Covid-19 Update

2,00,791
मामले (हिमाचल)
1,95,055
मरीज ठीक हुए
3,437
मौत
29,973,457
मामले (भारत)
179,548,206
मामले (दुनिया)
×

अब कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज 12 से 16 सप्ताह के बाद, पढ़ें क्या है मसला

कोविशील्ड वैक्सीन की डोज के बीच बढ़ सकती है समयावधि

अब कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज 12 से 16 सप्ताह के बाद, पढ़ें क्या है मसला

- Advertisement -

नई दिल्ली। एक ओर देश में कोरोना वैक्सीन को लेकर टोटा है तो दूसरी और अब वैक्सीन की पहली और दूसरी डोज के बीच समय सीमा बढ़ सकती है। इसके साथ ही कोरोना वैक्सीनेशन (Corona Vaccination) को लेकर भी कई अहम सवाल हैं, जैसे क्या गर्भवती महिलाओं को कोरोना वैक्सीन लगवानी चाहिए, या कोरोना (Corona) संक्रमित हो चुके व्यक्ति कितने समय बाद कोरोना वैक्सीन लगवाएं। दरअसल इम्यूनाइजेशन के लिए एक ग्रुप है जो काम करता है। इस का नाम है नेशनल टेक्निकल एडवाइजरी ग्रुप (NTAGI) यानी एनटीएआईजी। इम्यूनाइजेशन के लिए काम करने वाले इसी ग्रुप ने बहुत सी जानकारियां गुरुवार को साझा की हैं। ग्रुप की ओर से यह भी कहा गया है कि ये सुझाव कोविड-19 के लिए वैक्सीन पर नेशनल एक्सपर्ट ग्रुप (NEGVAC) को भेजा जाएगा।

यह भी पढ़ें:एक दिन में 3.62 नए संक्रमित, कोरोना से 4120 की मौत-राहुल गांधी बोलेः बचे हैं तो बस पीएम के फोटो


नेशनल टेक्निकल एडवाइजरी ग्रुप (National Technical Advisory Group) का कहना है कि कोरोना संक्रमितों को उनके स्वस्थ होने के करीब 6 माह बाद वैक्सीनेशन करवानी चाहिए। इसके अलावा एनटीएआईजी का कहना है कि कोविशील्ड की दो खुराकों के बीच अंतर को बढ़ाकर 12-16 सप्ताह कर देना चाहिए। हालांकि आपको बता दें कि ग्रुप की ओर से केवल कोविडशील्ड (Covishield) की दोनों खुराकों के बीच का समय बढ़ाने का सुझाव दिया है। इसमें कोवैक्सीन की दोनों खुराकों को लेकर कुछ भी नहीं कहा गया है। साथ ही साथ पैनल ने सुझाव दिया कि गर्भवती महिलाएं (Pregnant Women) भी कोरोना वैक्सीन ले सकती हैं।

यह भी पढ़ें:UPSC की सिविल सर्विस प्री -पऱीक्षा स्थगित, अब 10 अक्टूबर को होगी

आपको बता दें कि गर्भवती महिलाएं वैक्सीन के ट्रायल में शामिल नहीं थीं। इसलिए फिलहाल गर्भवती महिलाओं को टीका नहीं लगाया जा रहा है। उधर, नेशनल टेक्निकल एडवाइजरी ग्रुप (NTAGI) का कहना है कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय (Union Health Ministry) के मौजूदा प्रोटोकॉल के अनुसार कोविड-19 संक्रमण से स्वस्थ होने के 4-8 सप्ताह के बाद वैक्सीन लेनी चाहिए और गर्भवती व स्तनपान कराने वाली महिलाओं को कोरोना वैक्सीन की खुराक नहीं लेनी चाहिए। इस पर NTAGI ने का कहना है कि चेकअप के लिए आने वाली सभी गर्भवती महिलाओं को कोरोना वैक्सीन पर जानकारी दी जानी चाहिए।

अब अंदर खाते बताया जा रहा है कि कोविड-19 वर्किंग ग्रुप की ओर से कोविशील्ड की दोनों खुराकों के बीच का समय 12 से 16 सप्ताह करने की मंजूरी दे दी गई। हालांकि कोरोना की कोवैक्सीन की खुराकों के बीच की समयावधि पहले की ही तरह ही रहेगी। आपको बता दें कि फिलहाल कोविशील्ड की दोनों खुराकों के बीच 4 से 8 सप्ताह का अंतर रहता है। इसके साथ ही पैनल ने कोरोना वैक्सीनेशन से पहले व्यक्ति के रैपिड एंटीजेन टेस्ट का प्रस्ताव खारिज कर दिया है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है