Covid-19 Update

2,00,791
मामले (हिमाचल)
1,95,055
मरीज ठीक हुए
3,437
मौत
29,973,457
मामले (भारत)
179,548,206
मामले (दुनिया)
×

मछलियों को नशा खिलाते हैं यहां के लोग, जानिए क्या है वजह

मछलियों को नशा खिलाते हैं यहां के लोग, जानिए क्या है वजह

- Advertisement -

नई दिल्ली। नशे में टल्ली लोगों को तो काफी बार देखा होगा लेकिन क्या कभी मछलियों को नशे में देखा है। सुनकर हंसी भी आती है लेकिन ये सच है। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के बालाघाट में आदिवासी मछलियों को नशा देकर उसे आसानी से पकड़ लेते हैं। दरअसल, कोरोना वायरस लॉकडाउन (Lockdown) की वजह से बैगा समुदाय के आदिवासियों की रोजी-रोटी पर संकट आ गया है। उनके लिए दो वक्त का खाना जुटाना भी मुश्किल हो गया। इसके बाद वो अपने आसपास पाई जाने वाली मछलियों से अपने परिवार का पेट भरने लगे। ज्यादा संख्या में मछलियों (Fishes) को पकड़ने के लिए उन्होंने एक पुरानी तरकीब खोजी और एक फल के जरिए मछलियों को नशा देकर बेहोश होने पर उन्हें आसानी से पकड़ने लगे।

यह भी पढ़ें: बीजेपी अध्यक्ष Nadda इस माह में कर सकते हैं नई टीम का गठन, कौन लेगा Jaitley-Sushma Swaraj


टोंडरी को कूट कर नदी-नालों में मिला देते हैं आदिवासी

जिस फल से मछलियों को नशा दिया जाता है उसे टोंडरी कहते हैं जो जंगलों में आसानी से मिल जाता है। आदिवासी टोंडरी को कूट कर उसे अपने आसपास के नदी-नालों और गड्ढों में मिला देते हैं। मछलियों तक यह जैसे ही पहुंचता है वो बेहोश हो जाती हैं जिसके बाद आदिवासी आसानी से उन्हें पकड़ कर अपना भोजना बना लेते हैं। प्रकृति के बेहद करीब रहने वाले बैगा जनजाति के लोगों का रहन-सहन आज भी प्राचीन तौर-तरीकों पर ही निर्भर है। ये लोग प्राचीन परंपरा के तहत ही मछलियों को नशा देकर अपने भोजन के रूप में उसका इस्तेमाल करते हैं।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group…

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है