Covid-19 Update

2,00,043
मामले (हिमाचल)
1,93,428
मरीज ठीक हुए
3,413
मौत
29,821,028
मामले (भारत)
178,386,378
मामले (दुनिया)
×

पोलियो टीम को लोगों ने एनपीआर सर्वे वाले समझा, बंधक बनाकर की पिटाई

पोलियो टीम को लोगों ने एनपीआर सर्वे वाले समझा, बंधक बनाकर की पिटाई

- Advertisement -

मेरठ। उत्तर प्रदेश स्थित मेरठ (Merrut) के लिसाड़ी गेट में शनिवार को पोलियो (Polio) की दवा पिलाने गई एक महिला समेत तीन सदस्यीय टीम को लोगों ने नैशनल पॉपुलेशन रजिस्टर (एनपीआर) सर्वे टीम (NPR Survey Team) समझकर बंधक बना लिया और मारपीट की। दरअसल, टीम बच्चों और माता-पिता की जानकारी ले रही थी। मौके पर पहुंचे स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने लोगों को समझाकर टीम को छुड़ाया। इस मामले में स्वास्‍थ्‍यकर्मियों ने मुख्य चिकित्साधिकारी के निर्देश पर एफआईआर (FIR) दर्ज कराई है।

यह भी पढ़ें: राजपथ पर Republic Day Parade में दिखी कुल्लू दशहरे की झलक

पीड़ित नर्स की तहरीर पर छेड़छाड़, बंधक बनाना, डकैती, मारपीट आदि धाराओं में दर्ज रिपोर्ट में एक को नामजद करते हुए बाकी को अज्ञात बताया है। मिली जानकारी के अनुसार लक्खीपुरा में ‘पल्स पोलियो’ अभियान की टीम बच्चों को दवाई पिलाने गई थी। इस दौरान टीम जैसे ही अलीबाग कॉलोनी में पहुंची तो वहां दवा पिलाने को लेकर एक परिवार के लोगों से इनकी बहस हो गई। इस बीच वहां एक व्यक्ति पहुंचा और उसने शोर मचा दिया कि यह एनपीआर और एनआरसी का डाटा तैयार कर रहे हैं। इसके बाद वहां भीड़ लग गई। भीड़ को देखकर टीम के सदस्य वहां से जाने लगे तो लोगों ने उन्हें पकड़कर बंधक बना लिया गया। इसके बाद किसी तरह वे वहां से जान बचाकर भागे। टीम में दीपक निवासी शताब्दीनगर और एक महिला स्टाफ के साथ मारपीट और अभद्रता की गई है।


हिमाचल की ताजा अपडेट Live देखनें के लिए Subscribe करें आपका अपना हिमाचल अभी अभी YouTube Channel…

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है