मोदी का गैर राजनीतिक इंटरव्यू : जानिए अक्षय के सवालों पर क्या रहे पीएम के जवाब

मोदी का गैर राजनीतिक इंटरव्यू : जानिए अक्षय के सवालों पर क्या रहे पीएम के जवाब

- Advertisement -

नई दिल्ली। चुनावी माहौल है और ऐसे में सभी पार्टी को लेकर प्रचार में जुटे हुए हैं। इसी बीच पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) का एक गैर राजनीतिक इंटरव्यू सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बना हुआ है। ये इंटरव्यू किसी बड़े पत्रकार या एंकर ने नहीं बल्कि बॉलीवुड के खिलाड़ी कहे जाने वाले अक्षय कुमार (Akshay kumar) ने लिया है। व्यस्त चुनावी कार्यक्रम से समय निकाल कर मोदी ने अक्षय कुमार को इंटरव्यू दिया। इस विशेष इंटरव्यू (Special interview) में मोदी ने अपनी लाइफ से जुड़ी कई खास बातें अक्षय से साझा की हैं।


यह भी पढ़ें :-अक्षय कुमार ने लिया PM मोदी का इंटरव्यू, पूछा- परिवार की याद नहीं आती? 

पढ़ें पीएम मोदी से जुड़े कुछ अनसुने किस्से :

मोदी ने कहा कि मैंने बहुत छोटी उम्र में घर छोड़ दिया था और इसलिए लगाव, मोहमाया सब मेरी ट्रेनिंग के कारण छूट गया। मैं साढ़े तीन घंटे सोता हैं, काम का नशा है।

कभी नहीं सोचा था पीएम बनूंगा, बचपन से ही बड़े लोगों की जीवनी पढ़ने का शौक था। किताबें पढ़ने का शौक था। परिवार चाहता था कोई अच्छी नौकरी करे लेकिन मैं देश के लिए जीना मरना चाहता था। मैंने जो सोचा वो बन गया। मैं सीखता हूं और सिखाता हूं। मैं टीम बनाकर चलता हूं। मैं अनुसाशित हूं किसी का अपमान नहीं करता।

बहुत छोटी उम्र में बहुत कुछ छोड़ दिया। मैं पीएम बनकर घर से नहीं निकला। देर से घर आने पर मां को दुख होता था। मां ने कहा मेरे पीछे वक्त क्यों खराब करते हो। मेरी कड़क छवि जो बनाई गई है वह सही नहीं है। काम के लिए किसी पर दबाव नहीं डालता। मैं काम के समय काम में रहता हूं। इधर-उधर की बातें नहीं करता हूं।

यह भी पढ़ें :लोकसभा चुनाव live: वोट के बाद भाषण पर पीएम मोदी को क्लीन चिट

कभी मेरे मन में प्रधानमंत्री बनने का विचार नहीं आया और सामान्य लोगों के मन में ये विचार आता भी नहीं हैं और मेरा जो फैमिली बैकग्राउंड हैं उसमें मुझे कोई छोटी नौकरी मिल जाती तो मेरी मां उसी में पूरे गांव को गुड़ खिला देती। बचपन में मेरा स्वभाव था किताबें पढ़ना, बड़े-बड़े लोगों का जीवन पढ़ता था। कभी फौज वाले निकलते थे तो बच्चों की तरह खड़ा होकर उन्हें सेल्यूट करता था।

हम लोगों की एक इनर सर्कल की मीटिंग थी। अटल जी, आडवाणी जी, राजमाता सिंधिया जी, प्रमोद महाजन जी थे। उसमें सबसे छोटी आयु का मैं था। उसमें ऐसे ही बात छिड़ी कि रिटारटमेंट के बाद क्या करेंगे। मुझे पूछा तो मैंने कहा, मेरे लिए तो बहुत कठिन है। मुझे जो जिम्मेवारी मिलती है, वही करता जाता हूं।

यह भी पढ़ें :-आसनसोल में बोले मोदी, ‘घोटालों में कांग्रेस को टक्कर दे रही है टीएमसी’

सरकार की तरफ से एक प्लॉट मिलता है, कुछ कम दाम में मिलता है। फिर मैंने वो पार्टी को दे दिया। हालांकि कुछ नियम है जिस पर सुप्रीम कोर्ट में मामला है। जैसे ही वह क्लीयर होगा, प्लॉट मैं पार्टी के नाम कर दूंगा।

अगर मुझे अलादीन का चिराग मिल जाये तो मैं उसे कहूंगा कि ये जितने भी समाजशास्त्री और शिक्षाविद हैं उनके दिमाग में भर दो कि वो आने वाली पीढ़ियों को ये अलादीन के चिराग वाली थ्योरी पढ़ानी बंद कर दें। उन्हें मेहनत करने की शिक्षा दें।

प्रधानमंत्री बनते समय शायद और प्रधानमंत्रियों को ये बेनिफिट नहीं मिला है जो मुझे मिला है वो ये है कि मैं गुजरात का इतने समय तक सीएम रहा और उस पद पर रहते हुए आपको बारीकियों से काम करना पड़ता है, मुद्दे आपके सामने सीधे आते हैं और उनका समाधान भी आपको सीधा ही करना पड़ता है।

जब मैं गुजरात से CM बना तो मेरा बैंक अकाउंट नहीं था। जब MLA बना तो सेलरी आनी लगी। स्कूल में देना बैंक के लोग आए थे। उन्होंने बच्चों को गुल्लक दिया और कहा कि इसमें पैसे जमा करें और बैंक में जमा कर दें। लेकिन हमारे पास होता तब तो डालते। तब से अकाउंट यूं ही पड़ा रहा।

ममता दीदी साल में आज भी मेरे लिए एक-दो कुर्ते भेजती है। बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना जी साल में 3-4 बार खास तौर पर ढाका से मिठाई भेजती हैं। ममता दीदी को पता चला तो वो भी साल में एक-दो बार मिठाई जरूर भेज देती हैं।

मैं कभी किसी से मिलता हूं तो मेरा कभी कोई फोन नहीं आता है। मैंने खुद को जीवन को ऐसा अनुशासित बनाया है। जहां तक ह्यूमर का सवाल है तो मेरे परिवार में मैं हमेशा पिता जी की नाराज होते थे तो पूरे माहौल को हल्का कर देता था।

मेरे आसपास एक वर्क कल्चर डेवलप होता है। मैंने Human Resource Development में ही जिंदगी खपाई है। हां, मैं काम के वक्त काम में रहता हूं। समय नहीं खराब करता हूं।

मैं आम खाता हूं और मुझे आम पसंद भी है। वैसे जब मैं छोटा था तो हमारे परिवार की स्थिति ऐसी नहीं थी की खरीद कर खा सकें। लेकिन हम खेतों में चले जाते थे और वहां पेड़ के पके आम खाते थे।

मैं सोशल मीडिया जरूर देखता हूं इससे मुझे बाहर क्या चल रहा है इसकी जानकारी मिलती है। मैं आपका भी और ट्विंकल खन्ना जी का भी ट्विटर देखता हूं और जिस तरह वो मुझ पर गुस्सा निकालती हैं तो मैं समझता हूं कि इससे आपके परिवार में बहुत शांति रहती होगी।

हमारे यहां एक चुटकुला चलता है, एक बार स्टेशन पर एक ट्रेन आई तो ऊपर लेटे हुए एक यात्री ने पूछा की कौनसा स्टेशन आया है? तो बताने वाले ने कहा की 4 आना दोगे तो बताऊंगा, वो यात्री बोला भाई बताने की जरुरत नहीं है मैं समझ गया अहमदाबाद आ गया है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए Like करें हिमाचल अभी अभी का Facebook Page…. 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

पांच पुलिस कर्मियों की एसपी से शिकायत, बेरहमी से पिटाई का जड़ा आरोप

पुलिस कांस्टेबल लिखित परीक्षा में पास अभ्यर्थी इंटरव्यू के लिए हो जाएं तैयार

नए उद्योग स्थापित करने व विस्तार को मिली मंजूरी, सैकड़ों को मिलेगा रोजगार

एसडीएम पालमपुर पर हमला करने का आरोपी टिप्पर चालक गिरफ्तार

कैबिनेटः 'एक बूटा बेटी के नाम' योजना होगी शुरू, ये स्कूल होंगे अपग्रेड

कैबिनेट में धारा-118 को लेकर भी हुई चर्चा, पर्यटन नीति के मसौदे को भी मंजूरी

रायजादा बोले, स्वां तटीकरण परियोजना में हो रहा बड़े पैमाने पर गोलमाल

ब्रेकिंगः सृजित होंगे 17 ड्रग इंस्पेक्टर के पद, नियमित होंगे यह कर्मचारी

प्रतिबंध हटते ही बजौरा के पास राफ्ट पलटी, केरल के पर्यटक की मौत

पीएम मोदी के जन्मदिन से एक दिन पहले नमो एप का नया वर्जन लांच

जयराम कैबिनेट के दो बड़े फैसले, मेधावी छात्रों को लैपटॉप देने को मंजूरी

पीएसए के तहत बंदी बनाए गए "फारुक अब्दुल्ला" दो साल तक रह सकते हैं कैद

राठौर ने तीसरी सूची जारी कर 16 ब्लॉक में नए अध्यक्ष किए तैनात, कार्यकारिणी को दस दिन का वक्त

धारा 370 : सीजेआई बोले - कोर्ट से संपर्क करने में असमर्थ हैं लोग तो खुद जाऊंगा श्रीनगर

आंध्र प्रदेश विधानसभा के पूर्व स्पीकर कोडेला ने फंदा लगाकर की खुदकुशी

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है