Covid-19 Update

1,61,072
मामले (हिमाचल)
1,24,434
मरीज ठीक हुए
2348
मौत
24,965,463
मामले (भारत)
163,750,604
मामले (दुनिया)
×

#China में आया नया वायरस, तीन हजार से ज्यादा लोग निकले Positive

गांसू प्रांत में अब तक 21,847 लोगों की हो चुकी है जांच

#China में आया नया वायरस, तीन हजार से ज्यादा लोग निकले Positive

- Advertisement -

कोरोना का कहर अभी दुनिया से खत्म भी नहीं हुआ इसी बीच चीन में एक नई बीमारी फैल गई है। इस बीमारी ने 3,245 लोगों को अपनी चपेट में ले लिया है। इन सभी लोगों की जांच हुई थी, जिसके बाद लोग पॉजिटिव (Positive) मिले। उत्तर-पश्चिम चीन के गांसू प्रांत के लान्झोउ में ये लोग इस नई बीमारी से संक्रमित हुए हैं। लान्झोउ वेटरनरी रिसर्च इंस्टीट्यूट ने दिसंबर में ही इस बीमारी के एंटीबॉडी की सूचना चीन की सरकार को दी थी। चीन के गांसू प्रांत में अब तक 21,847 लोगों की जांच की जा चुकी है। इनमें से 4,646 लोग प्राइमरी तौर पर पॉजिटिव पाए गए हैं। जबकि, 3245 लोग स्पष्ट तौर पर इस बीमारी से संक्रमित या पॉजिटिव है। गांसू प्रोविंशियल सेंटर फॉर डिजीस कंट्रोल एंड प्रिवेंशन ने बताया कि इस बीमारी का नाम ब्रूसेलोसिस (Brucellosis) है।


यह भी पढ़ें: #CoronaUpdate:हिमाचल में आज अब तक 377 लोगों ने जीती कोरोना से जंग, दो की मौत

ब्रूसेलोसिस पर निगरानी रखने के लिए लान्झोउ वेटरीनरी रिसर्च इंस्टीट्यूट ने देश के 11 पब्लिक मेडिकल इंस्टीट्यूशंस और अस्पतालों को काम पर लगा दिया है। इन अस्पतालों में ब्रूसेलोसिस के मरीजों की मुफ्त जांच और इलाज होगा, साथ ही लोगों को इससे बचने के लिए जागरूक किया जाएगा। इसके लिए मौके पर ही काउंसलिंग की जा रही है। लोगों को इस बीमारी के बारे में बताने के लिए ऑ़नलाइन काउंसलिंग (Online counseling) भी की जा रही है। जो लोग बीमार हुए हैं उनकी महीने भर में कई बार जांच की जा रही है। उनके हेल्थ रिकॉर्ड्स को लगातार मॉनीटर किया जा रहा है। ब्रूसेलोसिस के लिए अब तक 23,479 लोगों की काउंसलिंग की जा चुकी है। इसके अलावा 3,159 लोगों के नए हेल्थ रिकॉर्ड्स बनाए गए हैं। इसके अलावा गांसू प्रांत में जागरुकता के लिए 15 हजार प्रचार सामग्री बांटी गई है।


ब्रूसेलोसिस एक ऐसी बीमारी है जो बैक्टीरिया से होता है। 24 जुलाई, 2019 से 20 अगस्त, 2019 तक झोन्गमू लॉन्झोउ बायोलॉजिकल फार्मास्यूटिकल फैक्ट्री ने इस ब्रूसेला वैक्सीन बनाने के लिए एक्सपायर्ड डिसइंफेक्टेंट का उपयोग किया था। इस वैक्सीन का उपयोग जानवरों के इलाज के लिए होता है। आमतौर पर भेड़-बकरियों के लिए, लेकिन जिस फर्मेंटेशन टैंक में बेकार डिसइंफेक्टेंट रखा था उससे वेस्ट गैस निकल रही थी। जब टैंक खाली किया गया तो जो तरल पदार्थ टैंक से बाहर निकला उसमें ब्रूसेलोसिस बीमारी फैलाने वाले बैक्टीरिया थे। इसके अलावा उस तरल पदार्थ से काफी ज्यादा मात्रा में वेस्ट गैस निकल रही थी। इस गैस और तरल पदार्थ की वजह से हवा में बैक्टीरिया फैल गए और ब्रूसेलोसिस बीमारी से ग्रसित हो गए। अब भी हो रहे हैं। ब्रूसेलोसिस को मेडिटेरेनियन फीवर (Mediterranean fever) भी कहते हैं। यह ब्रूसेला नाम के बैक्टीरिया से होता है। आमतौर पर यह बीमारी मवेशियों को होती है। जब आदमी इस बीमारी से संक्रमित होता है तो उसे तेज सिरदर्द, बुखार और बेचैनी होती है। यह ऐसी बीमारी है जिसकी वजह से पुरुषों और महिलाओं के अंडकोष खराब हो सकते हैं। इसके अलावा यह प्रजनन क्षमता और प्रजनन प्रणाली को पूरी तरह से खत्म कर सकता है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है