Covid-19 Update

58,457
मामले (हिमाचल)
57,233
मरीज ठीक हुए
982
मौत
11,046,432
मामले (भारत)
113,097,102
मामले (दुनिया)

आईपीएच की स्कीमों के कार्य को आउटसोर्स पर देने का विरोध

आईपीएच की स्कीमों के कार्य को आउटसोर्स पर देने का विरोध

- Advertisement -

Outsource work : शिमला। विधानसभा में आज सिंचाई, जलापूर्ति एवं सफाई को लेकर विपक्ष ने कटौती प्रस्ताव पेश किया। बीजेपी सदस्य महेंद्र सिंह ने इसे पेश किया। इस दौरान उन्होंने कांग्रेस सरकार पर हमले बोले। उन्होंने आईपीएच विभाग की स्कीमों के कार्य को आउटसोर्स पर देने का विरोध किया और कहा कि इस कारण सरकार को चपत लग रही है और ठेकेदार चांदी कूट रहे हैं। उन्होंने कहा कि परियोजना स्थापित करने में जितनी लागत आ रही है, उससे अधिक उनको चलाने पर खर्च किया जा रहा है। उन्होंने इसे लेकर शिमला ग्रामीण के सुन्नी और बिलासपुर से जुड़ी कई योजनाओं का उल्लेख किया।  बीजेपी सदस्य महेंद्र सिंह ने कहा कि 60 से 70 करोड़ रुपए की राशि आउटसोर्स पर स्कीमों को चलाने के लिए दिए जा रहे हैं। उनका कहना था कि इतनी राशि में बेरोजगारों को रोजगार प्रदान करवाया जा सकता था। उन्होंने कहा कि आईपीएच विभाग जनता को पानी देने में असर्मथ रहा है और लोग त्राहि-त्राहि कर रहे हैं।

  • सदन में विपक्ष ने कटौती प्रस्ताव किया पेश, सरकार पर बोले हमले
  • आरोप, सरकार को लग रही चपत और कूट रहे हैं ठेकेदार चांदी

उन्होंने कहा कि कई स्थानों पर 3-3 माह के लिए स्कीमों को ठेके पर दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि बीजेपी नेताओ द्वारा किए गए शिलान्यासों की पट्टिकाओं को तोड़ा जा रहा है और कोई कार्रवाई नहीं की जा रहीं है।  महेंद्र सिंह ने कहा कि यदि कल को आपकी शिलान्यास की पट्टिकाएं तोड़ी जाती है तो क्या यह सही होगा। उन्होंने कहा कि इस बारे सरकार को कड़े कदम उठाने चाहिए। उन्होंने कहा कि सीवीसी की गाइडलाइन का अनुसरण किया जाए। महेंद्र सिंह ने कहा कि बैकवर्ड सब प्लान का पैसे का दुरुपयोग हो रहा है। उन्होंने कहा कि एक जगह दो बैकवर्ड सब प्लान के पैसे की पाइप रेलिंग में लगाई गई है। उन्होंने कहा कि स्टाफ के अभाव के कारण डीपीआर तैयार नहीं हो रही है।

बिंदल ने सरकार पर हैंडपंप लगाने में राजनीति करने का जड़ा आरोप
चर्चा में हिस्सा लेते हुए बीजेपी सदस्य डॉ. राजीव बिंदल ने सरकार पर हैंडपंप लगाने में राजनीति करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के छुटभैया नेता अधिकारी के पास जाते हैं और टेबल पर मुक्का मारकर  हैंडपंप लगवा लेते हैं। उन्होंने कहा कि जहां पहले से पीने का पानी है और सप्लाई आ रहीं है, वहां पर हैंडपंप लगाए जा रहे हैं, जबकि हैंडपंप लगाने के लिए विधायक प्राथमिकता को दरकिनार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि 1 लाख की मोटर पर 5-5 लाख रुपये मरम्मत पर खर्च हो रहे हैं और मिस्त्री उसे ठीक कर रहा है। उन्होंने कहा कि मोटर ठीक होने जाती भी है या नहीं। इसको लेकर भी स्थिति स्पष्ट नहीं है। उन्होंने कहा कि लोगों को खड्डों का पानी बिना टीरीट किए पिलाया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि नाहन में 55 प्रतिशत हैंडपंप खराब पडे़ हैं और अधिकारियों को कई बार लिखित शिकायत किए जाने के बाद भी उन्हें ठीक नहीं किया जा रहा है। बीजेपी सदस्य विजय अग्निहोत्री ने चर्चा में भाग लेते हुए अपने विस क्षे़त्र से जुड़ी विभिन्न पेजयल और सिंचाई योजनाओं को मामला उठाते हुए सरकार को घेरने का प्रयास किया।   उधर, विधायक इंद्र सिंह ने कहा कि आईपीएच विभाग अपनी जिम्मेवारी का निभाने में असफल रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार के पास न कोई विजन है और न ही कोई नीति। उन्होंने हर पेयजल स्कीम का 15 से 20 साल में रिमॉडलिंग करने का सुझाव दिया। उन्होंने कहा कि 25 फीसदी पेजयल वितरण के दौरान लीक हो जाता है और स्थिति यह है कि विभाग के पास पुरानी पाइप बदलने के लिए नई पाइप तक नहीं है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है