- Advertisement -

Browsing Category

धर्म-संस्कृति


Religion and culture News in Hindi

क्या है चरणामृत और पंचामृत, जाने इसका महत्व

पूजा में चरणामृत का विशेष महत्व है। पूजा के बाद और मंदिर जाने पर हमें चरणामृत और पंचामृत दिया जाता है। इसके बिना कोई पूजा पूरी नहीं होती। हम सब आरती के बाद चरणामृत ग्रहण करते हैं, लेकिन ऐसा क्यों किया जाता है।

कब होगा विवाह-कैसा होगा दाम्पत्य जीवन : जानिए क्या कहती है आपकी विवाह रेखा

विवाह के बारे में सटीक भविष्यवाणी करनी हो तो ज्योतिषी हाथों की विवाह रेखा का अध्ययन करते हैं। पंडित दयानंद शास्त्री बताते हैं कि हथेली में विवाह रेखा बहुत ही छोटी होती है परंतु व्यक्ति के जीवन में बहुत प्रभावशाली होती है।

श्रीगणेश प्रश्नावली यंत्र : ये चमत्कारी यंत्र निकालेगा आपकी समस्याओं का समाधान

श्रीगणेश की पूजा के बिना कोई भी शुभ कार्य नहीं किया जाता। श्रीगणेश प्रश्नावली यंत्र के माध्यम से आप अपने जीवन की परेशानियों व सवालों का हल आसानी से पा सकते हैं।

- Advertisement -

जानें काल भैरव के किस रूप की पूजा करने से दूर होती हैं परेशानियां

तंत्र शास्त्र के अनुसार किसी भी सिद्धि के लिए भैरव की पूजा अनिवार्य है। इनकी कृपा के बिना तंत्र साधना अधूरी रहती है। इनके 52 रूप माने जाते हैं। इनकी कृपा प्राप्त करके भक्त निर्भय और सभी कष्टों से मुक्त हो जाते हैं।

पीली सरसों और कपूर के टोटकों से खुश करें मां लक्ष्मी को, बरसेगा धन

कई घरों में बरकत रुक जाती है। वहां रहने वाले लोगों के काम बिगड़ते रहते हैं। रिश्तों में दरार पड़ने लगती है। इन सबकी वजह घर में मौजूद वास्तु दोष हो सकता है। इसे दूर करने के लिए घर के कोनों में कपूर रखकर जलाएं।

- Advertisement -

आलसी होते हैं छोटे अंगूठे वाले, जानें अपने स्वभाव के बारे में …

छोटे और मोटे अंगूठे वाले लोग गुस्सैल स्वभाव के होते हैं। जिन्हें किसी की जरा-सी बात पर भी गुस्सा आ सकता है, साथ ही ये लोग बहुत भावुक होते हैं।

बुरे वक्त से बचना है तो कभी यूज न करें दूसरों की ये चीजें

क्या आप को पता है कि पर कुछ ऐसी चीजें होती हैं जो दूसरों के इस्तेमाल करने के बाद खुद उपयोग नहीं करनी चाहिए। अगर बुरे वक्‍त से बचना है तो दूसरों की ये चीजें यूज नहीं करनी चाह‍िए।

- Advertisement -

जानिए क्या है कार्तिक पूर्णिमा के दिन दीप दान का महत्व

मत्स्य पुराण के अनुसार, कार्तिक पूर्णिमा के दिन ही संध्या के समय मत्स्यावतार हुआ था। इस दिन गंगा स्नान के बाद दीप-दान आदि का फल दस यज्ञों के समान होता है।