Covid-19 Update

2,16,906
मामले (हिमाचल)
2,11,694
मरीज ठीक हुए
3,634
मौत
33,477,459
मामले (भारत)
229,144,868
मामले (दुनिया)

टिड्डी दल के हमले से बचने के लिए करें ऐसा, Agriculture Department ने जारी की एडवाइजरी

टिड्डी दल के हमले से बचने के लिए करें ऐसा, Agriculture Department ने जारी की एडवाइजरी

- Advertisement -

सोलन। टिड्डी दल के संभावित हमले को लेकर हिमाचल में अलर्ट जारी किया गया है। हिमाचल के कांगड़ा, ऊना, बिलासपुर और सोलन जिले हाई अलर्ट पर हैं। हिमाचल कृषि विभाग (Agriculture Department)  भी सतर्क हो गया है। प्रदेश में फसलों को टिड्डी दल के हमले से बचाने के दृष्टिगत कृषि विभाग सोलन ने किसानों के लिए आवश्यक परामर्श (Advisory) जारी किया है। उपनिदेशक कृषि डॉ. पीसी सैनी ने कहा कि यह टिड्डी दल हवा के साथ क्षेत्र विशेष में पहुंचता है। उन्होंने कहा कि जब यह टिड्डी दल (Tiddi Dal) किसी विशेष क्षेत्र में पहुंचता है तो तुरंत इसका उपचार रसायन इत्यादि के साथ किया जाना चाहिए। उपनिदेशक कृषि ने कहा कि टिड्डी दल का समूह एक दिन में 150 से 200 किलोमीटर तक की दूरी तय कर सकता है। इनका समूह एक वर्ग किलोमीटर से कई सौ किलोमीटर तक का होता है। यह समूह दिन में उड़ता है तथा रात को किसी जगह बैठकर विश्राम करता है।

ड्रम व बर्तनों आदि से तेज आवाज निकालकर भी इन्हें रखा जा सकता है दूर

डॉ. पीसी सैनी ने कहा कि भारत में टिड्डी दल का समूह पाकिस्तान (Pakistan) की तरफ से राजस्थान के रास्ते प्रवेश कर गया है। फसल को इनके कारण होने वाले व्यापक नुकसान के दृष्टिगत हिमाचल के कुछ जिलों में इस संबंध में चेतावनी जारी की गई है। उन्होंने कहा कि सोलन (Solan) जिला के लिए भी यह चेतावनी जारी की गई है। डॉ. पीसी सैनी ने कहा कि उचित प्रबंधन से किसान टिड्डी दल को खेतों से दूर रख सकते हैं। प्रभावित खेतों के आसपास कृषक ड्रम अथवा बर्तनों इत्यादि से तेज आवाज निकाल कर टिड्डी दल को फसल से दूर रख सकते हैं।

यह भी पढ़ें: Hamirpur : बच्ची को बचाते मां पर गिरी आसमानी बिजली, टांगों में लगी चोट

खेत में फसल से दूर जलाएं आग

उन्होंने कहा कि टिड्डी दल के समूह पर कलोरपायरीफॉस 20 ईसी (ईमल्सीफाइड कन्सनट्रेशन) का 2.5 मिलीलीटर प्रति लीटर जल में मिलाकर अथवा मेलाथियॉन (यूएलबी) का 10 मिलीलीटर प्रति लीटर जल में मिलाकर या लैम्ब्डा सयलोथ्रिन 4.9 प्रतिशत सीएस का 10 मिलीलीटर प्रति लीटर जल में मिलाकर ट्रेक्टर माउंटेड स्प्रेयर अथवा रोकर स्प्रेयर से छिड़काव करें। यह छिड़काव शाम अथवा रात के समय करें, क्योंकि टिड्डियां रात के समय बैठकर आराम करती हैं। उन्होंने कहा कि किसान खेत में फसल से दूर आग जला सकते हैं, जिसमें टिड्डी दल आकर्षित होकर जलकर समाप्त हो जाएगा। उन्होंने आग्रह किया कि किसान विभाग द्वारा इस संबंध में जारी किए गए परामर्श का अनुसरण करें, ताकि टिड्डी दल के हमले की संभावना में क्षति को न्यून किया जा सके।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है