Covid-19 Update

3,12, 174
मामले (हिमाचल)
3, 07, 798
मरीज ठीक हुए
4189
मौत
44, 579, 088
मामले (भारत)
621, 406, 269
मामले (दुनिया)

अब ऑफिस में पत्नी को सैल्यूट करते नजर आएंगे Additional DCP

अब ऑफिस में पत्नी को सैल्यूट करते नजर आएंगे Additional DCP

- Advertisement -

नोएडा। घर में तो पत्नी बॉस ही होती है लेकिन ऑफिस में भी अगर वही बॉस (Boss) मिल जाए तो पति के लिए इससे ज्यादा गर्व की बात क्या होगी। आइपीएस वृंदा शुक्ला और आईपीएस अंकुर अग्रवाल की कहानी भी कुछ ऐसी ही है। दोनों बचपन में साथ खेले, स्कूल में एक साथ पढ़े, मोहब्बत हुई और दोनों साथ में ही आइपीएस भी बन गए। वर्षों की दोस्ती के बाद एक साल पहले ही दोनों ने सात फेरे लिए। अब दोनों इस शहर में एक साथ काम करेंगे। बस अंतर यह है कि वृंदा अंकुर अग्रवाल की ऑफिस में भी बॉस हैं और घर में भी।

दरअसल जिले में पुलिस कमिश्नर प्रणाली लागू होने के बाद एक नया संयोग देखने को मिला है। जिसमें लखनऊ पुलिस मुख्यालय में तैनात रही वृंदा शुक्ला को पुलिस उपायुक्त (DCP) गौतमबुद्ध नगर बनाया गया। वह यहां डीसीपी महिला सुरक्षा के पद पर तैनात हैं। जबकि अंकुर अग्रवाल को करीब एक माह पहले नोएडा का एसपी सिटी बनाया गया था। कमिश्नरी सिस्टम लागू होने के बाद अब वह अपर पुलिस उपायुक्त (Additional DCP) के पद पर तैनात हैं। इससे पहले वह मथुरा में एएसपी के पद पर तैनात रह चुके हैं।

यह भी पढ़ें: इंदौरा: अवैध कटान मामले में दो सगे भाई गिरफ्तार, कल कोर्ट में किया जाएगा पेश

आईपीएस दंपति मूलरूप से हरियाणा के अंबाला के रहने वाले हैं। आइपीएस अंकुर अग्रवाल ने बताया कि दोनों ने अंबाला कॉन्वेंट जीसस एंड मैरी स्कूल से 10वीं तक साथ पढ़ाई की है। इसके बाद वृंदा इकॉनामिक्स की पढ़ाई के लिए अमेरिका (America) चली गई। जबकि वह खुद बिट्स पिलानी से इलेक्ट्रानिक इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए राजस्थान चले गए। पढ़ाई पूरी करने के बाद वृंदा शुक्ला अमेरिका में नौकरी करने लगी जबकि अंकुर ने इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करने के बाद एक वर्ष तक बंगलुरू में नौकरी की। इसके बाद वह भी अमेरिका चले गए।

अमेरिका में नौकरी करने के दौरान ही दोनों ने सिविल सर्विसेज की तैयारियां शुरू की। वृंदा ने दूसरे प्रयास में वर्ष 2014 में सिविल सर्विसेज की परीक्षा पास की व आईपीएस बनी व उन्हें नगालैंड कैडर मिला। इसके दो वर्ष बाद अंकुर 2016 में सिविल सर्विसेज में चयनित हुए व आइपीएस बने व उन्हें बिहार कैडर मिला। अंकुर ने यह परीक्षा पहले ही प्रयास में पास किया है। बाद में वह दोनों ही यूपी आ गए। आइपीएस अंकुर अग्रवाल ने बताया कि 9 फरवरी को 2019 को दोनों शादी के बंधन में बंधे थे। जिले के इतिहास में यह पहला मौका है जब आईपीएस दंपति की नियुक्ति जिले में साथ हुई है।

हिमाचल की ताजा अपडेट Live देखनें के लिए Subscribe करें आपका अपना हिमाचल अभी अभी YouTube Channel…

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है