बड़ी मेहनत के बाद होते हैं Jogindernagar के बडौण में महाशीर के दर्शन

आखिर क्यों रास नहीं आ रहा महाशीर को बडौण, 24 में से 4 टैंक खाली, कई में फफूंद

बड़ी मेहनत के बाद होते हैं Jogindernagar के बडौण में महाशीर के दर्शन

- Advertisement -

ओमप्रकाश चौहान/जोगिंद्रनगर। बडौण में करीब दो साल पहले शुरू किया गया करोड़ों रुपए की लागत का महाशीर मत्स्य फार्म आने वाले समय में कभी बंद हो जाए तो हैरानी नहीं होगी क्योंकि अनेक कारणों से इसका यहां कामयाब होना कई तरह के सवालों के घेरे में है। लगभग 14 बीघे में बनाए गए इस राष्ट्रीय महाशीर फार्म पर हालांकि करोड़ों रुपए की लागत आई है लेकिन इसमें 24 टैंकों व पॉलीहाउस के  अलावा महाशीर के दर्शन काफी मेहनत के बाद ही होते हैं। पानी उतना साफ नहीं दिखता जितनी इस प्रजाति की मछलियों के लिए चाहिए। अधिकांश टैंकों के पानी में फफूंद दिख रही है जबकि उनके फर्श में भी फफूंद का साम्राज्य दिखता है। पॉलीहाउस में भी तीन टैंक बनाए गए हैं, जिनका तापमान बाहर के पानी से दो डिग्री से अधिक बढ़ाया गया है। 4 टैंक तो पूरी तरह खाली हैं और जिस आकार के टैंकों का निर्माण हुआ है, उनके बहुत कम हिस्सों में छोटी-छोटी महाशीर देखने को मिलती है और वह एक झुंड में ही रहती हैं। इस फार्म का मकसद कुछ भी रहा हो लेकिन अभी तक इससे बीज निकालकर खड्डों आदि में तो डाला गया है लेकिन व्यापारिक स्तर पर कहीं भी नहीं भिजवाया गया।

व्यावसायिक तौर पर कामयाब नहीं यह प्रजाति, पानी की भी कमी

समझा जाता है कि यह प्रजाति व्यावसायिक तौर पर कामयाब नहीं क्योंकि इसका साइज बहुत कम गति से बढ़ता है जो किसी भी व्यावसायिक फार्म के लिए घाटे का सौदा हो सकता है। इस फार्म में मत्स्य अधिकारी के अलावा 5 अन्य फिशरमैन व गार्ड भी काम करते हैं। पानी की इस फार्म में किल्लत है क्योंकि बस्सी परियोजना से निकले पानी को इसमें प्रयोग किया गया है जो सर्दियों में वैसे ही कम हो जाता है। वैकल्पिक प्रबंध तो पानी का किया गया है लेकिन उसकी मात्रा बहुत ही कम है। कुल मिलाकर ऐसा अंदेशा है कि राष्ट्रीय महाशीर मत्स्य फार्म उन उम्मीदों पर खरा उतरता नहीं दिखता जिसके लिए इसे बडौण में बनाया गया है, इसके पीछे अनेकों तकनीकी कारण भी हो सकते हैं जिनके लिए सरकारी स्तर पर मशक्कत किए जाने की जरूरत समझी जा रही है। अगर प्रदेश का मत्स्य पालन विभाग समय रहते इस ओर नहीं देखता तो परिणाम अधिक सकारात्मक आते नहीं दिखते।

बंद नहीं होगा पूरी तरह सफल है फार्मः अरुणकांत

महाशीर फार्म के मत्स्य अधिकारी अरूणकांत ने कहा फार्म पूरी तरह सफल है, यह कहना कतई गलत है कि इसके बंद होने की आशंका है।  पानी की कमी के चलते टैंकों को साफ करने में असुविधा होती है, जिसके लिए विभागीय स्तर पर मामला उठाया गया है। पानी का वैकल्पिक प्रबंध किया गया है जो चौबीस, घंटे चालू रहता है। लूणी खड्ड का पानी मिले तो अच्छा होगा क्योंकि उसका तापमान रणा के पानी से अधिक है। व्यावसायिक तौर पर महाशीर प्रजाति को कामयाब नहीं माना जा सकता क्योंकि इसका आकार बहुत ही धीमी गति से बढ़ता है। 20 हजार से अधिक ब्रीडिड, 1500 स्नो ट्राऊट व 1000 से अधिक अंडे देने वाली महाशीर टैंकों में हैं। फार्म में तैनात कुशल कर्मचारी इसके रखरखाव में कोई कमी नहीं रहने देते।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

बॉलीवुड के गोविंदा ने चिंतपूर्णी में नवाया शीश, श्रद्धालुओं में सेल्फी को मची होड़

कोटखाई और नारकंडा में भारी ओलावृष्टि, शिमला में बारिश के बाद लोगों ने निकाले स्वेटर

हाईकोर्ट ने पलटा निचली अदालत का फैसला , चरस के आरोपी को रिहा करने के दिए आदेश

पांवटा साहिब: युवती से दुष्कर्म के आरोपी 5 दिन के पुलिस रिमांड पर भेजा

नगवाईं में जनसमस्याएं सुनने गए एसडीएम सन्नी शर्मा पर हमले का प्रयास

पांवटा साहिब की अदालतों में दिन भर खड़े रखे 32 नशेड़ी चालक

भारी पुलिस बल की मौजूदगी में सुबाथू में तोड़े अवैध निर्माण

सीएम ने खोला खिलाड़ियों के लिए खजानाः 30 लाख बढ़ाई खेल अनुदान राशि

नादौन: इलाज के बहाने तांत्रिक ने महिला से दो साल तक किया दुष्कर्म

उपचुनावों पर बोले सत्ती , संसदीय बोर्ड को जल्द भेजी जाएगी उम्मीदवारों की सूची

वरिष्ठ न्यायाधीश धर्मचंद चौधरी फिर बने हाईकोर्ट के कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश

कांग्रेस ने पच्छाद व धर्मशाला सीटों के लिए पार्टी प्रत्याशियों से आवेदन मांगे

जयराम बोले- कार्यकर्ताओं के साथ बैठकर जल्द करेंगे दोनों सीटों पर प्रत्याशियों की घोषणा

राठौर ने बीजेपी पर साधा निशाना, इतिहास से छेड़छाड़ के लगाए आरोप

चिट्टे के साथ पकड़े  बीजेपी नेता के पुत्र को नहीं मिली जमानत, कोर्ट ने रद्द की याचिका

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है