कारगिल विजय दिवस समारोह में छलके पीएम के आंसू, कहा- युद्ध सरकारें नहीं, पूरा देश लड़ता है

बोले- सरकारें आती जाती रहती हैं लेकिन सैनिक अजर-अमर होते हैं

कारगिल विजय दिवस समारोह में छलके पीएम के आंसू, कहा- युद्ध सरकारें नहीं, पूरा देश लड़ता है

- Advertisement -

नई दिल्ली। करगिल विजय दिवस (Kargil Vijay Divas) समारोह में शामिल होने के लिए पहुंचे पीएम मोदी (PM Narendra Modi) ने करगिल के शहीदों से जुड़ी प्रदर्शनी का अवलोकन किया। इस दौरान रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) भी उनके साथ मौजूद रहे। पीएम मोदी ने द्वीप जलाकर करगिल विजय दिवस समारोह की शुरूआत की। पीएम मोदी दिल्ली के इंदिरा गांधी इंडोर स्टेडियम में करगिल विजय दिवस से जुड़े कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि युद्ध सरकारें नहीं लड़ती हैं। युद्ध पूरा देश लड़ता है। सरकारें आती जाती रहती हैं। लेकिन जो देश के लिए मरने जीने की परवाह नहीं करते हैं, वे अजर अमर होते हैं।


इस कार्यक्रम में एक पल ऐसा भी आया जब पीएम नरेंद्र मोदी की आंखें डबडबा गईं और वह अपने आंसू नहीं रोक सके। दरअसल कारगिल युद्ध में शहीद हुए एक जवान की आखिरी चिट्ठी को पढ़ने हुए एक डांस ग्रुप ने परफॉर्मेंस दी थी। इस परफॉर्मेंस के बाद एक ऐसा क्षण आया जब पीएम मोदी की आंखों में आंसू भर आए।

यह भी पढ़ें :-इलेक्ट्रिक वाहनों पर जीएसटी दर 12% से घटाकर 5% की गई, नई दरें 1 अगस्त से होंगी लागू

उन्होंने कहा कि सैनिक आने वाले दिनों के लिए खुद को मिटा देते हैं। मैं 20 साल पहले करगिल तब भी गया था जब युद्ध अपने चरम पर था। दुश्मन ऊंची चोटियों पर बैठकर अपने खेल, खेल रहा था। एक साधारण नागरिक के नाते मैंने मोर्चे पर जुटे अपने सैनिकों के शौर्य को उस मिट्टी पर जाकर नमन किया था। पीएम ने कहा कि करगिल में विजय भारत के वीर बेटे, बेटियों के अदम्य साहस की जीत थी। करगिल में विजय भारत के सामर्थ्य और संयम की जीत थी। करगिल में विजय भारत के संकल्पों की जीत थी। करगिल में विजय भारत के मर्यादा और अनुशासन की जीत थी।

यह भी पढ़ें: हिमाचल में अब अस्थाई बिजली कनेक्शन को नहीं करना पड़ेगा इंतजार

पीएम ने आगे कहा कि इस बार सरकार बनते ही पहला फैसला शहीदों के बच्चों की स्कॉलरशिप बढ़ाने का किया गया। इसके अलावा ‘नेशनल वॉर मेमोरियल’ भी आज हमारे वीरों की गाथाओं से देश को प्रेरित कर रहा है। उन्होंने आगे कहा कि भारत का इतिहास गवाह है कि भारत कभी आंक्राता नहीं रहा है। मानवता के हित में शांतिपूर्ण आचरण हमारे संस्कारों में है। हमारा देश इसी नीति पर चला है। भारत में हमारी सेना की छवि देश की रक्षा की है। तो विश्व में हम मानवता और शांति के रक्षक भी हैं। पीएम ने कहा कि सैनिक आज के साथ ही आने वाली पीढ़ी के लिए अपना जीवन बलिदान करते हैं। हमारा आने वाला कल सुरक्षित रहे, उसके लिए वो अपना वर्तमान स्वाहा कर देता है। सैनिक जिंदगी और मौत में भेद नहीं करते, उनके लिए कर्तव्य ही सब कुछ होता है।

यह भी पढ़ें: हादसा: जागेश्वर धाम जा रहे बैंक कर्मचारियों की कार खाई में गिरी, 2 की मौत, 2 गंभीर

 

करगिल युद्ध के 20 साल पूरे होने के अवसर पर यह कार्यक्रम आयोजित किया गया है। बता दें कि यह पहला मौका है जब पीएम करगिल विजय दिवस के अवसर पर राष्ट्र को संबोधित करेंगे। अब तक किसी भी पीएम ने करगिल विजय दिवस पर आयोजित किसी सार्वजनिक आयोजन में शिरकत नहीं की है। इस कार्यक्रम में करगिल युद्ध पर बनी छोटी फिल्म भी दिखाई जाएगी और सेना का बैंड भी प्रस्तुति देगा।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें ….

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

अनुराग की सोनिया-मनमोहन पर चुटकीः बोले, भ्रष्टाचारी तिहाड़ के रास्ते के जानकार

सड़क किनारे लंगर लगाने पर रोक,डीजे सिस्टम, आतिशबाजी और रेहड़ी को भी हो गई "नो"

गुस्साए रेहड़ी-फड़ी धारक पहुंचे डीसी ऑफिस के गेट पर, जमकर की नारेबाजी

Video : भोरंज में "थर्ड डिग्री" से पिटाई का लाइव वीडियो वायरल, पुलिस कर रही छानबीन

पुलिस ने चंडीगढ़ से धरा शिमला सेक्स रैकेट का सरगना

हिमाचल की सीनियर बॉक्सिंग टीम भूटान रवाना, 24-25 को होगी प्रतियोगिता

बंद हुई दुनिया की सबसे पुरानी ट्रेवल कंपनी, खतरे में 22 हजार नौकरियां

Breaking: कांग्रेस गुरुवार को खोल देगी धर्मशाला-पच्छाद में अपने पत्ते, आज होगी "ये डवेलपमेंट"

अमेरिका में हाउडी मोदी के बाद अब पीएम मोदी का मिशन न्यूयॉर्क, ये है कार्यक्रम

चिदंबरम से मिलने तिहाड़ जेल पहुंचे सोनिया गांधी और मनमोहन सिंह

धर्मशालाः नया वन-वे ट्रैफिक प्लान लागू, खनियारा से इस मार्ग से होगा आना

हिमाचल में बारिश और हिमपात ने बढ़ाई ठंडक, जाने कब तक खराब रहेगा मौसम

धर्मशाला उपचुनावः टिकट के तलबगारों की बढ़ी धुकधुकी, लंबी है फेहरिस्त

पच्छाद से उठी आवाज, गंगूराम मुसाफिर ही इस बार-बैठक कर जताई सहमति

9 मजदूरों को लेकर शिंकुला दर्रा पार कर मनाली पहुंची टेंपो ट्रैवलर

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है