Covid-19 Update

43,500
मामले (हिमाचल)
34,555
मरीज ठीक हुए
698
मौत
9,606,810
मामले (भारत)
65,907,507
मामले (दुनिया)

बच्ची को दूध में शराब मिलाकर पिलाता था बाप, तीन दिन से थी भूखी, महिला आयोग ने बचाया

बच्ची को दूध में शराब मिलाकर पिलाता था बाप, तीन दिन से थी भूखी, महिला आयोग ने बचाया

- Advertisement -

दिल्ली। महिला आयोग ने दिल्ली (Delhi) के प्रेम नगर से एक तीन साल की बच्ची को बचाया है। बच्ची का बाप न तो उसकी ठीक से देखभाल करता था उल्टा उसे दूध में शराब मिलाकर पिलाता था। एक आदमी ने 181 महिला हेल्पलाइन पर सूचना दी थी कि बच्ची को तीन दिन से उसके पिता ने कुछ खिलाया नहीं है। दिल्ली महिला आयोग (Mahila ayog) की 181 महिला हेल्पलाइन पर शिकायत मिलने पर तुरंत आयोग की एक टीम दिए गए पते पर पहुंची और पाया कि 3 साल की बच्ची मल-मूत्र में पड़ी हुई थी। वह बहुत ही दुर्बल थी और बहुत बीमार लग रही थी। आयोग की टीम ने पाया कि बच्ची का पिता (Father) उसी कमरे में सो रहा था। कमरे में कई सारी खाली शराब की बोतलें पड़ी हुई थीं।


यह भी पढ़ें :-  सिगरेट से हो सकती है स्किन की यह गंभीर बीमारी, शराब से और बढ़ सकती है समस्या


काम पर जाते हुए घर पर छोड़ जाता था अकेला

पड़ोसियों (Neighbors) ने बताया कि वह आदमी शराबी था और वह घंटों तक ऐसे ही सोता रहता था, जबकि बच्ची भूख और गंदगी के कारण रोती रहती थी। पड़ोसियों ने आयोग की टीम को बताया कि बच्ची की मां एक साल पहले ही मर गई थी और उसका पिता जो रिक्शा चलाता है, ज्यादातर समय शराब (Alcohol) के नशे में रहता है इसलिए वह बच्ची की देखभाल नहीं करता। वह जब काम पर बाहर जाता था तो बच्ची को कमरे में अकेला छोड़ जाता था और पड़ोसियों को भी उसकी मदद नहीं करने देता। उन्होंने यह भी बताया कि उन्होंने उस आदमी को बच्ची को दूध की बोतल में शराब देते हुए भी देखा है। कोई यह नहीं जानता था कि वह बच्ची को किस समय और कैसे खाना खिलाता था।

गंदे डाइपर से बच्ची के गुप्तांगों में हुआ संक्रमण

जब आयोग की टीम ने बच्ची के पिता को जबरदस्ती जगाया तो वह हिंसक हो गया और बच्ची को अस्पताल ले जाने में सहयोग देने से मना कर दिया। आयोग की टीम ने तब पुलिस (Police) को बुलाया और बच्ची और उसके पिता को एसएचओ प्रेम नगर के समक्ष पेश किया। हालांकि इस मामले में कोई एफआईआर दर्ज नहीं हुई है। आयोग की टीम ने बच्ची को अस्पताल में भर्ती कराया, वहां डॉक्टरों ने बताया कि बच्ची के गुप्तांगों में गंदे डाइपर और कम साफ-सफाई की वजह से बहुत संक्रमण (Infection) हो गया है। उसे तेज बुखार था और उसके शरीर पर चोट के निशान थे। बच्ची का अस्पताल में इलाज चल रहा है और उसकी हर समय देखभाल के लिए आयोग की काउंसलर तैनात है। उसको अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद शेल्टर होम में ले जाया जाएगा।

हिमाचल अभी अभी की मोबाइल एप अपडेट करने के लिए यहां क्लिक करें

- Advertisement -

loading...
Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है