Covid-19 Update

1,32,763
मामले (हिमाचल)
99,188
मरीज ठीक हुए
1906
मौत
22,662,575
मामले (भारत)
159,067,118
मामले (दुनिया)
×

बरमाणा में ACC सीमेंट कंपनी के खिलाफ अनिश्चितकालीन धरना शुरू

बिटिया फाउंडेशन की राष्ट्रीय अध्यक्ष सीमा संख्यान की अगुवाई में हुआ शुरू

बरमाणा में ACC सीमेंट कंपनी के खिलाफ अनिश्चितकालीन धरना शुरू

- Advertisement -

बिलासपुर। बरमाणा (Barmana) में एसीसी सीमेंट कंपनी (ACC Cement Company) के खिलाफ बिटिया फाउंडेशन की राष्ट्रीय अध्यक्ष सीमा संख्यान स्थानीय जनता के साथ अनिश्चितकालीन धरने पर बैठ गई हैं। विस्थापित एवं प्रभावित जनता जो कई वर्ष से एसीसी सीमेंट कंपनी से प्रताड़ित है, पिछले सप्ताह बिटिया फाउंडेशन की राष्ट्रीय अध्यक्ष सीमा संख्यान की अगुवाई में डीसी बिलासपुर (DC Bilaspur) से अपनी मांगों को लेकर मिले थे। उनको अपनी समस्याओं को लेकर ज्ञापन देकर अवगत करवाया था,  जिसमें अपनी मांगों का समाधान करवाने के लिए चार दिन का वक्त दिया था। जब चार दिन में कोई जवाब नहीं आया तो बिटिया फाउंडेशन की राष्ट्रीय अध्यक्ष सीमा संख्यान एवं बरमाणा की विस्थापित एवं प्रभावित जनता ने सांकेतिक धरना प्रदर्शन किया और एक सप्ताह का समय फिर दिया, लेकिन प्रशासन और एसीसी सीमेंट कंपनी के पदाधिकारियों के कानों में जूं तक नहीं रेंगी। इसके बाद आज अनिश्चितकालीन धरना शुरू कर दिया गया है।


यह भी पढ़ें: Himachal : क्षत्रीय महासभा कल सचिवालय के बाहर करेगी महाधरना, आत्मदाह की भी दी चेतावनी

 

सीमा संख्यान ने कहा कि एसीसी सीमेंट कंपनी ने बरमाणा, पंजगाईं, धौणकोठी और साथ लगती पंचायतों से कूड़े के भाव जमीनें खरीद लीं, जिसके मुआवजे से ना तो और जमीन ही खरीदी गई और ना ही घर बना पाए। कुछ लोगों को छोड़ कर ना ही यहां के लोगों को नौकरी दी जाती है, ना ही कोई और रोजगार (Job) यहां के लोगों के पास है। जो थोड़ी बहुत जमीनें लोगों के पास बची हैं, वहां जब लोगों ने अपने घर बनाए और खेती करने जाना पड़ा तो एसीसी सीमेंट कंपनी के पदाधिकारियों ने इन लोगों के रास्ते ऊंची दीवार लगा कर बंद कर दिए। आज यहां के नौजवान बच्चे पढ़ लिख कर अपने घरों में बैठे हैं, उनको कोई रोजगार एसीसी सीमेंट कंपनी की तरफ से नहीं दिया जाता है, जबकि बाहरी राज्यों के लोगों को रोजगार दिया जाता है। इसी वजह से आज के नौजवान नशे की चपेट में आ रहे हैं। सीमा संख्यान ने कहा कि उन्होंने खुद देखा है, एसीसी सीमेंट कंपनी में कुछ दिन पहले लगभग 10 से 15 लड़कियों की भर्ती एसीसी सीमेंट कंपनी ने की, लेकिन एक भी लड़की यहां की नहीं है।
सीमा संख्यान ने कहा कि एसीसी सीमेंट कंपनी से इतना ज्यादा खतरनाक प्रदूषण निकलता है, जिससे यहां के विस्थापित एवं प्रभावित जनता भयानक बीमारियों की चपेट में आ रही है। अगर आज भी सर्वेक्षण करवाया जाए तो आधे से ज्यादा लोग भयानक बीमारियों की चपेट में निकलेंगे। उन्होंने प्रशासन और एसीसी सीमेंट कंपनी के पदाधिकारियों को चेतावनी दी है कि अगर उनकी इन मांगों को नहीं माना गया तो इसका परिणाम भुगतने के लिए तैयार रहें।

 

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है