Covid-19 Update

2,05,499
मामले (हिमाचल)
2,01,026
मरीज ठीक हुए
3,504
मौत
31,571,295
मामले (भारत)
197,365,402
मामले (दुनिया)
×

…जब नन्हें हाथों ने दी शहीद की पार्थिव देह को मुखाग्नि

…जब नन्हें हाथों ने दी शहीद की पार्थिव देह को मुखाग्नि

- Advertisement -

Naxal Attack Martyr Sanjay Kumar : नेरचौक(मंडी) : छत्तीसगढ़ के नक्सली हमले में शहीद हुए नेरचौक के सुरेंद्र ठाकुर का सोमवार को सैनिक सम्मान के साथ पैतृक शमशान घाट नेरढांगू में अंतिम संस्कार किया गया। पार्थिव शरीर के साथ आए सीआरपीएफ के जवानों व पुलिस टुकड़ी ने हवाई फायर कर शहीद को सलामी दी। शहीद की तीन वर्षीय बेटी एलिना ने अपने शहीद पिता के पार्थिव शरीर को मुखाग्नि दी। शहीद सुरेंद्र का पार्थिव शरीर सोमवार को छत्तीसगढ़ से हेलिकॉप्टर द्वारा सुंदरनगर लाया गया। सुंदरनगर से उनके पार्थिव शरीर को गाड़ी से वाया रोड दोपहर बाद साढ़े 5 बजे उनके पैतृक घर नेरचौक लाया गया। अंतिम संस्कार में क्षेत्र के सैकड़ों लोगों ने शामिल होकर प्रदेश के शहीद बेटे को अपनी नम आंखों से अंतिम विदाई दी। सुरेंद्र की शहादत से पूरा क्षेत्र गमगीन है। शहीद के भाई जितेंद्र ठाकुर ने देश में भीतरघात कर रहे नक्सलियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग उठाई है।

  • शहीद सुरेंद्र ठाकुर का शरीर सैनिक सम्मान के साथ पंचत्व में विलिन
  • शहीद की तीन वर्षीय बेटी ने पिता के पार्थिव शरीर को दी  मुखाग्नि
  • शव के घर पहुंचते ही पूरा माहौल हो गया गमगीन, हर आंख नम
  • परिजनों ने भीतर घातियों के खिलाफ ठोस कार्रवाई की उठाई मांग

नक्सलवाद को खत्म करने के पूरे प्रयास

पार्थिव शरीर के साथ आए सीआरपीएफ के डीआईजी वीके कौंडल ने बताया कि नक्सलवाद को खत्म करने के पूरे प्रयास किए जा रहे और सफल भी हुए हैं। उन्होंने बताया कि इस बारे में रणनीति तैयार की गई है और जल्द ही कायराना हमला करने वालों को मुहंतोड़ जवाब दिया जाएगा। बता दें कि नेरचौक के 33 वर्षीय सुरेंद्र सीआरपीएफ में तैनात थे। जिस टुकड़ी पर सोमवार को नक्सलियों ने हमला किया था, उस टुकड़ी में सुरेंद्र भी शामिल थे। छत्तीसगढ़ के सुकमा में सीआरपीएफ की 74वीं बटालियन में तैनात नेरचौक के सिपाही सुरेंद्र सिंह नक्सली हमले में शहीद हो गए थे।


शहीद सुरेंद्र 2003 में सीआरपीएफ में भर्ती हुए थे। उन्होंने 6 साल श्रीनगर में अपनी सेवाएं दी। सुरेंद्र पिछले तीन सालों से छत्तीसगढ़ के सुकमा में सेवारत थे। वह अपने पीछे माता विमला देवी, पत्नी किरण, तीन वर्षीय बेटी एलिना व भाई जितेंद्र को छोड़ गए हैं। सुरेंद्र की शहादत का समाचार सुनकर पूरा क्षेत्र गमगीन हो गया। सुरेंद्र की माता विमला देवी व पत्नी किरण को जब समाचार का पता चला तो उनका रो-रोकर बुरा हाल हो गया। सुरेंद्र की तीन साल की बेटी एलिना जो अभी इस सत्य से अनजान है अपनी मां और दादी को देख-देखकर रो रही है। अपने लाडली बेटी को देखकर उनकी मां व अपने पति को देख उनकी पत्नी बेसुध हालत में पड़ गई। सुरेंद्र की शहादत का समाचार सुनकर दूर-दूर से लोग से शहीद के दर्शनों के लिए पहुंचे।

थमने का नाम नहीं ले रहे थे आंसू

इस माहौल को देखकर सभी लोगों के आंसू भी नहीं थम रहे थे। मंडी संसदीय क्षेत्र के सांसद रामस्वरूप, प्रदेश सरकार की ओर से स्थानीय विधायक व आबकारी एवं कराधान मंत्री प्रकाश चौधरी ने शहीद को अंतिम विदाई दी। सांसद ने प्रधानमंत्री और रक्षा मंत्री से नक्सलियों पर एक और सर्जिकल स्ट्राइक करने की मांग उठाई, वहीं मंत्री प्रकाश चौधरी ने शहीद के परिवार को सरकार की तरफ से हर संभव मदद का भरोसा दिलाया। इस मौके पर डीसी मंडी संदीप कदम, एसपी प्रेम ठाकुर, उपमंडलाधिकारी बल्ह सिद्धार्थ आचार्य, एसएचओ संजीव सूद, तहसीलदार जयगोपाल शर्मा, नेरचौक व्यापार मंडल सहित सैकड़ों लोगों ने शहीद सुरेंद्र की अंतिम विदाई में पहुंचकर शहीद को श्रद्धाजंलि दी।

नन्ही एलिना बोली, मुझे भी चाहिए यह फूल

शमशानघाट में उस वक्त हर किसी की आंख भर आई जब शहीद सुरेंद्र कुमार की तीन साल की बेटी ने अपने पिता की अर्थी पर चढ़ रहे फूलों को देखकर कहा कि मुझे भी यह फूल चाहिए। ऐसा सुनकर हर किसी की आंख भर आई। इस छोटी सी मासूम को क्या मालूम था कि उसके पिता की अर्थी पर जो फूल चढ़ रहे थे वह एक अंतिम विदाई के रूप में दिए गए थे।

शहीद की बेटी का दर्द : सरकारें सिर्फ दावे करती हैं कार्रवाई नहीं

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है