Expand

खुशवंत सिंह लिटफेस्ट में नहीं बुलाए पाक साहित्यकार

खुशवंत सिंह लिटफेस्ट में नहीं बुलाए पाक साहित्यकार

- Advertisement -

सोलन। पाकिस्तान के साथ रिश्तों में आए तनाव का असर खुशवंत सिंह लिटफेस्ट पर भी दिखा है। कसौली में होने वाले पांचवें लिटफेस्ट में किसी भी पाकिस्तानी साहित्यकार व कलाकार को बुलाया नहीं जाएगा। सदी के महान व बेबाक लेखक खुशवंत सिंह लिटफेस्ट में पाकिस्तान से कोई भी शिरकत नहीं करेगा। इस साल यह लिटफेस्ट पर्यटन नगरी कसौली में 14 से लेकर 16 अक्तूबर तक आयोजित होने जा रहा है। पर्यटन नगरी कसौली के जाने-माने कसौली क्लब में आयोजित होने वाले पांचवें लिटफेस्ट में कोई भी पाकिस्तानी साहित्यकार और कलाकार भाग नहीं लेगा। जम्मू-कश्मीर के उरी क्षेत्र में भारतीय जवानों पर हुए हमले के बाद विश्वभर में पाकिस्तान की किरकिरी हुई है। प्रदेश में आयोजित होने वाले सरदार खुशवंत लिटफेस्ट में पाकिस्तान से किसी भी साहित्यकार व कलाकार को न बुलाने का फैसला लिया गया है।

khusbant-singhगौर रहे कि वर्ष 2012 से शुरू हुए खुशवंत सिंह लिटफेस्ट में देश-विदेश के साहित्यकार व कलाकार हिस्सा लेते हैं। साहित्य के इस समुद्र मंथन में हर साल पाकिस्तान से कई बड़ी हस्तियां भाग लेती हैं। खुशवंत सिंह के लेखन और साहित्य के क्षेत्र में दिए गए अमूल्य योगदान को देखते हुए उनके बेटे राहुल सिंह ने वर्ष 2012 में उनके जीवित रहते ही लिटफेस्ट की शुरूआत कर दी थी। पहले ही लिटफेस्ट में देश-विदेश से उनके लेखनी के प्रशसंक साहित्यकारों ने भाग लेकर उस महान लेखक के प्रति अपना स्नेह दिखाया था, तब से हर वर्ष अक्तूबर माह में खुशवंत सिंह लिटफेस्ट का आयोजन हो रहा है। हालांकि चार साल पहले शुरू हुए लिटफेस्ट के दौरान खुशवंत सिंह जिंदा थे, लेकिन मार्च 2014 सरदार खुशवंत सिंह का स्वर्गवास हो गया। इस साल यह लिटफेस्ट अपना पांचवां वर्ष पूरा करने जा रहा है।

khusbant-singh1मुख्यमंत्री पहली बार करेंगे शुभारंभ

स्व. खुशवंत सिंह लिटफेस्ट का शुभारंभ पहली बार प्रदेश के मुख्यमंत्री करेंगे। गौर रहे कि इससे पहले प्रदेश के किसी भी मुख्यमंत्री ने लिटफेस्ट की शुरुआत नहीं की है। इस मौके पर महान लेखक खुशवंत सिंह द्वारा कसौली से कालका के लिए प्रयोग की जाने वाले पैदल रास्ते का भी नामकरण करेंगे। इस पर स्व. सरदार खुशवंत सिंह के बेटे राहुल सिंह ने बताया कि दोनों देशों के बीच चल रही तनातनी के चलते पाकिस्तान से किसी भी मेहमान को नही बुलाने का फैसला लिया गया है। वह चाहते हैं कि जल्द ही दोनों देशों के बीच अमन कायम हो।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है