Covid-19 Update

1,58,472
मामले (हिमाचल)
1,20,661
मरीज ठीक हुए
2282
मौत
24,684,077
मामले (भारत)
163,215,601
मामले (दुनिया)
×

अनदेखीः संकट में भितरकुई गांव का अस्तित्व, सुविधाएं न मिलने से पलायन कर गए ग्रामीण

अनदेखीः संकट में भितरकुई गांव का अस्तित्व, सुविधाएं न मिलने से पलायन कर गए ग्रामीण

- Advertisement -

पांवटा साहिब। पहाड़ी राज्य हिमाचल प्रदेश में कई गांवों का अस्तित्व अब धीरे-धीरे खतरे में पड़ रहा है। ऐसा ही एक गांव शिलाई क्षेत्र के अंतर्गत भितरकुई है। लगभग 30 घरों वाले भितरकुई गांव में अब सिर्फ 2 से 3 परिवार रह ही गए हैं। बाकी सब यहां से मैदानी क्षेत्रों की ओर पलायन कर चुके हैं। इस गांव में आजादी के 70 वर्षों बाद भी स्कूल, स्वास्थ्य केंद्र और सड़क जैसी सुविधाएं नहीं हैं। यहां बचे हैं तो सिर्फ दिनों-दिन सड़ते सामान से लैस जर्जर होते मकान और उनके बाहर लटके हुए ताले। गौर रहे कि भारत की सबसे बड़ी चूना पत्थर मंडियों में से एक सतौन से महज 8 किलोमीटर दूर भितरकुई गांव अब नाम का गांव रह गया है। असल में यहां गांव जैसा अब कुछ नहीं बचा है। घर, खेत खलियान, सब उजड़ते जा रहे हैं। रास्ते सुनसान हो गए हैं।


स्कूल मात्र भवन बनकर रह गया है। न घरों में रहने वाले लोग यहां है न खेतों को जोतने वाले किसान। यहां कुछ बचा है तो टूटते उजड़ते घर और अपने मालिकों का कभी न खत्म होने वाला इंतजार करते यह ताले। मूलभूत सुविधाओं की कमी के चलते यहां से कई परिवार पलायन कर गए हैं। कभी क्षेत्र के सबसे खुशहाल और संपन्न भितरकुई गांव की बदहाली पर आंसु बहाने के लिए यहां कुछ मुठ्ठी भर लोग ही बचे हैं। जो आज भी सरकार की नजरें इनायत को तरस रहे हैं।


35-36 परिवारों के इस गांव में महज रहते है अब 2-3 परिवार

इस गांव में कभी 35-36 खुशहाल परिवर निवास करते थे और इसे अनाज का कटोरा कहा जाता था, लेकिन यहां महज 2-3 परिवार और उजाड़ खेत ही शेष बचे हैं। यह कहानी सिर्फ भितरकुइ गांव की नहीं है। पलायन का कारण एक ही है, सरकारी अनदेखी के चलते मूलभूत सुविधाओं की कमी। किसी भी क्षेत्र में विकास के लिए राजनीतिक और प्रशासनिक इच्छा शक्ति की दरकार होती है। लेकिन गांव गांव तक विकास करने वाली सरकारों के नुमाइंदे या अधिकारी कभी भी इस गांव तक नहीं पहुंचे तो विकास कैसे पहुंचेगा। लोगों की सबसे बड़ी समस्या यह है कि यहां अधिकारी और नेता तो दूर कर्मचारी और कार्यकर्ता भी नहीं पहुंचते। जिला के नए उपायुक्त के समक्ष मामला पहुंचा तो उन्होंने इसमें जरूर कुछ रूची दिखाई। उपायुक्त कहते हैं कि वीडियो को तत्काल आदेश दिया गया है कि अन्य विभिन्न विभागों के अधिकारियों सहित यहां का दौरा करें।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है