Covid-19 Update

2,18,202
मामले (हिमाचल)
2,12,736
मरीज ठीक हुए
3,650
मौत
33,650,778
मामले (भारत)
232,110,407
मामले (दुनिया)

स्कूली शिक्षा की 10+2 प्रणाली को बदलकर लाई जाएगी 5+3+3+4 की नई प्रणाली: Modi सरकार

स्कूली शिक्षा की 10+2 प्रणाली को बदलकर लाई जाएगी 5+3+3+4 की नई प्रणाली: Modi सरकार

- Advertisement -

नई दिल्ली। केंद्रीय मंत्री रमेश पोखरियाल ने कैबिनेट बैठक के बाद बुधवार को बताया कि मानव संसाधन विकास मंत्रालय का नाम बदलकर शिक्षा मंत्रालय किया गया है। कैबिनेट ने नई शिक्षा नीति 2020 को भी अनुमति दी जिसमें शिक्षा व्यवस्था में व्यापक बदलाव का प्रस्ताव है। नई शिक्षा नीति 1986 में बनी व 1992 में संशोधित राष्ट्रीय शिक्षा नीति की जगह लेगी।

केंद्र सरकार ने बुधवार को नई शिक्षा नीति को मंज़ूरी दे दी जिसके तहत आर्ट्स स्ट्रीम और साइंस स्ट्रीम को अलग-अलग नहीं रखा जाएगा। सरकार ने बताया कि वह अब बहुविषयी पद्धति को अपनाएगी। अगर एक छात्र फिज़िक्स के साथ फैशन स्टडी करना चाहता है या वह केमिस्ट्री के साथ बेकरी सीखना चाहता है, तो इसके लिए उसे अनुमति होगी।

यह भी पढ़ें: मोदी सरकार ने दी नई Education Policy को मंजूरी: HRD मिनिस्ट्री का नाम भी बदला

स्कूलों में कम-से-कम 5वीं कक्षा तक मातृभाषा में होगी पढ़ाई

वहीं, नई शिक्षा नीति के तहत स्कूली शिक्षा की 10+2 प्रणाली को बदलकर 5+3+3+4 की नई शैक्षणिक प्रणाली को लाया जाएगा। फाउंडेशनल स्टेज में 3-8 वर्ष की उम्र को कवर किया जाएगा जबकि प्रेपरेटरी स्टेज में कक्षा 3 से 5 शामिल होंगी। इसके मिडल स्टेज में कक्षा 6 से 8 और सेकेंड्री स्टेज में कक्षा 9 से 12 शामिल हैं। केंद्र सरकार ने बुधवार को नई शिक्षा नीति को मंज़ूरी दे दी जिसके तहत अब कक्षा 6 से ही बच्चों को कोडिंग पढ़ाई जाएगी। स्कूल शिक्षा सचिव अनीता करवाल ने कहा, ‘कोडिंग से बच्चों में कम्प्यूटेशनल (अभिकलनात्‍मक) और मैथमेटिकल (गणितीय) सोच बढ़ती है।’ इसके अलावा, उन्होंने कहा कि पाठ्यक्रम में 21वीं सदी की स्किल शामिल की जाएंगी।

नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के अनुसार, कम-से-कम कक्षा 5 और हो सके तो कक्षा 8 तक मातृभाषा/गृहभाषा/क्षेत्रीय भाषा पढ़ाई का एक माध्यम होगी। बोर्ड परीक्षा का महत्व कम होगा और वे रटी हुई चीज़ों को नहीं बल्कि व्यावहारिक ज्ञान को परखने के लिए होंगे। साथ ही, सभी स्कूली स्तरों और उच्च शिक्षा में विकल्प के तौर पर संस्कृत पढ़ाई जाएगी।

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है