ़ाई, कल तक कर सकते हैं आवेदन

CBSE ने सिलेबस से हटाए राष्ट्रवाद, Secularism जैसे Chapters,और भी बहुत कुछ

HRD मंत्री का ऐलान: CBSE कक्षा 9 से 12वीं तक के सिलेबस को 30% तक करेगा कम

हिमाचल में B.Ed करने के इच्छुकों के लिए राहत देने वाली है ये रपट, क्लिक करें

UGC के निर्देश : सितंबर के अंत तक करवानी होंगी UG Final Semester की परीक्षाएं, और भी बहुत कुछ, जानें

Kendriya Vidyalaya: फेल नहीं होंगे 9वीं-11वीं के छात्र; बिना परीक्षा के प्रोजेक्ट वर्क के जरिए होंगे प्रोमोट

हिमाचल के स्कूलों में Morning Prayer सभा एक जैसी हो, शिक्षा बोर्ड कर रहा तैयारी

SOS अगस्त व सितंबर की परीक्षाओं के ऑनलाइन पंजीकरण की तिथियां घोषित

CBSE ने टीचर्स के लिए शुरू किए Online कोर्स: यहां देखें डीटेल्स

Himachal में अध्यापकों को 12 तक छुट्टियां; 13 से होगी Online पढ़ाई शुरू

HPU सहित प्रदेश के 17 Colleges को मिलेगा कुल 27 करोड़ का ग्रांट; जानें किसके हिस्से में कितना

HPBOSE: SOS का 10वीं व 8वीं कक्षा का Result Out, दसवीं में  32.07 फीसदी हुए पास

15 जुलाई तक जारी होंगे CBSE- ICSE के नतीजे, असेसमेंट स्कीम को Supreme Court की मंजूरी

NCERT: स्कूलों के लिए अब आएगा नया सिलेबस; 15 साल बाद सरकार ने दिया ये आदेश

CBSE 10वीं की परीक्षा रद्द, 12वीं को दो ऑप्शन!, ICSE बोर्ड भी बोला- रद्द करने के लिए सहमत


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है