Expand

पार्किंग प्रकरणः ब्लैक लिस्ट ठेकेदार को ठेका कैसे

पार्किंग प्रकरणः ब्लैक लिस्ट ठेकेदार को ठेका कैसे

- Advertisement -

कांगड़ा। मिनी सचिवालय स्थित पार्किंग शुल्क का मामला गर्माता जा रहा है। आज कांगड़ा बचाओ संघर्ष समिति ने आरोप लगाया है कि स्थानीय प्रशासन ने एक ऐसे ठेकेदार को पार्किंग का ठेका आवंटित कर दिया है जो कि kangra1डाॅ राजेंद्र प्रसाद मेडिकल काॅलेज अस्पताल टांडा द्वारा ब्लैक लिस्ट किया गया है। कांगड़ा बचाओ संघर्ष समिति ने सवाल किया कि कांगड़ा प्रशासन ने बिना जांच पड़ताल किये कैसे एक ब्लैक लिस्ट ठेकेदार को पार्किंग का ठेका आवंटित किया है जो कि कांगड़ा प्रशासन की सरासर लापरवाही को उजागर कर रहा है। कांगड़ा बचाओ संघर्ष समिति ने सरकार को चेतावनी दी है कि अगर बुधवार तक ब्लैक लिस्ट ठेकेदार से पार्किंग का टेंडर रद नही किया जाता तो कांगड़ा में व्यापारी, एडवोकेट व ठेकेदार सड़कों पर उतर कर चक्का जाम कर देंगे, जिसकी जिम्मेदारी सरकार की होगी। संयुक्त पत्रकार वार्ता में कांगड़ा बचाओ संघर्ष समिति व बार एसोसिएशन के प्रधान अमन गुलेरिया, कांगड़ा ठेकेदार एसोसिएशन के उपप्रधान अरविंद गर्ग,  संयुक्त व्यापार मंडल के अध्यक्ष अनुज गर्ग ने कहा कि कांगड़ा प्रशासन द्वारा पार्किंग टेंडर प्रक्रिया में पारदर्शिता नही बरती है जिसके कारण एक ब्लैक लिस्ट ठेकेदार को पार्किंग का ठेका देना एक बड़े भ्रष्टचार को उजागर कर रहा है। अमन गुलेरिया ने कहा कि कांगड़ा बचाओ संघर्ष समिति ने तथ्यों सहित प्रदेश के मुख्यमंत्री को पार्किंग टेंडर प्रक्रिया की जानकारी भेज दी है और मुख्यमंत्री से मांग की है इस प्रकरण की बड़े स्तर पर जांच करवाई जाए व कांगड़ा की एसडीएम देव श्वेता बानिक के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए। kangra-sdm-court-1अमन गुलरिया ने कहा कि टेंडर प्रक्रिया में भाग लेने वाले ठेकेदारों की विस्तृत जानकारी विभाग को होनी चाहिए परन्तु कांगड़ा के मिनी सचिवालय में कांगड़ा प्रशासन जल्दबाजी में ना तो टेंडर में भाग ले रहे ठेकेदारों की जांच करवाई और नियमों को ताक में रख कर टेंडर आवटिंत कर दिया गया जो कि सरासर भ्रष्टचार का मामला बनता है। अमन गुलेरिया ने टांडा मेडिकल काॅलेज से ली गई आरटीआई से ली गई जानकारी का हवाला देते हुये बताया कि उक्त ठेकेदार को वर्ष 2013 में टांडा मेडिकल काॅलेज के चिकित्सा अधीक्षक ने ब्लैक लिस्ट किया  है। इस दौरान विशाल शर्माए संजीव चौधरी, संदीप चौधरी, एमएस पठानिया,  प्रशांत भासीन, गौतम कायस्था, राकेश वर्मा सहित कई व्यापारी व ठेकेदार मौजूद थे। उधर, इस बाबत एसडीएम कांगड़ा देव श्वेता बानिक से बात की गई तो उन्होंने बताया कि ठेकेदार के ब्लैक लिस्ट होने की कोई जानकारी नही है और कोई इस संबंध में कोई श्किायत आती है तो जांच कर उपयुक्त कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।
विधायक पर उठाए सवाल
कांगड़ा। कांगड़ा मिनी सचिवालय में पार्किंग शुल्क को उपजे विवाद में जहां विधायक ने दूरी बना रखी है, वहीं विपक्ष का कोई बड़े नेता संघर्ष में शामिल नही हुआ है। समिति का कहना था कि कांगड़ा सबका है परन्तु यहां राजनीतिक फायदा नहीं दिखने पर ना तो विधायक आए और ना ही पूर्व विधायक। समिति का कहना है कि जनता सब देख रही है और इसका सबक जनता जरूर दिखाएगी। समिति ने कांगड़ा नगर परिषद के पार्षद पर भी सवाल उठाए है कि पार्किंग शुल्क का विवाद आम जनता से जुडा है और मिनी सचिवालय कांगड़ा परिषद के अतंर्गत है और ऐसे में पार्षदों की भी जबाव देही बनती है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है