Covid-19 Update

1,61,072
मामले (हिमाचल)
1,24,434
मरीज ठीक हुए
2348
मौत
24,965,463
मामले (भारत)
163,750,604
मामले (दुनिया)
×

NIT हमीरपुर पर परिजनों का आरोप, स्थानीय प्रशासन से भी खफा

NIT हमीरपुर पर परिजनों  का आरोप, स्थानीय प्रशासन से भी खफा

- Advertisement -

मंडी। एनआईटी हमीरपुर के दो छात्रों की शिकारी देवी में हुई मौत के लिए परिजनों ने एनआईटी प्रबंधन और स्थानीय प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगाया है। मृतक नवनीत के पिता सुरेंद्र कुमार का कहना है कि जब उन्हें अपने बच्चों की कोई खैर खबर नहीं मिली तो वह उनकी तलाश में एनआईटी हमीरपुर पहुंचे जहां पर प्रबंधन को भी इस बारे में कोई जानकारी नहीं थी। प्रबंधन का कहना था कि अगर कोई बच्चा 21 दिनों तक कक्षा में नहीं आता तो फिर गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवाने का प्रावधान था। कुछ छात्रों ने फेसबुक के आधार पर बताया कि अक्षय और नवनीत शिकारी देवी गए हैं, जिसके बाद ही बच्चों की तलाशी अभियान को शुरू किया जा सका।


  • परिजनों के बोल, प्रबंधन को अपने ही छात्रों के बारे में नहीं थी जानकारी
  • स्थानीय प्रशासन पर भी चेतावनी बोर्ड न लगाने का लगाया आरोप
  • लेकिन, स्थानीय लोगों की मदद के कायल हुए मृतकों के परिजन
  • कहा, लोगों ने अपना काम समझकर चलाया सर्च आपेरशन
  • सुंदरनगर अस्पताल में शवों का पोस्टमॉर्टम,परिजनों के हवाले किए

वहीं मृतक अक्षय के चाचा देव राज का कहना है कि शिकारी देवी की तरफ जाने वाले रास्ते पर काई चेतावनी बोर्ड या कर्मी तैनात नहीं थे। अगर बच्चों को सख्ती से रोका जाता तो शायद बच्चे आगे न जाते। इन्होंने मांग उठाई है कि एनआईटी में बच्चों के आने-जाने की जानकारी परिजनों को देने का प्रावधान किया जाए और शिकारी देवी जैसे इलाकों में चेतावनी बोर्ड लगाने के साथ ही होमगार्ड के जवान भी तैनात किए जाएं। वहीं मृतक के परिजनों ने जंजैहली में प्रशासन और स्थानीय लोगों की तरफ से मिली मदद के लिए सभी का आभार भी जताया है। मृतक अक्षय के पिता देश राज ने बताया कि स्थानीय लोगों ने अपनी जान की परवाह किए बीना उनके बच्चों को ढूंढा, जोकि बड़ी बात है। उन्होंने बताया कि स्थानीय लोगों ने सर्च ऑपरेशन को अपना काम समझकर किया, जिसे वह कभी नहीं भुला सकते। वहीं रविवार को दोनों मृतक छात्रों के शवों का सुंदरनगर अस्पताल में पोस्टमॉर्टम करवाने के बाद शव परिजनों के हवाले कर दिए गए।


- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है