अयोध्या में मस्जिद से पहले स्ट्रक्चर था तो सबूत दिखाएं- सुप्रीम कोर्ट

चीफ जस्टिस ने कहा कि वह इस मामले की सुनवाई में जल्दबाजी में नहीं है

अयोध्या में मस्जिद से पहले स्ट्रक्चर था तो सबूत दिखाएं- सुप्रीम कोर्ट

- Advertisement -

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में मंगलवार यानी आज से से रोजाना अयोध्या के रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद मामले में सुनवाई शुरू हो गई है। मध्यस्थता को लेकर नियुक्त की गई समिति के किसी भी निष्कर्ष पर नहीं पहुंचने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या विवाद (Ayodhya dispute) में 6 अगस्त से रोज सुनवाई करने का आदेश दिया था। आज से ही प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई (Ranjan Gogoi) की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संविधान बेंच ने मामले की सुनवाई शुरू कर दी है। सुनवाई के दौरान अदालत ने सबसे पहले राम मंदिर मामले के लाइव प्रसारण की मांग को खारिज कर दिया।


यह भी पढ़ें- भीषण आग से छह की मौत, 11 गंभीर रूप से घायल, अस्पताल में भर्ती


चीफ जस्टिस रंजन गोगोई के सवाल

मामले की सुनवाई के दौरान चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि हमारे सामने वहां के स्ट्रक्चर पर स्थिति को साफ करें। चीफ जस्टिस ने पूछा कि वहां पर एंट्री कहां से होती है? सीता रसोई से या फिर हनुमान द्वार से? वहीं CJI ने पूछा कि निर्मोही अखाड़ा कैसे रजिस्टर किया हुआ? जस्टिस नज़ीर ने निर्मोही अखाड़े से पूछा कि आप बहस में सबसे पहले अपनी बात रख रहे हैं, आपको हमें इसकी पूरी जानकारी देनी चाहिए। चीफ जस्टिस ने कहा कि वह इस मामले की सुनवाई में जल्दबाजी में नहीं है।

निर्मोही अखाड़े की तरफ से ये जवाब दिया गया

निर्मोही अखाड़े की तरफ से सुशील जैन ने आंतरिक कोर्ट यार्ड पर मालिकाना हक का दावा किया। उन्होंने कहा कि सैकड़ों वर्षों से इस जमीन और मन्दिर पर अखाड़े का ही अधिकार और कब्ज़ा रहा है, इस अखाड़े के रजिस्ट्रेशन से भी पहले से ही है। सदियों पुराने रामलला की सेवा पूजा और मन्दिर प्रबंधन के अधिकार को छीन लिया गया है। निर्मोही अखाड़े (Nirmohi Akhada) की तरफ से अदालत को बताया गया कि 1961 में वक्फ बोर्ड ने इस पर दावा ठोका था। लेकिन हम ही वहां पर सदियों से पूजा करते आ रहे हैं, हमारे पुजारी ही प्रबंधन को संभाल रहे थे। निर्मोही अखाड़े के वकील ने मस्जिद से पहले किसी तरह के ढांचे का कोई सबूत नहीं होने की बात पर कहा कि अगर उन्होंने इसे ढहा दिया तो इसका मतलब ये नहीं है कि वहां पर कोई निर्माण नहीं था। चीफ जस्टिस ने इसके बाद कहा कि इसी मुद्दे के लिए ट्रायल होता है, आपको हमें सबूत दिखाना पड़ेगा।


हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें …. 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

केदारनाथ हाईवे पर गिरा बोल्डर : कार-बाइक दुर्घटनाग्रस्त, आठ की मौत

सलापड़ में एचआरटीसी की बस में सवार युवक से पकड़ा चिट्टा

मानसिक रोगी ने तोड़ा नाई की दुकान का शीशा, भीड़ ने कर दी पिटाई

रात को टहलने निकला फैजाबाद का पर्यटक, पार्वती नदी में गिर कर हुआ लापता

कुपवाड़ा : पाकिस्तानी सेना ने तोड़ा सीजफायर, फायरिंग में दो जवान शहीद, एक नागरिक की मौत

ऊनाः लावारिस गाय से टकराईं दो कारें, एक बीच सड़क पलटी - 4 घायल

पंजाब नवांशहर के सैनिक ने कसौली के गेस्ट हाउस में लगाया फंदा

हंगामाः एचआरटीसी चालक ने छात्रा को दी गाली, आया चक्कर-अस्पताल में भर्ती

स्वामी बोले-गोडसे की गोली से ही हुई थी महात्मा गांधी की मौत, यह जांच का विषय

भुंतर एयरपोर्ट पर ज्वाइनिंग लेटर लेकर पहुंचा युवक, सच पता चला तो उड़ गए होश

टैट के लिए आए 60254 आवेदन, 3008 हो सकते हैं रद्द-जानिए कारण

कौन महात्मा और कौन चूहा, भाषण में यह क्या कह गए सुधीर-जानिए

जयराम बोले- दिल्ली और शिमला दोनों तरफ से होगा धर्मशाला का विकास

रंगड़ों का हमलाः बच्ची की मौत के बाद मां ने भी आईजीएमसी में तोड़ा दम

शांता बोले, धर्मशाला में बहुत सुनी नेताओं की, आखिरी दो बातें मेरी भी सुन लें

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है