Covid-19 Update

1,54,664
मामले (हिमाचल)
1,15,610
मरीज ठीक हुए
2219
मौत
24,372,907
मामले (भारत)
162,538,008
मामले (दुनिया)
×

हद हैः पहले आवेदन को आए Document गुम किए, फिर दो साल लगवा दिए चक्कर

हद हैः पहले आवेदन को आए  Document गुम किए, फिर दो साल लगवा दिए चक्कर

- Advertisement -

मंडी के गोहर में पेश आया मामला, महिला एवं बाल विकास अधिकारी के कार्यालय के चक्कर काटने को मजबूर पीड़ित

मंडी। पहले तो आवेदन को आए डॉक्युमेंट गुम कर दिए गए, फिर जब बात का बंतगड़ बना तो पीडि़त को फिर से आवेदन करने की बात कह दी। मामला मंडी जिला के गोहर  का है। यहां स्थानीय निवासी भीखम राम ने बाल-बालिका सुरक्षा योजना के तहत विभाग के पास आवेदन के साथ जो जरूरी दस्तावेज दिए थे, उन्हें विभाग के कर्मचारियों ने गुम कर दिया है।


दो वर्षों तक कार्यालय के चक्कर लगवाने के बाद अब भीखम राम से फिर से आवेदन करने को कहा जा रहा है। बहरहाल, मंडी जिला के गोहर उपमंडल के मुख्यालय पर खड्डी का काम करने वाले भीखम राम के चचेरे भाई की दो वर्ष पहले मौत हो गई। परिवार में कोई नहीं बचा, जिस कारण उनका 11 वर्षीय बेटा आदित्य अनाथ हो गया। भीखम राम ने आदित्य के पालन-पोषण का जिम्मा ले लिया। भीखम राम को जब भारत सरकार की बाल-बालिका सुरक्षा योजना के बारे में पता चला तो उन्होंने इसके लिए गोहर स्थित महिला एवं बाल विकास अधिकारी के कार्यालय में संपर्क करके आवेदन कर दिया। योजना के तहत ऐसे बच्चों की परवरिश करने वाले को दो हजार रुपए महीना और बच्चे को 300 रुपए महीना की आर्थिक सहायता दी जाती है।


यह भी पढ़ें…Virbhadra की Jai Ram को सलाहः संस्थान बंद करने की बजाए सुविधा करवाएं मुहैया

13 नवंबर 2015 को जमा करवाएं थे जरूरी दस्तावेज

13 नवंबर 2015 को भीखम राम ने सभी जरूरी दस्तावेज विभाग के कार्यालय में जमा करवा दिए। काफी इंतजार करने के बाद भी जब विभाग की तरफ से कोई जवाब नहीं आया तो भीखम राम इसका पता करने दोबारा कार्यालय गया। विभाग के कर्मचारी भीखम को अगली तारीखें देकर लटकाते रहे और दो वर्ष बीत जाने के बाद बताया गया कि आपके द्वारा दिए गए दस्तावेज गुम हो गए हैं और अब आपको दोबारा से आवेदन करना होगा। वहीं जब इस बारे में महिला एवं बाल विकास विभाग की जिला कार्यक्रम अधिकारी अंजु बाला से बात की गई तो उन्होंने माना कि भीखम राम द्वारा किए गए आवेदन के दस्तावेज गुम हो गए हैं। उन्होंने बताया कि इस बारे में सीडीपीओ गोहर को दोबारा से दस्तावेज एकत्रित करके आवेदन करने को कहा जाएगा और लाभार्थी को तब से लाभ दिलाने का प्रयास किया जाएगा, जबसे उसने पहला आवेदन किया था।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है