×

आमों की मलिका ‘नूरजहां’ पर इल्लियों का प्रकोप, पेड़ों से गायब हुआ फल

आमों की मलिका ‘नूरजहां’ पर इल्लियों का प्रकोप, पेड़ों से गायब हुआ फल

- Advertisement -

इंदौर। गर्मियों का मौसम यानी आम का सीजन शुरू हो चुका है। यूं तो आम कई किस्म का होता है लेकिन आमों की मलिका के रूप में मशहूर ‘नूरजहां’ की बात ही कुछ और है। भारी-भरकम आकार के लिए मशहूर ‘नूरजहां‘ इस बार खतरे में है। इस बार नूरजहां की चाहत रखने वालों के लिए बहुत बुरी खबर है। इल्लियों के भीषण प्रकोप के चलते आमों की इस दुर्लभ किस्म की फसल बर्बाद हो गई है। नूरजहां के गिने-चुने पेड़ मध्य प्रदेश के अलीराजपुर जिला के कट्ठीवाड़ा क्षेत्र में ही पाए जाते हैं।


Noorjahan mangoकट्ठीवाड़ा में इस प्रजाति की खेती के विशेषज्ञ इशाक मंसूरी ने बताया कि इल्लियों (कीड़े की एक प्रजाति जिसमें तितलियां और मॉथ शामिल हैं) ने अचानक हमला किया और नूरजहां के बौरों (फूलों) को फल बनने से पहले ही चट कर लिया। हाल ही में इल्लियों का इसी तरह का प्रकोप महुआ के पेड़ों पर भी देखा जा चुका है। उन्होंने बताया कि फिलहाल कट्ठीवाड़ा क्षेत्र में ‘नूरजहां’ के पेड़ों पर फलों का नामोनिशां बाकी नहीं रहा। मंसूरी ने कहा, ‘ऐसा बरसों बाद हुआ है, जब दूसरी प्रजातियों के आमों के पेड़ तो फलों से लदे हैं लेकिन नूरजहां के पेड़ों से फल गायब हैं।

उन्होंने कहा कि ‘नूरजहां‘ के पेड़ों पर बौरों की संख्या पहले ही कम थी। इल्लियों के कहर के बाद इसकी फसल की बची-खुची उम्मीद भी खत्म हो गई। पिछले एक दशक के दौरान मॉनसूनी बारिश में देरी, अल्पवर्षा, अतिवर्षा और अन्य मौसमी उतार-चढ़ावों के कारण ‘नूरजहां‘ के फलों का वजन लगातार घटता जा रहा है। किसी जमाने में ‘नूरजहां’ के फलों का औसत वजन 3.5 से 3.75 किलोग्राम के बीच होता था लेकिन अब यह घटकर औसतन 2.5 किलोग्राम के आस-पास रह गया है। ‘नूरजहां’ के फलों की सीमित संख्या के कारण शौकीन लोग तब ही इनकी बुकिंग कर लेते हैं, जब ये डाल पर लटककर पक रहे होते हैं। पिछले साल मांग बढ़ने पर इसके केवल एक फल की कीमत 500 रुपये तक पहुंच गई थी।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है