Covid-19 Update

59,059
मामले (हिमाचल)
57,473
मरीज ठीक हुए
984
मौत
11,204,179
मामले (भारत)
116,873,133
मामले (दुनिया)

जीएसटी बनी बाबा रामदेव के गले की फांस, बिक्री में आई गिरावट

जीएसटी बनी बाबा रामदेव के गले की फांस, बिक्री में आई गिरावट

- Advertisement -

नई दिल्ली। जीएसटी योग गुरु बाबा रामदेव के गले की फांस बन गई है। पिछले पांच सालों की अगर तुलना करे तो उनकी कंपनी पतंजलि आयुर्वेद की सेल्स और उसके प्रॉफिट 10 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है। इसकी एक वजह यह रही कि पतंजलि को जवाब देने के लिए खासतौर पर मल्टीनैशनल कंपनियों ने बड़े पैमाने पर नैचरल और हर्बल प्रॉडक्ट्स लॉन्च किए। इन सबके बीच पतंजलि गुड्स ऐंड सर्विसेज टैक्स लागू होने के बाद डिस्ट्रीब्यूशन के मोर्चे पर दिक्कतों में फंसी रही।

कंपनी का अबतक का सबसे खराब परफॉर्मेंस

रिसर्च प्लैटफॉर्म टॉफलर से मिले फाइनैंशल डेटा के मुताबिक, फिस्कल इयर 2017-18 में पतंजलि की आमदनी 10% गिरकर 8,135 करोड़ रुपये रह गई, जो सालभर पहले 9,030 करोड़ रुपये थी। 2013 के बाद यह कंपनी का सबसे कमजोर परफॉर्मेंस रहा। उस साल कंपनी की ऐनुअल सेल डबल हो गई थी। केयर रेटिंग्स के प्रविजनल डेटा के मुताबिक, फिस्कल इयर 2017-18 में कंपनी का नेट प्रॉफिट भी लगभग 50% की गिरावट के साथ 529 करोड़ रह गया। फाइनैंशल डीटेल्स के बाबत पतंजलि को भेजी गई ईमेल का जवाब खबर लिखे जाने तक नहीं मिल पाया था।

कंपनी ठोस इन्फ्रास्ट्रक्चर और सप्लाई चेन डिवेलप करने में भी रही है नाकामयाब

केयर रेटिंग्स की रिपोर्ट के मुताबिक, ‘पतंजलि के टर्नओवर में गिरावट की सबसे बड़ी वजह जीएसटी सिस्टम के हिसाब से समय पर खुद को ढाल पाने में नाकामी है। कंपनी ठोस इन्फ्रास्ट्रक्चर और सप्लाई चेन डिवेलप करने में भी नाकामयाब रही।’ कंपनी की प्रॉफिटेबिलिटी में तेज गिरावट की सबसे बड़ी वजह प्रॉफिट बिफोर इंट्रेस्ट, लीज, डेप्रिसिएशन ऐंड टैक्स मार्जिन में आई कमी थी।

मार्केट में कॉम्पिटिटर्स बढ़ने से भी हुआ है नुकसान

इसके अलावा कॉम्पिटिटर्स ने कंपनी पर जवाबी हमला बोलते हुए अपना खोया मार्केट शेयर हासिल कर लिया। जेफरीज के ऐनालिस्टों वरुण लोचब और तन्मय शर्मा का कहना है कि मार्केट में पतंजलि का प्रभाव घटा है और डाबर ने उसके हाथों खोया मार्केट शेयर वापस हासिल कर लिया है। 1997 में फार्मेसी के तौर पर कारोबार की शुरुआत करने वाली पतंजलि ने टूथपेस्ट, शैंपू और दूसरे पर्सनल केयर प्रॉडक्ट्स से लेकर कॉर्नफ्लेक्स और इंस्टैंट नूडल्स जैसे मॉडर्न कन्वीनियंस फूड तक दो दर्जन मेनस्ट्रीम एफएमसीजी प्रॉडक्ट्स लॉन्च किए हैं। पतंजलि को मिली शुरुआती कामयाबी ने हर्बल, आयुर्वेदिक और नैचरल प्रॉडक्ट्स के लिए उत्प्रेरक का काम किया। इस स्पेस में मल्टीनैशनल कंपनियों के उतरने से कन्ज्यूमर गुड्स मार्केट में इन प्रॉडक्ट्स का हिस्सा बढ़कर लगभग 10% हो गया है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है