Covid-19 Update

2,06,027
मामले (हिमाचल)
2,01,270
मरीज ठीक हुए
3,505
मौत
31,653,380
मामले (भारत)
198,295,012
मामले (दुनिया)
×

GBU-43 हमला : 36 आतंकी मरे, 1 Indian की मौत

GBU-43 हमला : 36 आतंकी मरे, 1 Indian की मौत

- Advertisement -

Non-nuclear bomb: नई दिल्ली। अमेरिकी सेना द्वारा IS आतंकियों के खिलाफ की गई सबसे बड़ी कार्रवाई में  36 आतंकी मारे गए हैं। इसकी पुष्टि अफगान अधिकारियों ने की है। इस हमले में भारतीय नागरिक मुर्शीद के मारे जाने की भी खबर है। वह केरल का रहने वाला था। उल्‍लेखनीय है कि पिछले साल केरल से 22 लोग लापता हुए थे, उनमें से चार महिलाएं भी थीं। सभी टेलीग्राम के जरिए अपने परिवारों के संपर्क में थे। माना जा रहा है कि उनमें से 17 भारतीय अफगानिस्‍तान के नंगरहार क्षेत्र में थे। इसी क्षेत्र में अमेरिका ने हमला बोलते हुए अब तक का सबसे बड़ा बम गिराया है। अफगान सरकार के मुताबिक उसके साथ तालमेल बिठाते हुए अमेरिकी सरकार ने यह कार्रवाई की।

Non-nuclear bomb: अपनी सेना पर गर्व, मिशन पूरा हुआ: ट्रंप 

अमेरिका द्वारा अफगानिस्तान पर सबसे बड़े गैर परमाणु बम ‘GBU-43’ का इस्तेमाल करने पर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपनी सेना की तारीफ करते हुए कहा कि उन्हें अपनी सेना पर गर्व है। व्हाइट हाऊस में पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि यह वास्तव में एक सफल अभियान रहा, हमें अपनी सेना पर गर्व है।इस घटना से उत्तर कोरिया को संदेश मिलता है या नहीं, यह उन्हें नहीं पता। उत्तर कोरिया सभी के लिए एक समस्या है, इस समस्या का समाधान जल्द ही निकाला जाएगा। जाहिर है कि अमेरिकी सेना ने गुरुवार को IS आतंकियों के खिलाफ सबसे बड़ी कार्रवाई करते हुए नंगरहार प्रांत में लगभग 10 हजार किलो का बम गिराया।


आईएस के खुरासान मॉड्यूल का नामोनिशान मिटा

बताया जा रहा है कि अमेरिका के इस हमले में आईएस के खुरासान मॉड्यूल का नामोनिशान मिट गया है। मिली जानकारी के मुताबिक, अफगानिस्तान में जिस जगह अमेरिका ने गैर-परमाणु बम GBU-43/B गिराया है वह जगह आईएस आतंकियों के खुरासान मॉड्यूल का मुख्यालय मानी जाती थी। इस हमले में सैकड़ों आईएस आतंकियों समेत 20 भारतीय आतंकियों के मारे जाने की भी खबर है। हालांकि मारे गए आतंकियों के बारे में अभी कोई आधिकारिक आंकड़ा सामने नहीं आया है।

 बम की मारक क्षमता

अमेरिका द्वारा इस बम का पहली बार इस्तेमाल किया गया है। GBU-43/B मैसिव ऑर्डनंस एयर ब्लास्ट (MOAB) नाम के इस बम को ‘मदर ऑफ ऑल बम्स’ यानी ‘सभी बमों की मां’ भी कहा जाता है। इसका वजन 21, 600 पाउंड यानी 9,797 किलो है। यह GPS से चलने वाला विस्फोटक है। बताया जा रहा है कि बम के निशाने पर नंगरहार प्रांत में ISIS की सुरंगें थीं। यह इलाका पाकिस्तान के बॉर्डर के नजदीक है।

ओबामा पर साधा निशाना

ट्रंप ने पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि हमने पिछले 8 हफ्तों में अपनी सेना को छूट दे रखी है, इसी कारण हमारी सेना लगातार सफल रही है। हमारी सेना ने पिछले 8 हफ्तों में अच्छा काम किया है, जो शायद पिछले 8 वर्षों में नहीं हो पाया था। ट्रंप ने पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा पर भी निशाना साधते हुए कहा कि उन्होंने ही अफगानिस्तान में बम गिराने की अनुमति दी थी लेकिन किया कुछ नहीं। जबकि हमारा मिशन सफल रहा।

करजई ने की हमले की आलोचना

आईएस को निशाना बनाकर गिराए गए गैर परमाणु बम ‘GBU-43’ की अफगानिस्तान ने आलोचना की है। अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई ने कहा कि मैं अमेरिकी सेना की ओर से गैर परमाणु बम गिराए जाने की कड़े शब्दों में निंदा करता हूं। यह कार्रवाई आतंकवाद के खिलाफ नहीं, बल्कि अफगानिस्तानियों के खिलाफ है।

यह भी पढ़ें-जरा देखिए, CRPF जवान से कश्मीरी युवक की ये बदसलूकी

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है