Covid-19 Update

4,23,697
मामले (हिमाचल)
33,880
मरीज ठीक हुए
685
मौत
9,556,881
मामले (भारत)
65,117,664
मामले (दुनिया)

इस देश में मनपसंद लड़की से शादी करने के लिए करना पड़ता है ये खतरनाक काम

दुल्हन के पिता को देना पड़ता है व्हेल मछली का दांत

इस देश में मनपसंद लड़की से शादी करने के लिए करना पड़ता है ये खतरनाक काम

- Advertisement -

लव मैरिज करने के लिए लोगों को कई पापड़ बेलने पड़ते हैं लेकिन कुछ जगह पर तो ऐसी शर्तें हैं जो जान को रिस्क में रख कर पूरी करनी होती है। दक्षिण प्रशांत महासागर के मेलानेशिया (Melanesia) में भी ऐसा ही फिजी नाम का एक द्वीपीय देश है, जहां की करीब 37 फीसदी आबादी भारतीय है और वो सैकड़ों साल से इस देश में रहते चले आ रहे हैं। फिजी में मनपसंद लड़की से शादी करने के लिए बहुत ही खतरनाक काम करना होता है। शादी (Marriage) से पहले अक्सर प्रेमी जोड़े चांद-तारे तोड़ने की बात करते हैं, लेकिन फीजी में मनपसंद लड़की से शादी करने के लिए स्पर्म व्हेल मछली का दांत तोड़ना पड़ता है। समुद्र की गहराई में जाकर व्हेल के दांत को लाना ठीक वैसा ही है, जैसे आसमान से चांद-तारे तोड़ लाना। फीजी में प्रचलित इस परंपरा को प्रेम की सबसे बड़ी अभिव्यक्ति कहा गया है।

यह भी पढे़ं: लव मैरिज से नाराज पिता ने घर बुलाया फिर बेटी-दामाद का गोली मारकर #Murder कर दिया

फिजी (Fiji) में यह परंपरा सदियों से चली आ रही है। तबुआ नाम की इस परंपरा के अनुसार लड़के को शादी करने के लिए व्हेल मछली के दांत को दुल्हन के पिता को देना पड़ता है। हालांकि, अब हर कोई समुद्र में जाकर व्हेल का दांत नहीं ला सकता है क्योंकि ये काम पेशेवर लोग करते हैं। अब खरीददार इस विशाल मछली के दांतों से बनी माला या कोई दूसरी चीज लेकर तोहफे में देते हैं। मान्यता है कि इस दांत में सुपर-नेचुरल ताकत (Super-natural Power) होती है और इसे रखने पर शादी हमेशा बनी रहती है। इस मान्यता को लेकर फीजी के लोगों की आस्था इतनी गहरी है कि फिजी के पूरे 300 द्वीप समूहों में इस प्रथा को मानने वाले हैं। इस मान्यता को पूरा करने के लिए हर नया जोड़ा जोर-शोर से व्हेल के दांत खोजने और खरीदने में जुट जाता है। शादी के साथ ही इस दांत को मौत और जन्म के मौके पर भी तोहफे की तरह दिया जाता है।

हालांकि, वैज्ञानिक अब तक ये रहस्य को नहीं समझ पाए हैं कि स्पर्म व्हेल के मुंह में इतने सारे और मजबूत दांत क्यों होते हैं? स्पर्म व्हेल एक खास तरह का घोंघा ही खाती है, जिसके लिए ऐसे दांतों को कोई जरूरत नहीं है। आज के समय में लगभग सभी जीव-जंतुओं में गैरजरूरी अंग गायब हो चुके हैं। ऐसे में स्पर्म व्हेल के दांत क्यों बने हुए हैं, इसका कारण किसी को नहीं पता है। फीजी में केवल तबुआ ही नहीं बल्कि और भी अन्य मान्यताओं के कारण स्पर्म व्हेल को मारा जा रहा है। इसी वजह से ये मछली अब दुर्लभ हो चुकी है। स्पर्म व्हेल मछली के दांत इतने बेशकीमती माने जाने लगे हैं कि एक दांत का एक छोटा सा हिस्सा लगाए हुए माला भी लाखों में मिल रही है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page 

- Advertisement -

loading...
Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है