Covid-19 Update

2,18,693
मामले (हिमाचल)
2,13,338
मरीज ठीक हुए
3,656
मौत
33,697,581
मामले (भारत)
233,301,085
मामले (दुनिया)

पालतू कुत्ते को खुले में शौच करवाया तो भुगतना होगा जुर्माना, Registration Fees भी बढ़ी

पालतू कुत्ते को खुले में शौच करवाया तो भुगतना होगा जुर्माना, Registration Fees भी बढ़ी

- Advertisement -

चंडीगढ़। शहर में अब पालतू कुत्ते को खुले में शौच करवाने पर मालिक पर जुर्माना (Penalty) लगाया जाएगा। यूटी प्रशासन ने नगर निगम के संशोधित डॉग बायलॉज-2010 को मंजूरी दे दी है। इसके साथ अब पेट डॉग रजिस्ट्रेशन फीस (Pet Dog Registration Fees) भी बढ़ा दी गई है। रजिस्ट्रेशन फीस अब 200 की जगह 500 रुपये देनी होगी। नगर निगम सदन ने 2018 में यह प्रस्ताव पास किया था, लेकिन अब जाकर यह शहर में लागू होगा। शहर में अधिकतर लोग अपने डॉग को पार्क और सड़कों के किनारे ही घुमाते हैं। डॉग को घुमाने के समय ही वह शौच करते हैं। इससे शहर में गंदगी फैलती है। शहर में अब यदि कोई डॉग को खुले में कहीं भी शौच करवाते पकड़ा गया तो 5500 रुपये जुर्माना लगेगा। जुर्माना नहीं भरने पर पानी के बिल में जोड़कर इसे भेज दिया जाएगा। जुर्माने की राशि नगर निगम वसूल करेगा। पहले यह मार्च में लागू होना था, लेकिन लॉकडाउन की वजह से इसे कुछ समय के लिए टाल दिया गया था।

ये भी पढे़ं – Viral Video : कुत्ते को तरबूज खिलाने की कोशिश कर रहा था मालिक, देखिए उसने क्या किया

 

नियमों के अनुसार डॉग को सुखना लेक, रोज गार्डन, शांतिकुंज, रॉक गार्डन, लेजर वैली व अन्य इसी तरह के गार्डन में लेकर नहीं जा सकते हैं। ऑनर की ओर से अपने डॉग को पूरे कंट्रोल में रखा जाएगा ताकि ये किसी को नुकसान ना पहुंचाएं। अगर ऐसा होता है तो पीड़ित को मुआवजा देने की पूरी जिम्मेदारी मालिक की होगी। इसके अलावा प्रशासन ने कॉर्मिशयल पर्पज के लिए डॉग ब्रीडिंग और ट्रेड पर भी रोक लगा रखी है।

 

 

डॉग बायलॉज (Dog bylaws) में डॉग का रजिस्ट्रेशन नहीं कराने पर फाइन को 500 से बढ़ाकर सीधे 5 हजार कर दिया गया है। इसके बाद भी अगर कोई ऐसा नहीं करता तो प्रतिदिन 200 रुपये अलग से चुकाने होंगे। पहले यह 20 रुपये थे। इसके बाद भी किसी ने रजिस्ट्रेशन नहीं कराया तो डॉग को निगम की टीम अपने पास रखेगी। इसके साथ ही ऑनर से इसके बदले प्रतिदिन 1000 रुपये मेंटीनेंस चार्जेस वसूल किए जाएंगे। पहले मेंटेनेंस चार्ज (Maintenance charges) 100 रुपये प्रतिदिन था। सात दिनों तक मालिक डॉग को नहीं ले जाता तो इसे ओपन सेल में बेच दिया जाएगा। गौरतलब है कि चंडीगढ़ में इस समय 10 हजार से अधिक पेट डॉग्स हैं और लगभग हर साल एक हजार नए डॉग्स का रजिस्ट्रेशन होता है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है