Covid-19 Update

2, 85, 010
मामले (हिमाचल)
2, 80, 811
मरीज ठीक हुए
4117*
मौत
43,138,393
मामले (भारत)
527,715,878
मामले (दुनिया)

ओमिक्रॉन के बीए-2 सब वेरिएंट को लेकर डब्ल्यूएचओ का बड़ा अलर्ट, पूरी दुनिया में फैलने की आशंका

ओमिक्रॉन स्ट्रेन से संक्रमित लोगों को दोबारा संक्रमण होने का खतरा होगा या नहीं, सस्पेंस

ओमिक्रॉन के बीए-2 सब वेरिएंट को लेकर डब्ल्यूएचओ का बड़ा अलर्ट, पूरी दुनिया में फैलने की आशंका

- Advertisement -

जिनेवा। ओमिक्रॉन के बीए-2 सब वेरिएंट (Omicron BA-2 sub variant) के विश्व स्तर पर फैलने की आशंका है। हालांकि यह स्पष्ट नहीं है कि यह मूल ओमिक्रॉन स्ट्रेन से संक्रमित लोगों में पुन: संक्रमण का कारण बनेगा या नहीं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने इसकी जानकारी दी है। सीएनबीसी ने बताया कि डब्ल्यूएचओ के कोविड-19 तकनीकी नेतृत्व मारिया वान केरखोव के अनुसारए बीए-2 सब वेरिएंट, जो वर्तमान में प्रमुख बीए-1 वेरिएंट की तुलना में अधिक संक्रामक है, संभवत: अधिक सामान्य हो जाएगा।

यह भी पढ़ें- स्टील और प्लास्टिक पर 3 दिन तक टिका रहता है कोरोना वायरस, जानिए क्या है कारण

बीए-2 की निगरानी कर रहा डब्ल्यूएचओ

वान केरखोव ने मंगलवार को डब्ल्यूएचओ के सोशल मीडिया (Social Media) प्लेटफॉर्म पर लाइव स्ट्रीम किए गए एक प्रश्न और उत्तर सत्र के दौरान कहा कि बीए-2 बीए-1 की तुलना में अधिक पारगम्य हैए इसलिए हम बीए-2 को दुनियाभर (World) में बढ़ते हुए देखने की उम्मीद करते हैं। वैन केरखोव ने कहा कि डब्ल्यूएचओ यह देखने के लिए बीए-2 की निगरानी कर रहा है कि क्या सबवेरिएंट (Sub Variant) उन देशों में नए संक्रमणों की वृद्धि का कारण बनता है, जिनमें तेजी से वृद्धि देखी गई और फिर ओमिक्रॉन मामलों में तेज गिरावट आई। उन्होंने कहा कि शोध अभी भी जारी है, लेकिन दोनों में से किसी एक के कारण होने वाले संक्रमण की गंभीरता में अंतर का कोई संकेत नहीं है। हालांकि ओमिक्रॉन तेजी से फैलता हैए यह अल्फा (Alfa) और डेल्टा वेरिएंट की तुलना में हल्के संक्रमण का कारण बनता है।

बैक्सीनेशन से संक्रमण का खतरा कम

डेनमार्क (Denmark) में शोधकर्ताओं ने पाया है कि बीए-2 बीए-1 की तुलना में लगभग 1.5 गुना अधिक संक्रमणीय है और यह उन लोगों को संक्रमित करने में अधिक कुशल है, जिन्हें टीका लगाया गया है और यहां तक कि बढ़ाया भी गया है। हालांकि, जिन लोगों को पूरी तरह से टीका लगाया गया है, उनमें असंक्रमित लोगों की तुलना में इसके फैलने की संभावना कम होती है। वैन केरखोव ने कहा कि टीके गंभीर बीमारी और मृत्यु (Death) को रोकने में अत्यधिक प्रभावी हैं, हालांकि वे सभी संक्रमणों को नहीं रोकते हैं। उन्होंने लोगों से टीकाकरण करने और घर के अंदर मास्क पहनने का आह्वान किया।

रिपोर्ट में कहा गया है कि डब्ल्यूएचओ के कोविड (Covid) घटना प्रबंधक डॉ. आब्दी महमूद ने कहा कि यह स्पष्ट नहीं है कि बीए-2 उन लोगों को फिर से संक्रमित कर सकता है, जिनको पहले बीए-1 था। यह जानकारी इस बात पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाल सकती है कि वायरस (Virus) कितना फैल सकता है। यूके में एक अध्ययन में पाया गया कि ओमिक्रॉन से संक्रमित होने वाले दो-तिहाई लोगों ने कहा कि उन्हें पहले भी कोविड था।

..आईएएनएस

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है