Covid-19 Update

2, 84, 982
मामले (हिमाचल)
2, 80, 760
मरीज ठीक हुए
4117*
मौत
43,128,786
मामले (भारत)
525,038,134
मामले (दुनिया)

कपड़े ही नहीं और भी बहुत कुछ तैयार होगा खादी से , सरकार ने बनाई ये योजना

गुणवत्ता भी अच्छी हो और कीमत भी सस्ती हो और लोगों को रोजगार मिले

कपड़े ही नहीं और भी बहुत कुछ तैयार होगा खादी से , सरकार ने बनाई ये योजना

- Advertisement -

लखनऊ। खादी वस्त्र नहीं विचार है। यह बीते दिनों की बात होने वाली है। वजह खादी की अब रेंज बढ़ने वाली है। ना सिर्फ खादी के कपड़े बनेंगे, बल्कि जूते, बैग, फैंसी पर्स आदि भी तैयार किए जाएंगे। सरकार का प्रयास होगा कि गुणवत्ता भी अच्छी हो और कीमत भी सस्ती हो और इससे जुड़े लोगों को रोजगार मिले। उत्तरप्रदेश सरकार की मंशा है कि हर हाथ में खादी के सामान उपलब्ध हों। सरकार की मंशा है कि खादी सिर्फ कपड़ों तक ही सीमित ना रहे। खादी के कपड़ों के जरिए जूते, बैग, फैंसी पर्स आदि भी तैयार किए जाएं। रही बात खादी के कपड़ों को आकर्षक लुक देकर इनकी खूबसूरती निखारने की, तो इस काम में योगी सरकार देश के नामचीन फैशन डिजाइनरों और इससे संबंधित (निफ्ट) संस्थाओं की मदद लेगी। इसके लिए सूत की गुणवत्ता बेहतर करने के लिए खादी उत्पादन केंद्रों की तकनीक को आधुनिक बनाएगी। बड़े पैमाने पर सोलर चरखों का भी वितरण करेगी। जिनको ये चरखे दिए जाएंगे उनको इसे चलाने का प्रशिक्षण भी दिया जाएगा। कुल मिलाकर अगले पांच साल में विभाग ने 5000 सोलर चरखों के वितरण का लक्ष्य रखा है। इससे धागों की गुणवत्ता तो सुधरेगी ही उत्पादन भी बढ़ जाएगा।

यह भी पढ़ें- 4 वर्ष के आदविक ने महामृत्युंजय मंत्र जाप कर एशिया बुक आफ रिकार्डस में दर्ज करवाया नाम

प्रदेश के अलग-अलग जिलों में खादी के 14 सरकारी केंद्र हैं। इन केंद्रों के पुराने लूम की जगह नए सोलर लूम लगाए जाएंगे। सरकार ने इस बाबत अगले पांच साल के लिए मुकम्मल कार्य योजना भी तैयार की है। पिछले दिनों अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास सेक्टर के प्रस्तुतिकरण के दौरान सीएम योगी आदित्यनाथ ने इस कार्ययोजना को देखा और जरूरी निर्देश भी दिए। कार्ययोजना के मुताबिक पंडित दीनदयाल खादी विपणन विकास सहायता योजना (एमडीए) के तहत अगले पांच वर्षों में 25 हजार कत्तीनों एवं बुनकरों को लाभान्वित किया जाएगा। उम्मीद है कि सरकार के इन प्रयासों से खादी की मांग बढ़ेगी। मांग बढ़ाने के लिए खादी को फैशन के अनुरूप बनाने, रेंज बढ़ाने के साथ सरकार मार्केटिंग पर भी जोर देगी। इस क्रम में खादी एवं ग्रामोद्योग के उत्पादों को ई-कॉमर्स प्लेटफार्म से जोड़ा जाएगा।

अपर मुख्य सचिव खादी एवं ग्रामोद्योग नवनीत सहगल का कहना है कि खादी एवं ग्रामोद्योग संभावनाओं का क्षेत्र है। इकोफ्रेंडली होने के साथ न्यूनतम संरचना, कम पूंजी और कम जोखिम में इससे जुड़े उद्योग को लगाया जा सकता है। पूंजी के अनुपात में स्थानीय स्तर पर यह सर्वाधिक रोजगार देने वाला क्षेत्र है। सूत बनाने का काम अधिकांश महिलाएं करती हैं। लिहाजा उनको स्वावलंबी बनाकर यह मिशन शक्ति में भी मददगार है।

-आईएएनएस

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है