Covid-19 Update

2,18,314
मामले (हिमाचल)
2,12,899
मरीज ठीक हुए
3,653
मौत
33,678,119
मामले (भारत)
232,488,605
मामले (दुनिया)

पेगासस जासूसी विवाद : एसआईटी के लिए सांसद जॉन ब्रिटास पहुंचे सुप्रीप कोर्ट

सांसद बोले- सरकार ने ना स्वीकार किया ना इनकार

पेगासस जासूसी विवाद : एसआईटी के लिए सांसद जॉन ब्रिटास पहुंचे सुप्रीप कोर्ट

- Advertisement -

नई दिल्ली। पेगासस जासूसी विवाद को लेकर देशभर में तरह-तरह की चर्चाएं हो रही हैं। सरकार पूरे मामले को लेकर पल्ला झाड़ने में लगी है तो विपक्ष उसी पल्ले को पकड़ कर बैठा हुआ है। लगातार विपक्षी दलों द्वारा मामले की जांच के लिए जेपीसी (JPC) बनाने की मांग भी की जा रही है। अब पेगासस जासूसी विवाद में एक नया मोड़ आ गया है। एक सांसद पेगासस जासूसी विवाद (Pegasus Spyware Controversy) की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट पहुंच गए हैं। सुप्रीम कोर्ट में एसआईटी (SIT) की मांग कर याचिका लगाने वाले सांसद हैं जॉन ब्रिटास (MP John Brittas)।

यह भी पढ़ें: वोटर कार्ड हो गया है गुम तो घबराइए नहीं, इस तरह कीजिए दोबारा डाउनलोड

आपको बता दें कि इससे पहले सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के अधिवक्ता मोहन लाल शर्मा भी एसआईटी (SIT) जांच को लेकर मांग को लेकर याचिका लगा चुके हैं। अब माकपा नेता और राज्यसभा सांसद जॉन ब्रिटास (Rajya Sabha MP John Brittas) ने भी पेगासस जासूसी विवाद पर ताल ठोक दी है और सुप्रीम कोर्ट जा पहुंचे हैं। सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर उन्होंने पूरे मामले की एसआईटी जांच करवाने की मांग की है। सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में पीआईएल दाखिल करने वाले जॉन ब्रिटास ने कहा कि हाल में जासूसी के आरोपों ने भारत में लोगों के एक बड़े वर्ग के बीच चिंता पैदा कर दी है और जासूसी का अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर गहरा असर पड़ेगा।

राज्यसभा सांसद जॉन ब्रिटास (Rajya Sabha MP John Brittas) ने रविवार को इस बाबत एक बयान भी दिया। जॉन ब्रिटास ने कहा कि केंद्र सरकार ने इस मुद्दे पर लग रहे आरोपों की जांच करवाने की परवाह नहीं की है। इसलिए, इस संबंध में संसद (Parliament) में प्रश्न उठाए गए थे, लेकिन सरकार ने स्पाइवेयर (Pegasus Spyware Controversy) द्वारा जासूसी से न तो इनकार किया और न ही स्वीकार किया है।

ब्रिटास (Brittas) ने रविवार को यह भी दावा किया कि आरोपों से दो निष्कर्ष निकलते हैं, या तो जासूसी सरकार द्वारा या फिर किसी विदेशी द्वारा जासूसी की गई।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए Subscribe करें हिमाचल अभी अभी का Telegram Channel…

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है