Covid-19 Update

59,014
मामले (हिमाचल)
57,428
मरीज ठीक हुए
984
मौत
11,190,651
मामले (भारत)
116,428,617
मामले (दुनिया)

प्रायवेट बसों की हड़ताल सोमवार से : HRTC ने कमर कसी, फिर भी यात्रियों को होगी परेशानी 

प्रायवेट बसों की हड़ताल सोमवार से : HRTC ने कमर कसी, फिर भी यात्रियों को होगी परेशानी 

- Advertisement -

शिमला। हिमाचल प्रदेश में आगामी सोमवार से प्रायवेट बसों की अनिश्चितकालीन हड़ताल मुसाफिरों के लिए परेशानी का सबब बनने जा रही है। करीब 4000 रूट्स पर चलने वालीं 3200 प्रायवेट बसें सड़क पर नहीं उतरेंगी। वहीं HRTC ने हड़ताल को देखते हुए कमर कस ली है। HRTC अपनी सारी बसों को सड़क पर उतारेगा। इसके बावजूद 50 परसेंट बसों और रूट्स की भरपाई करना निगम के लिए आसान नहीं होगा।

HRTC ने उठाए ये कदम

  • छुट्टियां कैंसल : HRTC के जनसंपर्क अधिकारी पंकज सिंघल ने हिमाचल अभी अभी को बताया कि सभी रीजनल मैनेजरों को कहा गया है कि वे छुट्टी पर गए स्टाफ को बुला लें।
  • लोड फैक्टर बढ़ाएंगे : सिंघल ने कहा कि फिलहाल HRTC की बसें 60 परसेंट ऑक्यूपेंसी यानी मुसाफिरों की कुल क्षमता का साठ फीसदी ही सवारी भर पाती हैं। इसे हड़ताल के दौरान 100 परसेंट किया जाएगा। यानी HRTC की बसें पूरी भरकर चलेंगी।
  • मांग के मुताबिक होगा प्रबंधन :  सिंघल ने यह भी बताया कि मुसाफिरों की डिमांड के अनुसार रीजनल मैनेजर रूट और बसों के फेरों की संख्या के बारे में फैसला ले सकेंगे। उन्होंने कहा कि कुछ स्थानों पर बसों के अतिरिक्त फेरे भी लगाए जाएंगे।
  • बसों की संख्या : HRTC के सीजीएम एचके गुप्ता ने बताया कि सभी रूट्स पर बसों की संख्या को बढ़ाने के लिए सड़कों पर नहीं दौड़ रहीं निगम की बसों को भी चलाने की योजना है। इनमें जेएनयूआरएम की गाड़ियां भी शामिल हैं। आपको बता दें कि हिमाचल प्रदेश में बसों की संख्या के मामले में प्रायवेट ऑपरेटरों और HRTC की बसों का अनुपात 50:50 है। ऐसे में अगर निगम अपनी सारी गाड़ियां भी सड़कों पर झोंक दे तो भी इतने बड़े अंतर की भरपाई मुमकिन नहीं होगी।
  • मुसाफिरों का क्या ? गुप्ता के अनुसार, HRTC की सेवाएं चौबीसों घंटे और सातों दिन के लिए हैं। उन्होंने कहा, ”हम अपना बेस्ट देने की कोशिश करेंगे। लेकिन यात्रियों को हड़ताल के चलते थोड़ी परेशानी तो झेलनी होगी।”
  • र हड़ताल लंबी खिंची तो ? इस सवाल पर गुप्ता ने कहा कि इसका हल सरकार को निकालना है। HRTC अपनी पूरी ताकत से मुसाफिरों को परेशानी से बचाने की कोशिश करेगी।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है