×

Jai Ram से मिलीं New Zealand की High Commissioner, बागवानी विकास को लेकर चर्चा

Jai Ram से मिलीं New Zealand की High Commissioner, बागवानी विकास को लेकर चर्चा

- Advertisement -

लोकिन्दर बेक्टा, शिमला। न्यूजीलैंड की हाई कमिश्नर जोएना कैंपकस ने आज यहां सीएम जयराम ठाकुर से मुलाकात की। इस दौरान दोनों के बीच बागवानी विकास परियोजना को लेकर चर्चा की गई। विश्व बैंक ने हिमाचल सरकार को बागवानी विकास प्रोजेक्ट मंजूर किया है और इसमें न्यूजीलैंड तकनीकी सहयोग दे रहा है। इसके साथ-साथ वह अन्य कई क्षेत्रों में भी सहयोग कर रहा है।


आज न्यूजीलैंड की हाई कमिश्नर ने सीएम से मुलाकात के दौरान कृषि और अन्य क्षेत्रों में भी सहयोग पर चर्चा की। प्रतिनिधिमंडल को सीएम ने शाल और टोपी से सम्मानित किया। न्यूजीलैंड की हाई कमिश्नर जोएना कैंपकस ने भी सीएम के स्मृति चिन्ह भेंट किया। विश्व बैंक ने हिमाचल को 1134 करोड़ रुपये का बागवानी विकास प्रोजेक्ट स्वीकृत किया है। इस प्रोजेक्ट में न्यूजीलैंड कंसलटेंट की भूमिका में हैं। न्यूजीलैंड के बागवानी एक्टपर्ट हिमाचल के बागवानी अधिकारियों और  बागवानों को बागवानी का प्रशिक्षण देंगे।

गौर हो कि न्यूजीलैंड में विश्व में सबसे ज्यादा प्रति हेक्टेयर सेब उत्पादन करता है। वहां से प्रति हेक्टेयर 60-65 मीट्रिक टन सेब पैदा हो रहा है, जबकि हिमाचल में यह छह से सात मीट्रिक टन है। हिमाचल सेब राज्य के रूप में जाना जाता है। हिमाचल में प्रति हेक्टेयर सेब उत्पादन बढ़ाना है और इस प्रोजेक्ट के आने से इसकी उम्मीद बंधी है।

सीएम जयराम ठाकुर ने कहा कि उन्हें खुशी है कि न्यूजीलैंड का प्रतनिधिमंडल यहां आया है। विश्व बैंक के बागवानी विकास प्रोजेक्ट में न्यूजीलैंड कंसलटेंट है और इसका हिमाचल के लिए बहुत महत्व है। उन्होंने कहा कि इसमें सेब के साथ-साथ आम और नींबू प्रजाति के फलों को भी मदद मिलेगी। सीएम ने कहा कि खुशी है कि बागवानी मंत्री महेंद्र सिंह और सांसद राम स्वरूप शर्मा भी यहां हैं।

उन्होंने कहा कि आज देश में विदेशों से सेब आयात हो सेब हो रहा है और उनकी सरकार चाहती है कि यहां से सेब निर्यात हो। इसके लिए प्रयास किए जा रहे हैं और इस प्रोजेक्ट से इसमें मदद मिलेगीय उनका कहना था कि सभी के प्रयास से राज्य में सेब के निर्यात की दिशा में बढ़ा जा सकता है। बागवनी विभाग के प्रधान सचिव जेसी शर्मा ने कहा कि विश्व बैंक के इस प्रोजेक्ट में बाहर से प्लांट लाए जाएंगे और बाद में यहीं पर इसका विस्तार किया जाएगा।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है