Covid-19 Update

2,05,499
मामले (हिमाचल)
2,01,026
मरीज ठीक हुए
3,504
मौत
31,571,295
मामले (भारत)
197,365,402
मामले (दुनिया)
×

माथे की रेखाएं बताएंगी बीमार दिल का हाल

माथे की रेखाएं बताएंगी बीमार दिल का हाल

- Advertisement -

नई दिल्ली।आपकी माथे की रेखाएं बहुत कुछ कहती हैं। शायद आपको इस बात का अंदाजा भी नहीं होगा कि ये आपकी बीमारी के बारे में भी बहुत कुछ बता सकती हैं। एक अध्‍ययन में खुलासा हुआ है कि जिन लोगों के माथे पर ज्‍यादा गहरी रेखाएं यानी रिंकल्‍स होते हैं उन्‍हें दिल की बीमारी से मरने का खतरा भी अधिक होता है।

फ्रांस के एक विश्‍वविद्यालय में हुए इस अध्‍ययन के मुताबिक माथे की गहरी रेखाओं पर उनकी नजर इसलिए गई क्‍योंकि यह आसानी से दिखती हैं। दिल की बीमारी होने का खतरा उम्र के साथ बढ़ता जाता है, लेकिन दवाइयों और लाइफस्‍टाइल हेल्‍दी बनाकर इसको टाला जा सकता है। जरूरी यह है कि हाई रिस्‍क वाले मरीज की पहले पहचान होना। इसके लिए रिसचर्स ने यह तरीक खोज निकाली।


20 वर्ष तक चले इस अध्‍ययन में यूनिवर्सिटी ने 3200 कुशल कामगारों को शामिल किया। इनकी उम्र 32, 42, 52 व 62 थी।सभी को फिजिशिन ने चेक किया और उनके माथे पर आने वाली रेखाओं को देखकर उसके हिसाब से स्‍कोर दिए। 0 स्‍कोर का मतलब था कि माथे पर कोई लकीर नहीं है और 3 का मतलब था काफी सारी रेखाएं हैं। अध्‍ययन के दौरान 233 लोगों की विभिन्‍न कारणों से जान चली गई। इसमें 15.2 फीसदी के 2 या 3 स्‍कोर था यानि माथे पर ढेरों लकीरें थीं। 6.6 फीसदी के 1 स्‍कोर था और 2.1 फीसदी के कोई रिंकल नहीं था।

शोधकर्ताओं ने पाया कि जिन लोगों का 1 स्‍कोर था उनके दिल की बीमारी से मरने का रिस्‍क 0 स्‍कोर वाले से ज्‍यादा था। जिनका स्‍कोर 2 व 3 था उनका 0 स्‍कोर वालों से मरने का जोखिम 10 गुना अधिक था। इस आधार पर य‍ह निष्‍कर्ष निकला कि ज्‍यादा रिंकल वालों में दिल की बीमारी से मरने का खतरा ज्‍यादा रहता है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है