Covid-19 Update

2,00,832
मामले (हिमाचल)
1,95,254
मरीज ठीक हुए
3,440
मौत
30,028,709
मामले (भारत)
179,981,557
मामले (दुनिया)
×

#Farmers_Protest: राजनीतिक जंग में पाकिस्‍तान बना मुद्दा, कैप्‍टन-सुखबीर ने एक-दूसरे को लपेटा

कैप्टन ने कहा,मैं बादल की तरह ना तो डरपोक हूं और ना ही गद्दार

#Farmers_Protest: राजनीतिक जंग में पाकिस्‍तान बना मुद्दा, कैप्‍टन-सुखबीर ने एक-दूसरे को लपेटा

- Advertisement -

चंडीगढ़। किसानों के आंदोलन (Farmers Protest)के बीच पंजाब का राजनीतिक पारा चरम पर है। इस लड़ाई में पाकिस्तान (Pakistan) बड़ा मसला बन गया है। इसी को लेकर पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह (Punjab CM Captain Amarinder Singh) व शिरोमणि अकाली दल के अध्‍यक्ष सुखबीर सिंह बादल (Shiromani Akali Dal President Sukhbir Singh Badal)ने एक-दूसरे को लपेटने का काम किया है। सुखबीर ने कैप्‍टन पर किसानों के खिलाफ पाकिस्‍तान कार्ड खेलने का आरोप लगाया तो कैप्‍टन ने बादल परिवार पर जवाबी हमला किया। उन्‍होंने कहा कि वह बादल की तरह डरपो‍क और देश प्रति गद्दार नहीं हैं। कैप्टन ने कहा,मैं बादल की तरह ना तो डरपोक हूं और ना ही गद्दार। उन्‍होंने कहा कि यह सुखबीर की निराशा का स्तर ही है कि वह पंजाब और देश की सुरक्षा को पाकिस्तान से खतरे को दरकिनार कर रहे हैं। कैप्‍टन ने सुखबीर बादल से पूछा कि क्या आप और आपकी पार्टी सत्ता हासिल करने के लिए इतनी व्याकुल हो गई है कि पाकिस्तान के हाथों हमारी सुरक्षा को लेकर आंखें बंद कर ली हैं।

ये भी पढ़ेः #Farmers_Protest: छठे दौर की बातचीत से पहले #8दिसंबर_भारत_बंद का आहृवान


इससे पहले शिरोमणि अकाली दल के प्रधान सुखबीर सिंह बादल ने सीएम कैप्टन पर किसान आंदोलन को लेकर बीजेपी के सामने आत्मसमर्पण करने और किसानों के खिलाफ पाकिस्तान कार्ड खेलने का आरोप लगाया। सुखबीर ने कैप्टन के किसान आंदोलन से राष्ट्रीय सुरक्षा (National Security) के खतरों के संदर्भ का जिक्र करने की आलोचना की। सुखबीर ने कहा कि कैप्टन ना केवल बीजेपी हाईकमान (BJP High Command) द्वारा उन्हें दी गई पटकथा का गायन कर रहे हैं बल्कि उसे तोते की तरह गा रहे हैं। कैप्टन, भगवान के लिए यह ना कहें कि कि पाकिस्तान दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में लोकतांत्रिक गतिविधि को रोक सकता है। पाकिस्तान को हमेशा हमारे बहादुर जनरलों ने मुंहतोड़ जवाब दिया है। उन्‍होंने कहा कि कैप्टन को स्पष्ट रूप से दिल्ली यह बताने के लिए बुलाया गया था कि वह या तो ईडी (ED) का सामना करें या किसानों का आंदोलन खत्म करवाएं। जैसे ही वह अमित शाह से मिलकर बाहर आए, उन्होंने किसानों को राष्ट्रीय सुरक्षा का हवाला देकर आंदोलन खत्म करने को कहा। सुखबीर ने कहा कि दिल्ली (Delhi) में हर कोई जानता है कि बैठक में क्या हुआ।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है