Covid-19 Update

2,00,410
मामले (हिमाचल)
1,94,249
मरीज ठीक हुए
3,426
मौत
29,933,497
मामले (भारत)
179,127,503
मामले (दुनिया)
×

मंडी के लोग चाहे टोटल लॉकडाउन, ये कोरोना कर्फ्यू तो मजाक है साहब

सब कुछ खुला रखकर सिर्फ कुछ बंदिशें लगाने पर मुखर हुए लोग

मंडी के लोग चाहे टोटल लॉकडाउन, ये कोरोना कर्फ्यू तो मजाक है साहब

- Advertisement -

मंडी। छोटी काशी के नाम से विख्यात मंडी शहर के लोग राज्य सरकार द्वारा लगाए गए कोरोना कर्फ्यू ( Corona curfew) से नाखुश नजर आ रहे हैं जबकि लोग सख्ती के साथ लॉकडाउन ( Strictly lockdown) लगाने के पक्ष में अपनी बात रख रहे हैं। आज से जारी कोरोना कर्फ्यू के पहले दिन लोगों ने राज्य सरकार को यह सुझाव दिया। हालांकि कोरोना कर्फ्यू के पहले दिन की बात करें तो मंडी शहर में सिर्फ वही दुकानें खुली रही जिन्हें सरकार ने खोलने की अनुमति दे रखी है। इसके अवाला गैरजरूरी दुकानें ( Shops)पूरी तरह से बंद रही। वहीं आम दिनों की तुलना में शहर में काफी कम भीड़ देखने को मिली। लोग सिर्फ अपनी जरूरत का सामान लेने ही बाजारों की तरफ आए और उसके बाद वापिस घरों की तरफ लौट गए।

ये भी पढ़ें: Curfew में ये खोल बैठे थे “दुकान” , फिर जो हुआ Videoदेखकर समझ जाएंगे आप

लोग कर्फ्यू से नाखुश, बता रहे सिर्फ मजाक


लेकिन लोग कोरोना कर्फ्यू में सरकार की तरफ से दी जा रही रियायतों ( Concessions)को घातक बता रहे हैं। मंडी शहर निवासी सचिन शर्मा का कहना है कि सरकार को कंपलीट लॉकडाउन लगाना चाहिए और जरूरत की दुकानें एक निर्धारित समय में ही खोलनी चाहिए। सख्ती के साथ लॉकडाउन लगाया जाना चाहिए। वहीं गौरव कुमार का कहना है कि शहर में दो हजार दुकानों में से सरकार ने 1500 दुकानें खुली रखने का निर्णय लिया है जोकि किसी मजाक से कम प्रतीत नहीं हो रहा है। सरकार को कोरोना की रोकथाम के लिए सही और सख्त फैसला करने की जरूरत है। उमेश कुमार का कहना है कि जितनी ढील सरकार ने दे रखी है उससे कोरोना संक्रमण ( Corona infection) के ज्यादा फैलने का खतरा बना हुआ है। बाहर से पर्यटकों के आने पर भी कोई रोक नहीं है। परविंदर कुमार का कहना है कि भीड़ अब भी जुट रही है और बाहर से लोग अब भी आ रहे हैं जबकि कोई सख्ती नजर नहीं आ रही है। यदि सख्ती करनी है तो भी पूरे तरीके से करनी पड़ेगी। वहीं पारस वैद्य का कहना है कि कर्फ्यू कहीं भी नजर नहीं आ रहा है, जिसकी जहां मर्जी है वो वहां पर घूम रहा है। सरकार को चाहिए था कि कंपलीट लॉकडाउन लगाते और वालंटियर सेवाएं देते।

लोगों को खुद भी सहयोग करने की जरूरत

हालांकि लोकतंत्र में लोगों को अपनी बात रखने का अधिकार है लेकिन वायरस ( Virus)की रोकथाम में भी अपना सहयोग देने का योगदान देना चाहिए। सरकार ने कोरोना कर्फ्यू सिर्फ इस मंशा के साथ लगाया है कि न तो लोगों को परेशानी हो और न ही लोग बेवजह घरों से बाहर निकलें। आर्थिक गतिविधियों को ध्यान में रखते हुए ही सरकार ने रियायतें भी दी हैं। लेकिन अब यह लोगों पर ही निर्भर करता है कि इस महामारी की समाप्ति के लिए उन्हें सरकार से ज्यादा खुद पर सख्ती की जरूरत है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है