Covid-19 Update

59,197
मामले (हिमाचल)
57,580
मरीज ठीक हुए
987
मौत
11,244,092
मामले (भारत)
117,591,889
मामले (दुनिया)

कैंसर का कारण ऐसा सेब खाना, अस्पतालों में बढ़ रही मरीजों की संख्या, जानिए कैसे

कैंसर का कारण ऐसा सेब खाना, अस्पतालों में बढ़ रही मरीजों की संख्या, जानिए कैसे

- Advertisement -

दयाराम कश्यप/सोलन। कहा जाता है कि An apple a day keep the doctor away. लेकिन, आप अंधाधुध कीटनाशकों का प्रयोग किया सेब खा रहे तो यह आपके लिए हानिकारक हो सकता है। कैंसर का कारण बन सकता है। आचार्य देवव्रत ने नौणी में इस बात का खुलासा किया है। उन्होंने कहा कि आईजीएमसी व चंडीगढ़ पीजीआई सहित देश के बडे़ अस्पतालों में कैंसर के मरीजों की संख्या दिन व दिन बढ़ती जा रही है, जोकि आधुनिक खेती का कारण है। उन्होंने कहा कि 25 प्रतिशत कैंसर के मरीज उन जगहों से आ रहे हैं, जहां पर सेब सीजन होता है। अंधाधुध कीटनाशकों का प्रयोग किया जाता है।

उन्होंने कहा कि कृषि वैज्ञानिकों को शून्य लागत प्राकृतिक खेती पर अधिक से अधिक शोध कर उसे किसानों तक पहुचांया जाना चाहिए, ताकि आधुनिक कीटनाशकों से होने वाली खेती के दुष्परिणामों से बचा जा सके। यह बात उन्होंने डॉ. यशवंत सिंह परमार औद्योनिकी एवं वानिकी विश्वविद्यालय नौणी के 34वें स्थापना दिवस के मौके पर कहे।

राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने कृषि वैज्ञानिकों से आह्वान किया है कि वह शून्य लागत प्राकृतिक खेती पर अधिक से अधिक शोध करें, ताकि इस पावन भूमि की उपजाऊ क्षमता को बचाया जा सके। राज्यपाल ने चेताया कि प्राकृतिक खेती समय की मांग है। यदि समय रहते न संभले तो आने वाले समय में लोगों को गंभीर बीमारियों का सामना करना पड़ेगा । उन्होंने कहा कि प्राकृतिक खेती के परिणाम दिखने लगे हैं।

आचार्य देवव्रत ने नौणी विश्वविद्यालय को 33 वर्ष पूर्ण करने पर बधाई दी व आशा जताई की आगामी समय मे भी यह विश्वविद्यालय नवीनतम उंचाईयों को हासिल करेगा। राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने विश्वविद्यालय में दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम की शुरूआत की। उन्होंने आशा व्यक्त की कि दीपक की रोशनी की तरह यह विश्वविद्यालय नवीनतम तकनीकी से कृषि संबंधित अनुसंधान करे, जिसका सीधा लाभ किसानों को मिले। इससे पूर्व राज्यपाल ने विश्वविद्यलाय के प्राकृतिक कृषी अनुसंधान खंड का भ्रमण कर कन्या छात्रावस का उद्घाटन किया।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है