×

हमारे आसपास रहती है और हमें ही पता नहीं …

हमारे आसपास रहती है और हमें ही पता नहीं …

- Advertisement -

हमारे किचनगार्डन या आसपास कितने ही ऐसे पौधे हैं जिनको हम जानते हैं और उनका उपयोग भी करते हैं पर यह नहीं जानते कि ये बेहतरीन औषधियां भी हैं। कई बीमारियों में ये औषधियां कारगर साबित हुईं हैं। इनका कोई साइडइफेक्ट भी नहीं होता। जानते हैं ऐसी ही कुछ औषधियों के बारे में जो बेहद असरकारक हैं …
  • पुदीने की पत्तियां खून साफ करती हैं, सिरदर्द ठीक करती हैं, खराब गले को राहत पहुंचाती हैं, उल्टियों को रोकती हैं और दांतों की दिक्कतों से भी निजात दिलाती हैं। पुदीना ऐंटी-बैक्टीरियल भी होता है जो शरीर में बैक्टीरिया पैदा होने से रोकता है।


  • हल्दी का इस्तेमाल हम लगभग सभी हिन्दुस्तानी सब्जियों या खाद्य पदार्थों में करते हैं। इसकी जड़ों और पत्तियों में औषधीय गुण होते हैं। इसमें सबसे अच्छे ऐंटी-बैक्टीरियल गुण हैं। इसमें जोड़ों के दर्द, आर्थराइटिस, पाचन विकार, दिल और लिवर की बीमारियों से लड़ने की क्षमता है। यहां तक कि यह कैंसर सेलों को भी खत्म कर देती है । हल्दी स्किन के लिए भी अच्छी होती है।
  • लेमन ग्रास आमतौर पर उत्तर भारत में उगाया जाता है। इसे चाय में डालकर पीने का चलन है। लेमन ग्रास शरीर, जोड़ों, सिर दर्द, मांसपेशियों के दर्द  और स्ट्रेस से भी बचाती है।

  • सफेद कमल की पत्तियां, फूल, बीज और जड़ों से हैजा, पेट की बीमारियों, कब्ज और आंखों के इन्फेक्शन का इलाज किया जाता है।
  • मेहंदी की पत्तियां दर्द को कम करती हैं और शरीर को डीटॉक्स करती हैं। कब्ज के इलाज में भी इनका इस्तेमाल हो सकता है। छाले, अल्सर, चोट, बुखार, हैमरेज  से भी मेहंदी की पत्तियां छुटकारा दिलाती हैं।
  • भारतीय मसालों में दालचीनी अहम है। इसके सेवन से दर्द कम होता है और अकड़न दूर होती है। यह किडनी को डि‍टॉक्स करती है और सांस संबंधी दिक्कतें दूर कर ब्लड सर्कुलेशन बढ़ाती है।

  • ईसबगोल की भूसी कब्ज का अचूक इलाज है। यह आंतों को रिलैक्स करती है। इसे पीसकर जोड़ों पर लगाने से जोड़ों के दर्द से भी आराम मिलता है।
  • कपूर – इस पौधे के अनगिनत फायदे हैं। इसकी छाल से बैक्टीरिया और फंगस से निजात मिलती है, दर्द से आराम मिलता है, यह मानसिक स्वास्थ्य को बढ़ाता है। कपूर के तेल से खांसी, दमा, हिचकी, लिवर की दिक्कतों और दांत के दर्द का इलाज किया जाता है। इसे मांसपेशियों या नसों का दर्द ठीक करने और डिप्रेशन का इलाज करने के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है