Story in Audio

Story in Audio

लोकसभा में गृह मंत्री अमित शाह का जवाब, कहा- PAK से प्रेरणा लेने वालों से कैसी चर्चा

कहा- धारा 370 कश्मीर को भारत से जोड़ती नहीं बल्कि जोड़ने से रोकती है

लोकसभा में गृह मंत्री अमित शाह का जवाब, कहा- PAK से प्रेरणा लेने वालों से कैसी चर्चा

- Advertisement -

नई दिल्ली। राज्यसभा (Rajya Sabha) से पास होने के बाद आज गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन बिल को लोकसभा (Loksabha) में चर्चा के लिए रखा। इसके बाद बिलो पर हुई चर्चा का जवाब देते हुए शाह ने कहा कि सदस्यों के मन के भाव को समझ रहा हूं क्योंकि सब लोग 70 साल से एक दर्द को दबाकर बैठे हैं। कहा जाता है कि कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है लेकिन किसी अन्य राज्य को नहीं बोलते, उसकी वजह 370 है क्योंकि इसी ने जनमानस के मन में शंका पैदा की थी, कश्मीर भारत का अंग है या नहीं। धारा 370 कश्मीर को भारत से जोड़ती नहीं बल्कि जोड़ने से रोकती है, जो आज सदन के आदेश के बाद खत्म हो जाएगी।


यह भी पढ़ें: धारा 370 के हटते ही केंद्र सरकार के अधीन होगा ये बैंक, जानें


मोदी सरकार PoK को कभी देने वाली नहीं है

उन्होंने आगे कहा कि एक बार देश के प्रधानमंत्री की दृढ़ राजनीति को नमन करना चाहता हूं क्योंकि उन्होंने साहस दिखाकर इसे खत्म करने का फैसला लिया। उचित समय और हालात सामान्य होते ही जम्मू कश्मीर को पूर्ण राज्य का दर्जा देने पर सरकार को कोई आपत्ति नहीं है। मोदी सरकार PoK को कभी देने वाली नहीं है और वहां की 24 सीटें आज भी हमारा हिस्सा रहने वाली हैं। इस पर हमारा दावा उतना ही मजबूत है जितना पहले था। गृह मंत्री ने आगे कहा कि कश्मीर मुद्दा 1948 में UN में पहुंचा था। लेकिन जब भारत-पाकिस्तान ने UN को प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया तब किसी भी देश की सेना को सीमाओं के उल्लंघन का अधिकार नहीं था। लेकिन 1965 में पाकिस्तान की ओर से सीमा का उल्लंघन करने पर यह प्रस्ताव खारिज हो गया था। जम्मू कश्मीर के लिए इस सदन को संपूर्ण अधिकार हासिल हैं कोई भी बाध्यता नहीं है।

यह भी पढ़ें- 370 हटाने पर पाकिस्तानी मंत्री ने दी युद्ध की धमकी, सेना ने 5-6 आतंकियों को खदेड़ा


जो नेहरू जी ने किया और उसी के कारण आज PoK है

बिल पर चर्चा का जवाब देते हुए शाह ने कांग्रेस और पूर्व पीएम जवाहर लाल नेहरू पर निशाना साधते हुए कहा कि जब हमारी सेना कश्मीर में विजयी हो रही थी और पाकिस्तानी कबीलाइयों को भगाया जा रहा था तब अचानक शस्त्र विराम किसने किया, वो भी नेहरू जी ने किया और उसी के कारण आज PoK है, अगर सेनाओं को उस वक्त छूट दी होती तो पूरा PoK भारत का हिस्सा होता। उन्होंने आगे कहा कि संयुक्त राष्ट्र में इस विषय को कौन लेकर गया, आकाशवाणी से गृह मंत्री को बगैर भरोसे में लिए हुए मसले को UN में ले जाया गया, यह काम भी नेहरूजी ने ही किया था। धारा 370 की वजह से अलगववाद की भावना को पाकिस्तान जम्मू कश्मीर में भड़का रहा है। 370 से इस देश के कानून की पहुंच वहां नहीं होती थी। साथ ही 371 महाराष्ट्र के विकास से जुड़ा है उसे हम क्यों निकालेंगे।

यह भी पढ़ें: बड़ी खबर: अनुच्छेद 370 को हटाने वाले राष्ट्रपति के आदेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका


आंध्र का विभाजन बगैर चर्चा के हुआ

गृह मंत्री ने बताया कि इससे कहीं भी देश की अखंडता और एकता बाधित नहीं होती, इसकी 370 से कोई तुलना नहीं की जा सकती। राज्यों के कुछ समस्याओं को 371 में रखा गया है और इनकी तुलना संभव नहीं है और हम इसे कतई हटाने नहीं जा रहे हैं। शाह ने आंध्र के विभाजन पर सवाल उठाते हुए कहा कि बेरोजगारी हर राज्य की समस्या लेकिन वहां आतंकवाद क्यों नहीं पनपा, धारा 370 से घाटी में अलगाववाद बढ़ा जिस पर पाकिस्तान ने पेट्रोल डालने का काम किया। आंध्र का विभाजन बगैर चर्चा के हुआ विधानसभा ने प्रस्ताव खारिज किया, मुख्यमंत्री ने इस्तीफा दे दिया, फिर आपने कैसी चर्चा करके यह फैसला लिया। अगर आपने किया तो अब हमें क्यों टोक रहे हैं। मार्शलों ने सांसदों को बाहर फेंका, काला दिन आज नहीं है, काला दिन वो था।

यह भी पढ़ें- सिर्फ 13 हजार रुपए में शुरू करें ये बिजनेस, हर महीने होगी मोटी कमाई


अब UN में जनमत संग्रह को कोई मुद्दा नहीं है

शाह ने कहा कि केंद्र शासित प्रदेश का सवाल है तो बता दूं कि यह लद्दाख की मांग थी लेकिन कश्मीर के बारे में फिर से विचार किया जाएगा। नेहरू जी ने तो 370 को भी अस्थाई बताया था उसे हटाने में 70 साल लगे लेकिन हमें 70 साल नहीं लगेंगे। उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर में विधानसभा, मुख्यमंत्री, मंत्री सब रहेंगे। शाह ने कहा कि जनमत संग्रह तभी खत्म हो गया जब पाकिस्तान ने भारत की सीमाओं को तोड़ा था, अब UN में जनमत संग्रह को कोई मुद्दा नहीं है। घाटी में स्थिति न बिगड़े इसके लिए कर्फ्यू डाला है, स्थिति बिगड़ी है इसलिए नहीं लगाया। जम्मू कश्मीर के लिए बनाया गया कानून किसी भी सूरत में सांप्रदायिक नहीं हो सकता, इस आरोप में सिरे से खारिज करता हूं।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें ….

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

बीजेपी विधायकों, पदाधिकारियों को वार्मअप करेंगे JP Nadda, फीडबैक भी लेंगे

Solan के बाद Bilaspur के झंडुता में भी होगा नड्डा का अभिनंदन, बिंदल का खुलासा

नेशनल टेक्निकल टेक्सटाइल मिशन और सरोगेसी रेगुलेशन बिल को Modi Cabinet की मंजूरी

नई आबकारी नीति के विरोध में युवा कांग्रेस ने Hamirpur में निकाली रोष रैली

DRDA के भवन के निकट ट्रांसफार्मर में लगी आग, मची अफरातफरी

दम तोड़ चुकी नवजात को PGI कर दिया रेफर, निजी अस्पताल के खिलाफ परिजनों का हल्ला

Jai Ram की नसीहतः सवाल करें पर जवाब सुनने का धैर्य भी रखें विपक्ष

6736 करोड़ 56 लाख का Supplementary Budget पेश, कहां कितना होगा खर्च-जानिए

Delhi violence: नाले में मिली IB अफसर की लाश, 22 हुई हिंसा में मरने वालों की संख्या

Marksheet मांगने आए पूर्व छात्र के साथ Principal ने की मारपीट तो कमरे में लगा लिया फंदा

सेवा विस्तार व Re-employment पर बोले मुकेश, आप करें तो पुण्य हम करें तो पाप

ड्यूटी से Doctor गायब, चेकिंग करने पहुंची SDM ने जारी किया Notice

डलहौजी-बकलोह मार्ग पर खाई में गिरी कार, Air Force Jawan की गई जान

धांधली का आरोपः देई द नौण पंचायत प्रधान के खिलाफ DC के पास पहुंचे ग्रामीण

Kangra Airport के विस्तारीकरण के विरोध में सड़कों पर लोग,सरकार को सीधी-सीधी चेतावनी

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

HP : Board

SOS 8वीं, 10वीं और 12वीं परीक्षा के Admit Card जारी, वेबसाइट से करें डाउनलोड

Himachal में सुधरा शिक्षा का स्तर, Performance Grading Index में छठा रैंक

चौथी से नौवीं कक्षा तक के Syllabus में बदलाव, पुराने अध्याय हटाकर नए अध्याय जोड़े

हिमाचल शिक्षा बोर्ड ने वेबसाइट पर Upload किए Admit Card, करें अपलोड

विज्ञान विषयः अध्याय-11... मानव नेत्र तथा रंग-विरंगा संसार

विज्ञान विषयः अध्याय-10... प्रकाश-परावर्तन तथा अपवर्तन

Students के लिए अब आसान होगी केलकुलेशन, शिक्षा बोर्ड करेगा कुछ ऐसा

विज्ञान विषयः अध्याय-9......... अनुवंशिकता एवं जैव विकास

विज्ञान विषयः अध्याय-8......... जीव जनन कैसे करते हैं?

इस बार दो लाख 17 हजार 555 छात्र देंगे बोर्ड परीक्षाएं, 15 से Practical

शिक्षा बोर्डः 10वीं और 12वीं के Admit Card अपलोड, फोन नंबर भी जारी

ब्रेकिंगः HP Board ने इस शुल्क में की कटौती, 300 से 150 किया

विज्ञान विषयः अध्याय-7......... नियंत्रण एवं समन्वय

विज्ञान विषयः अध्याय-6......... जैव प्रक्रम

बोर्ड इन छात्रों को पेपर हल करने के लिए एक घंटा देगा अतिरिक्त, डेटशीट जारी


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है