Covid-19 Update

59,065
मामले (हिमाचल)
57,507
मरीज ठीक हुए
984
मौत
11,210,799
मामले (भारत)
117,078,869
मामले (दुनिया)

Thailand के इस मंदिर में ताबूत में जिंदा लेटते हैं लोग, जानिए क्या है वजह

फूलों, मोमबत्ती व कपड़े पर खर्च होते हैं लगभग 3.30 डॉलर

Thailand के इस मंदिर में ताबूत में जिंदा लेटते हैं लोग, जानिए क्या है वजह

- Advertisement -

थाईलैंड की राजधानी बैंकॉक (Bangkok) के बाहरी इलाके में एक मंदिर है। यहां पर एक हैरत अंगेज कारनामा होता है जो अप को अचंभित कर देगा। तो सुनिए यहां रोजाना होने वाले एक अनुष्ठान में भाग लेने वाले लोग फूलों का एक गुलदस्ता लेकर ताबूत में लेट जाते हैं, जिसे फिर चादर से ढक दिया जाता है। Wat Bangna Nai temple में हर दिन 100 से ज्यादा लोग इस उम्मीद में अनुष्ठान में शामिल होते कि वो अपनी किस्मत को बेहतर कर सकें या जिंदगी में उन्हें एक नई शुरुआत मिल सके। वहीं महामारी के दौरान जिंदगी की कठिनाईयों ने कुछ लोगों के लिए इस अनुष्ठान को खास बना दिया है।

यह भी पढ़ें: खुशखबरीः बुकिंग के 45 मिनट बाद ही हो जाएगी Gas Cylinder की डिलीवरी

इस सेरेमनी में शामिल लोगों को फूलों, मोमबत्ती और कपड़े के लिए लगभग 3.30 डालर खर्च करते हैं। सभी मोंक के निर्देशों का भी पालन करते हैं। सबसे पहले वे एक ताबूत में लेटते हैं इस दौरान उनका शरीर पश्चिम की तरफ रहता है, लेकिन बाद में पुर्नजन्म के प्रतीक के तौर पर साइड बदल दी जाती है। थाईलेंड (Thailand) में इस मदिर में कई तरह की सेरेमनी आयोजित की जा रही है। सेरेमनी करवाने वाले मोंक कहते हैं कि जब कुछ लोगों ने इस अनुष्ठान की आलोचना की तो उन्होंने पाया कि मौत के बारे में सोचना भी जरूरी है। यह लोगों को याद दिलाता है कि एक दिन दुनिया को छोड़ हमेशा के लिए चले जाएंगे। इसलिए हमें यह ध्यान रखना चाहिए कि हम कि तरह की जिंदगी जी रहे हैं।

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है